Top News

76वाँ सत्र: भरोसे की पुनर्बहाली और आशा का संचार, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह किया है कि मानवता, ग़लत दिशा में आगे बढ़ते हुए रसातल के मुहाने पर पहुँच चुकी है. उन्होंने मंगलवार को यूएन महासभा के 76वें सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि मौजूदा हालात को ध्यान में रखते हुए दुनिया को नीन्द से जागना होगा. 

सम्पादकीय चयन

विशेष

इस साल की संयुक्त राष्ट्र महासभा में जहाँ कुछ नेता व्यक्तिगत रूप से शामिल होंगे, वहीं बाकी अभी भी वर्चुअल रूप से हिस्सा लेंगे.
UN Photo/Loey Felipe
इस साल की संयुक्त राष्ट्र महासभा में जहाँ कुछ नेता व्यक्तिगत रूप से शामिल होंगे, वहीं बाकी अभी भी वर्चुअल रूप से हिस्सा लेंगे.

यूएन महासभा का 76वाँ सत्र, पाँच प्रमुख बातें जो चर्चा में रहेंगी

यूएन मामलेसंयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वाँ सत्र, 14 सितम्बर को शुरू हो गया है, और यह 2020 के पूर्ण वर्चुअल सत्र से बहुत अलग होगा. यूएन महासभा के 76वें सत्र पर भी कोविड-19 की परछाई तो रहेगी, लेकिन यह देशों के नेताओं को (कुछ को व्यक्तिगत रूप से) सामने नज़र आ रही वैश्विक चुनौतियों को सम्बोधित करने से नहीं रोक पाएगी. यहाँ प्रस्तुत हैं ऐसे पाँच तथ्य, जो आपको 2021 की "हाइब्रिड" महासभा के बारे में जानकारी के लिये महत्वपूर्ण होंगे.

फ़ोटो कहानियाँ

अर्जेन्टीना के ब्यूनस आयर्स में कोविड-19 महामारी के दौरान लिये गए इस फोटो में, जॉर्ग और उनकी बेटी, एंजेल्स साथ खेल रहे हैं.
Constanza Portnoy

मानवता के लिये फ़ोटोग्राफ़ी

'मानवता के लिये फ़ोटोग्राफ़ी' एक ऐसी अन्तरराष्ट्रीय पहल है, जिसके तहत दुनिया भर में फ़ोटोग्राफ़रों से तस्वीरों के ज़रिये, मानवाधिकारों की ताक़त को मूर्त रूप दिये जाने की पुकार लगाई गई है. इन चुनिन्दा तस्वीरों में साहस, निराशा, उम्मीद, अन्याय, करूणा भाव को उकेरती, मानवाधिकारों से जुड़ी प्रेरणादायी कहानियों को सामने रखा गया है. 

ये भी ख़बरों में

अफ़ग़ानिस्तान के हेरात प्रान्त में, एक स्कूल में वॉलीबॉल खेलती कुछ स्कूली लड़कियाँ. ये तस्वीर 2016 की है.
UNAMA

अफ़ग़ानिस्तान: यूनीसेफ़ का ज़ोर, लड़कियों को तालीम से वंचित ना रखा जाए

महिलाएं संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने अफ़ग़ानिस्तान से मिली इन ख़बरों का स्वागत किया है कि वहाँ शनिवार से सैकण्डरी स्कूल खोले जा रहे हैं. कोविड-19 के कारण, कई महीनों से ये स्कूल बन्द थे. मगर, यूनीसेफ़ ने ज़ोर देकर ये भी कहा है कि लड़कियों को, स्कूलों से बाहर नहीं रखा जाए, यानि उन्हें भी स्कूलों में जाकर शिक्षा हासिल करने का मौक़ा दिया जाए.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन.
UNAMA/Fardin Waezi

अफ़ग़ानिस्तान: सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पारित, महिलाओं की ‘अर्थपूर्ण भागीदारी’ का आग्रह

शांति और सुरक्षा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने शुक्रवार को सर्वमत से एक प्रस्ताव पारित करते हुए, अफ़ग़ानिस्तान में यूएन मिशन के आदेशपत्र (mandate) की अवधि को छह महीने के लिये बढ़ा दिया है. इस प्रस्ताव में सार्वजनिक जीवन में महिलाओं की समान व अर्थपूर्ण भागीदारी की अहमियत पर विशेष बल दिया गया है.