मध्य पूर्व

पूर्वोत्तर सीरिया में हिंसा के बीच डेढ़ लाख से ज़्यादा विस्थापन को मजबूर

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय राहत कार्यालय (UNOCHA) ने कहा है कि पूर्वोत्तर सीरिया में लगभग दो हफ़्तों से चली आ रही हिंसा के कारण अब तक एक लाख 80 हज़ार से ज़्यादा लोग अपने घरों और शरणगाहों को छोड़ने पर मजबूर हुए हैं. इनमें 80 हज़ार से ज़्यादा बच्चे भी हैं और सभी विस्थापितों को तत्काल मानवीय सहायता की आवश्यकता है.

हज़ारों सीरियाई लोग असुरक्षा के बीच इराक़ पहुँचने को मजबूर

संयुक्त राष्ट्र ने शुक्रवार को बताया है कि तुर्की की सेनाओं और सीरिया समर्थित कुर्दिश मिलिटरी के बीच युद्धक गतिविधियाँ रोकने का समझौता होने के बावजूद - सीरिया के उत्तरी हिस्से में तुर्की की सीमा से सटे इलाक़ों में बमबारी और युद्धक झड़पें जारी हैं जिनकी वजह से हज़ारों लोग शांति व सुरक्षा की तलाश में वहाँ से जा रहे हैं.

यमन: हिंसा में कमी और सहायता राशि में वृद्धि से उम्मीदें बंधी

यमन में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा है कि देश में हिंसा में कमी आने के बाद वहां बदहाल हालात में जीवन गुज़ार रहे आम लोगों के लिए आशा बंधने के संकेत मिले हैं. ज़रूरतमंदों के लिए सहायता राशि में 20 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ है जिसके बाद बंद पड़े मानवीय राहत कार्यक्रम फिर से शुरू कर दिए गए हैं लेकिन हिंसा पर पूर्ण विराम लगाने के लिए अभी और ज़्यादा प्रयास करने होंगे.

सीरिया: सैन्य अभियान के बीच दाएश लड़ाकों के छूट जाने का ख़तरा

सीरिया के पूर्वोत्तर इलाक़े में तुर्की की सैन्य कार्रवाई से आतंकवादी गुट आईसिल (दाएश) के बड़ी संख्या में लड़ाकों की अनचाही रिहाई की आशंका जताई गई है जिसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने हिंसा प्रभावित क्षेत्र में बदहाल सुरक्षा व्यवस्था और चरमराते स्वास्थ्य तंत्र के बीच लड़ाई तुरंत रोके जाने और हर हाल में आम नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील की है.

सीरिया में सैन्य तनाव बढ़ने पर आम लोगों की सुरक्षा की चिंता

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (यूएनएचसीआर) ने गुरूवार को कहा है कि सीरिया के पूर्वोत्तर इलाक़े में हाल के दिनों में बढ़े सैन्य तनाव के कारण लाखों लोगों को सुरक्षा की ख़ातिर वो इलाक़ा छोड़ना पड़ा है. इससे एक दिन पहले यानी बुधवार को ही तुर्की ने सीरिया में कुछ हवाई औरर ज़मीनी हमले किए थे.

इराक़ व अन्य देशों में प्रदर्शनों पर बल प्रयोग पर गंभीर चिंता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय ने इराक़ सरकार से आग्रह किया है कि नागरिकों को अभिव्यक्ति की आज़ादी के अधिकार का इस्तेमाल करने की इजाज़त दी जाए. ये आग्रह उन घटनाओं के बाद किया गया है जब इस सप्ताह के आरंभ में कुछ सरकार विरोधी प्रदर्शनों पर सुरक्षा बलों ने गोलियाँ चलाई थीं.

संवैधानिक समिति का गठन सीरिया के लिए आशा की किरण

सीरिया में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत गेयर पेडरसन ने कहा है कि लंबे समय से हिंसक संघर्ष से पीड़ित लोगों के लिए आशा की किरण दिखाई दे रही है. यूएन के विशेष दूत का इशारा सीरिया में संवैधानिक समिति के गठन से था जिसकी रूप रेखा तैयार हो गई है और अब उसे अक्तूबर महीने से संविधान निर्माण पर विचार विमर्श करना है.

यमन में बंदियों की रिहाई से शांति की उम्मीदें जागी

लंबे समय से युद्ध और अशांति के दंश को झेल रहे यमन में हिंसा के संभावित अंत की उम्मीदें जागी हैं. रिपोर्टों के अनुसार हूती लड़ाकों ने सदभावना भरा रुख़ दर्शाते हुए 300 से ज़्यादा बंदी रिहा कर दिए हैं. यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने इस ख़बर का स्वागत करते हुए इससे दोनों पक्षों में फिर से बातचीत होने की संभावना बढ़ने की उम्मीद जताई है. 

इसराइल: ईरान को परमाणु हथियार बनाने की इजाज़त नहीं दी जा सकती

इसराइल के विदेश मंत्री ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को संबोधित करते हुए कहा है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ईरान को परमाणु हथियार विकसित करने से रोकने के लिए एकजुट होना चाहिए. 

महमूद अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र के मंच से इसराइली "घमंड" को ख़ारिज करते हुए ख़बरदार किया

फ़लस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने गुरूवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए इसराइली सरकार के, उन्हीं के शब्दों में, “घमंडी और आक्रामक” रवैये की निंदा की और संयुक्त राष्ट्र का आहवान किया कि संकट हल करने के लिए दो राष्ट्रों की स्थापना वाले समाधान के लिए ज़ोरदार प्रयास किए जाएँ.