कश्मीर में भारत सरकार से प्रतिबंध हटाने की पुकार

मानवाधिकार
Nimisha Jaiswal/IRIN

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने भारत सरकार से उसके प्रशासन वाले कश्मीर में उन प्रतिबंधों को हटाने का आहवान किया है जो अगस्त महीने के आरंभ में लगाए गए थे. इनमें विचार व्यक्त करने पर पाबंदी, सूचना पाने और शांतिपूर्ण तरीक़े से प्रदर्शनों पर प्रतिबंध शामिल हैं. 

Saeed Rashid

समुद्रों को सहेजकर रखने के लिए समझौते की कोशिश

समुंदरों में ज़ाहिरा तौर पर तो लगभग दो लाख प्रजातियों की मौजदूगी के बारे में जानकारी उपलब्ध है मगर असल में ये संख्या लाखों में होने के अनुमान व्यक्त किए गए हैं. चिंता की बात ये है कि ये समुद्री प्रजातियाँ जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और दोहर के ख़तरों का सामना कर रही हैं.

 

John Hogg / World Bank

‘जल गुणवत्ता के अदृश्य संकट’ से मानवता और पर्यावरण को बड़ा ख़तरा

विश्व बैंक की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि जल की गुणवत्ता बदतर होती जा रही है जिससे भारी प्रदूषण के शिकार इलाक़ों में आर्थिक संभावनाओं पर बुरा असर पड़ेगा. मंगलवार को जारी इस रिपोर्ट में सचेत किया गया है कि जल की ख़राब गुणवत्ता एक ऐसा संकट है जिससे मानवता और पर्यावरण के लिए ख़तरा पैदा हो रहा है.

UNICEF/Brown

कठिन परिस्थितियों में राहत प्रयासों में जुटी महिला सहायताकर्मियों को सम्मान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ‘विश्व मानवीय दिवस 2019’ पर उन सभी महिला मानवीय सहायताकर्मियों को श्रृद्धांजलि दी है जो लाखों-करोड़ों ज़रूरतमंद महिलाओं, पुरुषों और बच्चों के जीवन में बड़ा बदलाव ला रही हैं. इस दिवस पर जारी अपने संदेश में उन्होंने अपील की है कि मानवीय काम में जुटे लोगों की अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों के तहत रक्षा सुनिश्चित होनी चाहिए.

UNAMA/Fardin Waezi

हिंसा और अस्थिरता से जूझते अफ़ग़ानिस्तान की आज़ादी के 100 वर्ष

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNAMA) के प्रमुख तादामीची यामामोतो ने कहा है कि स्वाधीनता के 100 वर्ष पूरे कर रहे अफ़ग़ानिस्तान के लिए यह एक अहम क्षण है और आने वाले दिनों में चुनावों से शांति स्थापना की दिशा में प्रगति होने की आशा है. लेकिन देश पर हिंसा और अस्थिरता का संकट अब भी मंडरा रहा है और हाल के दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में आतंकी हमलों में आम लोगों को निशाना बनाया गया है जिसकी संयुक्त राष्ट्र ने कड़े शब्दों में निंदा की है.

UN News/Daniel Johnson

श्रीलंका के तथाकथित 'युद्धापराधी' लैफ़्टिनेंट-जनरल की पदोन्नति पर 'गहरी चिंता'

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार मामलों (OHCHR) की प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने श्रीलंका में लैफ़्टिनेंट-जनरल शावेन्द्र सिल्वा को सेना का कमांडर नियुक्त किए जाने को चिंताजनक क़रार दिया है. सोमवार को जारी अपने एक बयान में उन्होंने कहा कि लैफ़्टिनेंट - जनरल शवेन्द्र सिल्वा को अहम भूमिकाएं दी गई हैं जबकि उनके और उनके सैनिकों पर अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार व मानवीय क़ानून का उल्लंघन करने के गंभीर आरोप लगे हैं.

एक नज़र में मुख्य बातें