स्वास्थ्य

'ईबोला से एक कदम आगे रहने की ज़रूरत'

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने सचेत किया है कि कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य के पूर्वी हिस्से में अगर ज़रूरी निवेश नही किया गया और वहां असुरक्षा कायम रही तो ईबोला संक्रमण तेज़ी से फैलने का ख़तरा बढ़ जाएगा. उन्होंने कहा कि ऐसे रास्ते ढूंढे जाने चाहिए ताकि ईबोला वायरस से लड़ाई में हमेशा  आगे रहा जा सके. 

एक साल में दोगुने हुए खसरे के मामले

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि दुनिया भर में खसरे के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है जो चिंता का कारण है. शुरुआती आंकड़े दिखाते हैं कि 2017 की तुलना में 2018 में खसरे के दोगुने मामले सामने आए हैं. इनसे निपटने के लिए टीकाकरण कार्यक्रमों की आवश्यकता पर ज़ोर दिया जा रहा है. 

दूषित भोजन से होने वाली मौतों को रोकना 'साझा दायित्व'

हर साल, जीवाणुओं, विषाणुओं, परजीवियों, विषैले तत्वों और रसायनों से दूषित भोजन 60 करोड़ से अधिक लोगों की बीमारियों का कारण बनता है. चार लाख से ज़्यादा लोगों की मौत प्रति वर्ष असुरक्षित भोजन की वजह से होती है. ऐसे में खाद्य श्रृंखला को सुरक्षित बनाने के प्रयासों के तहत अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने के रास्तों पर एक सम्मेलन में विचार हो रहा है. 

तेज़ आवाज़ में संगीत सुनना नुक़सानदेह, नए यूएन दिशानिर्देश जारी

स्मार्टफ़ोन पर तेज़ आवाज़ में गाने सुनने की आदत बड़ी मुश्किलें पैदा कर सकती है. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा है कि दुनिया में 12 से 35 साल की उम्र के 1 अरब से ज़्यादा लोगों को सुनने की शक्ति कम होने या उसे पूरी तरह खोने के जोखिम का सामना करना पड़ सकता है. 

टीबी के ख़िलाफ़ लड़ाई में ठोस प्रगति

टीबी से पीड़ित लेकिन अपनी बीमारी से अनजान 15 लाख मरीज़ों का इस साल के आख़िर तक पता लगाने और उनका इलाज करने की एक संयुक्त पहल के ठोस परिणाम सामने आए हैं. तपेदिक की बीमारी का बोझ झेल रहे भारत सहित छह एशियाई देशों ने सिर्फ़ पिछले साल टीबी के साढ़े चार लाख नए मामलों का पता लगाया है.  

सर्वाइकल कैंसर का जल्द निदान बचा सकता है लाखों महिलाओं की जान

सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम और इलाज सफल होने की अधिक संभावनाओं के बावजूद हर साल 3 लाख से ज्यादा महिलाओं को कैंसर का यह रूप अपना शिकार बनाता है. हर एक मिनट में एक महिला में इस बीमारी की पहचान होती है. विश्व कैंसर दिवस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि सर्वाइकल कैंसर से मौत का शिकार होने वाली हर दस में से नौ महिलाएं गरीब देशों की होती हैं.

ग़ाज़ा में गहराते ईंधन संकट से मरीज़ों की मुश्किलें बढ़ीं

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि ग़ाज़ा में ईंधन संकट के चलते अस्पताओं में आपात सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही हैं जिससे मरीज़ों की जान को ख़तरा पैदा हो गया है.  संगठन ने स्थानीय प्रशासन और सभी पक्षों से अपनी ज़िम्मेदारी समझने और ज़रूरी स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए हरसंभव प्रयास करने की अपील की है. 

यूरोपीय नागरिकों की तुलना में विस्थापितों को बीमारियों का ख़तरा अधिक

सुरक्षित देश में शरण लेने के लिए लंबे सफ़र, ख़राब परिस्थितियों में रहने की मजबूरी और जीवनशैली में आए बदलाव से यूरोप में प्रवासियों और शरणार्थियों के स्वास्थ्य को ख़तरे की आशंका बढ़ जाती है. ये निष्कर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की ओर से जारी एक नई रिपोर्ट में सामने आए हैं जिसमें पहली बार यूरोप पहुंचने वाले विस्थापितों के स्वास्थ्य से जुड़ी मुश्किलों को समझने का प्रयास किया गया है. 

ब्रेल दिवस पर नेत्रहीनों के मानवाधिकारों के प्रति जागरूकता पर ज़ोर

दृष्टिबाधिता से पीड़ित लोगो के मानवाधिकारों और ब्रेल लिपि के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्र आधिकारिक रूप से पहली बार विश्व ब्रेल दिवस मना रहा है. दुनिया भर में एक अरब से ज़्यादा लोग नेत्रहीनता या मंददृष्टि से पीड़ित हैं. अब से हर बार यह दिवस 4 जनवरी को मनाया जाएगा.

सौर ऊर्जा से स्वास्थ्य सेवाओं को मिली मज़बूती

दुनिया के कई इलाक़े ऐसे हैं जहां बिजली सेवा या तो अभी नहीं पहुंची है या फिर उसकी निर्बाध आपूर्ति अब भी एक सपना है. लेकिन अफ़्रीका में कई देशों में स्थानीय चिकित्सा केंद्र अब एक ऐसी योजना का लाभ उठा रहे हैं जिसमें उन्हें सोलर पैनल के ज़रिए बिजली मिल रही है.