यमन

यमन के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि हैं ग्रूण्डबर्ग, देश में ताज़ा स्थिति के बारे में, सुरक्षा परिषद को अवगत कराते हुए.
UN Photo/Eskinder Debebe

यमन: ऐतिहासिक युद्ध विराम समझौते को आगे बढ़ाने का आग्रह

यमन में संयुक्त राष्ट्र के समर्थन से हासिल किये गए ऐतिहासिक युद्ध विराम समझौते को लागू हुए लगभग चार महीने पूरे हो गए हैं, और विशेष दूत हैंस ग्रूण्डबर्ग ने गुरूवार को यमन सरकार और हूथी विद्रोहियों से, इस “परिवर्तनकारी” समझौते को आगे बढाने की दिशा में काम करने का आग्रह किया है, जो 2 अगस्त को ख़त्म हो रहा है.

यमन के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि हैन्स ग्रुण्डबर्ग, देश में ताज़ा स्थिति के बारे में, सुरक्षा परिषद को अवगत कराते हुए.
UN Photo/Eskinder Debebe

यमन: युद्ध विराम समझौता बरक़रार, मगर और ज़्यादा उपायों की दरकार

सुरक्षा परिषद को बताया गया है कि यमन में असाधारण युद्ध विराम समझौता लागू होने के बाद से लड़ाई में कमी और अन्य सकारात्मक घटनाक्रम देखे गए हैं, मगर इस युद्ध विराम समझौते को सम्पूर्ण रूप से लागू करने और बढ़ती मानवीय ज़रूरतों व असुरक्षा के समाधान निकालने के लिये कार्रवाई किये जाने की ज़रूरत पर भी ज़ोर दिया गया है.

यमन के अल धलए में विस्थापितों के लिये बनाए गए शिविर में एक परिवार.
YPN for UNOCHA

यमन: 'युद्ध विराम समझौते की कामयाबी,पक्षों की प्रतिबद्धता पर निर्भर'

यमन के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत हैन्स ग्रुण्डबर्ग ने कहा है कि देश में रमदान महीने के साथ ही शनिवार, 2 अप्रैल को शुरू हुए दो महीने के युद्धविराम समझौते की कामयाबी के लिये, संकल्प व प्रतिबद्धता बहुत महत्वपूर्ण कारक साबित होंगे.

यमन के साआदा में, एक ध्वस्त वाहन के पास खड़े दो लड़के.
© WFP/Jonathan Dumont

सऊदी अरब और यमन में नागरिक प्रतिष्ठानों पर हमलों की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यमन और सऊदी अरब में हाल के दिनों में हिंसक टकराव में आई तेज़ी और नागरिक प्रतिष्ठानों पर किये गए हमलों पर चिन्ता जताई है. 

यमन के साआदा में, एक ध्वस्त वाहन के पास खड़े दो लड़के.
© WFP/Jonathan Dumont

यमन: पिछले सप्ताह गठबन्धन के हमले में 91 की मौत और सैकड़ों घायल

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय ने शुक्रवार को कहा है कि यमन में सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबन्धन ने पिछले सप्ताह उत्तरी शहर – साआदा में एक बन्दीगृह पर जो हवाई हमले किये थे, उनमें, आरम्भिक ख़बरों के अनुसार 91 लोग मारे गए और अनेक अन्य घायल हुए हैं. 

यमन में पिछले कई वर्षों से हिंसक संघर्ष का सामना कर रहा है, जिससे बड़े पैमाने पर तबाही हुई है.
UNOCHA/Giles Clarke

यमन: जनवरी में, रिकॉर्ड संख्या में आम नागरिकों के हताहत होने की आशंका

यमन में गहन होती हिंसा की आँच, देश के सीमाओं तक पहुँच रही है और हताहतों का आँकड़ा लगातार बढ़ रहा है. इसके मद्देनज़र, यमन के लिये विशेष दूत और मानवीय राहत समन्वयक ने एक साझा बयान कर जारी करते हुए मौजूदा घटनाक्रम पर चिन्ता व्यक्त की है.

एक महिला, गम्भीर कुपोषण का शिकार अपने बच्चे को हुदायदाह के एक स्वास्थ्य केंद्र ले जा रही है.
UNICEF/Taha Almahbashi

यमन: सऊदी गठबन्धन की कार्रवाई में जान-माल का नुक़सान, हमलों की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को, यमन में सऊदी-नेतृत्व वाले गठबन्धन द्वारा हवाई कार्रवाई किये जाने की निन्दा की है. इस हमले में विद्रोही हूथी लड़ाकों के क़ब्ज़े वाले साडा शहर में, एक हिरासत केन्द्र क्षतिग्रस्त होने से कम से कम 60 लोगों की मौत हुई है और 100 से ज़्यादा घायल हुए हैं.  

यमन की राजधानी सना के एक पुरानी बस्ती इलाक़े में, हवाई हमलों से ध्वस्त हुई इमारत का दृश्य.
© UNICEF/Alessio Romenzi

यमन: हिंसा में झुलस रहे - आमजन व नागरिक प्रतिष्ठान, यूएन की चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने यमन में हिंसक टकराव के लगातार बढ़ने पर गहरी चिन्ता जताते हुए कहा है कि इस वर्ष के शुरुआती दिनों में, ड्रोन और हवाई हमलों में तेज़ी आई है, जिसकी चपेट में आने से आम लोग मारे गए हैं और नागरिक प्रतिष्ठानों को क्षति पहुँची है.

यमन में हिंसा के दौरान एक बुरी तरह जल चुकी कार.
© UNOCHA/Giles Clarke

यमन: हिंसा समाप्ति के लिये राजनैतिक इच्छाशक्ति व ज़िम्मेदार नेतृत्व की दरकार

यमन के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत हैन्स ग्रुण्डबर्ग ने कहा है कि देश में सात वर्षों से चले आ रहे युद्ध का कोई भी दीर्घकालिक समाधान, युद्धभूमि पर ढूंढा जाना सम्भव नहीं है. उन्होंने बुधवार को सुरक्षा परिषद में सदस्य देशों को मौजूदा घटनाक्रम से अवगत कराते हुए, सभी युद्धरत पक्षों से वार्ता का हिस्सा बनने की पुकार लगाई है.

यमन के अदन शहर में, संघर्ष के कारण कई बच्चे विस्थापित हो गए.
Credit English (NAMS) UNICEF/Ahmed Abdulhaleem

संघर्षों के दौरान बाल अधिकारों की रक्षा की अपील

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने आगाह किया है कि वर्ष 2021 के दौरान, संघर्षों में बाल मानवाधिकारों के गम्भीर उल्लंघन की घटनाएँ सामने आईं हैं और सशस्त्र संघर्ष, साम्प्रदायिक हिंसा एवं असुरक्षा के कारण, अफ़ग़ानिस्तान, यमन और सीरिया से लेकर उत्तरी इथियोपिया तक, हज़ारों बच्चों ने विनाशकारी क़ीमत चुकाई है. यूनीसेफ़ की कार्यकारी निदेशक ने, सभी पक्षों से बच्चों के विरुद्ध हमले रोकने, उनके अधिकारों का सम्मान करने और युद्ध के शान्तिपूर्ण राजनैतिक समाधान का आहवान किया. एक वीडियो रिपोर्ट...