यूरोप

फ्राँस: चर्च में हमले की कड़ी निन्दा, सहिष्णुता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने फ्राँस के दक्षिणी शहर नीस के एक चर्च में चाकू से किये गए हमले की कड़े शब्दों में निन्दा की है. ख़बरों के अनुसार गुरुवार को हुए इस हमले में तीन लोगों की मौत हो गई है. यूएन अलायन्स ऑफ़ सिविलाइज़ेशन्स के उच्च प्रतिनिधि मिगेल मोराटिनोस ने इस बर्बर हमले की निन्दा करते हुए सभी धर्मों व आस्थाओं में पारस्परिक सम्मान और भाईचारे व शान्ति की संस्कृति को बढ़ावा दिये जाने की पुकार लगाई है. 

नागोर्नो-काराबाख़ संघर्ष क्षेत्र में युद्धविराम समझौते का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने नागोर्नो-काराबाख़ संघर्ष क्षेत्र में युद्धविराम पर आर्मीनिया और अज़रबैजान में हुए समझौते का स्वागत किया है. शुक्रवार को रूस में हुई वार्ता के बाद दोनों पक्षों में हिंसा रोकने पर सहमति बनी है. दक्षिण कॉकशेस में नागोर्नो-काराबाख़ सीमा क्षेत्र पिछले तीन दशकों से संघर्ष का शिकार है और सितम्बर के अन्त में आर्मीनिया व अज़रबैजान के सुरक्षा बलों के बीच फिर से हिंसा भड़क उठी थी. 

नागोर्नो-काराबाख़ में जारी युद्धक हिंसा की निन्दा, तुरन्त युद्धविराम की अपील

संयुक्त  राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने नागोर्नो-काराबाख़ संघर्ष क्षेत्र में जारी तनाव और हिंसा की निन्दा की है. उन्होंने सभी सम्बद्ध पक्षों को अन्तरराष्ट्रीय मानवीय क़ानून के तहत उनकी ज़िम्मेदारियाँ निभाने की याद दिलाते हुए कहा है कि नागरिक बुनियादी ढाँचे के साथ-साथ आम लोगों की हिफ़ाज़त सुनिश्चित की जाए. ये इलाक़ा आर्मीनिया और अज़रबैजान देशों के बीच अनेक वर्षों से विवादित है.

अपराधों और जनसंहारों को रोकने से एसडीजी में मिलती है मदद - आईसीसी

अन्तरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय (आसीसी) के अध्यक्ष चिले ईबोई-ओसूजी का कहना है कि जनसंहार, सशस्त्र लड़ाई-झगड़े और क्रूर व भीषण अपराध होने से रोकना टिकाऊ विकास में मददगार साबित होता है. आईसीसी जनसंहार, युद्धापराध, मानवता के विरुद्ध अपराधों और आक्रामकता से जुड़े अपराधों की जाँच-पड़ताल करता है और उनके लिये ज़िम्मेदार लोगों पर मुक़दमे चलाता है. साथ ही, शान्ति व न्याय की स्थापना करना और मज़बूत संस्थानों के निर्माण में, देशों की मदद करने में भी आईसीसी की अहम भूमिका है.

75वाँ सत्र: ब्रिटेन की ओछे मतभेद भुलाकर, साझा दुश्मन के ख़िलाफ़ एकजुटता की पुकार

ब्रिटेन के प्रधानमन्त्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि कोविड-19 महामारी ने मानवता में अभूतपूर्व तरीक़े से एकता पैदा कर दी है. यूएन महासभा के वार्षिक 75वें सत्र के दौरान जनरल डिबेट को दिये वीडियो सन्देश में उन्होंने साथ ही ये भी कहा कि अलबत्ता ये स्वास्थ्य संकट विभाजन के लिये भी एक असाधारण शक्ति साबित हुआ है.

बेलारूस: शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ बल-प्रयोग पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बेलारूस में विवादित राष्ट्रपति चुनाव नतीजों के बाद शान्तिपूर्ण प्रदर्शनों में हिस्सा ले रहे प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ बलपूर्वक कार्रवाई के जारी रहने और उन्हें हिरासत में लिये जाने पर गहरी चिन्ता जताई है. उन्होंने बेलारूस की सरकार को ध्यान दिलाया है कि विरोध-प्रदर्शनकारी अपने लोकतान्त्रिक अधिकारों का इस्तेमाल कर रहे हैं.  

स्विटज़रलैण्ड: आतंकवाद विरोधी विधेयक से ख़तरनाक चलन शुरू होने का डर

संयुक्त राष्ट्र के पाँच मानवाधिकार विशेषज्ञों ने कहा है कि स्विट्ज़रलैण्ड में प्रस्तावित नया आतंकवाद विरोधी विधेयक दुनिया भर में राजनैतिक असहमति को दबाने के लिये एक नया व ख़तरनाक चलन शुरू कर सकता है. इन मानवाधिकार विशेषज्ञों ने कहा है कि ये प्रस्तावित विधेयक इस समय स्विस संसद में विचाराधीन है और सांसदों से इस विधेयक को नामंज़ूर करने का आग्रह किया गया है.

ग्रीस द्वीप में नई आग लगने से बचे-कुछे आवास भी नष्ट, हज़ारों लोग बेघर

ग्रीस के एक द्वीपीय केन्द्र लेसबॉस में नए सिरे से लगी आग ने वहाँ ठहराए गए हज़ारों शरणार्थियों व प्रसावियों के लिये आवासों को नष्ट कर दिया है. इससे पहले मंगलवार शाम को भी वहाँ आग लग चुकी है जिसमें बड़ी संख्या में इन शरणार्थियों व प्रवासियों के आवासों को नुक़सान पहुँचा था.

बेलारूस को प्रदर्शनकारियों पर ज़ुल्म ढाना बन्द करना होगा

संयुक्त राष्ट्र के स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने बेलारूस सरकार का आहवान किया है 9 अगस्त के राष्ट्रपति पद के चुनाव के मुद्दे पर हो रहे व्यापक प्रदर्शनों के दौरान बन्दी बनाए गए लोगों को प्रताड़ित करना बन्द करे, और उन पुलिस अधिकारियों को न्याय के कटघरे में लाया जाए जिन्होंने अपनी हिरासत में रखे गए प्रदर्शनकारियों की कथित रूप में बेइज़्ज़ती व पिटाई की है.

भूमध्यसागर में फँसे शरणार्थियों को जहाज़ो से सुरक्षित उतारे जाने की पुकार 

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने कहा है कि भूमध्यसागर में बचाव एवँ तलाश अभियान के दौरान बचाए गए लोगों को तटों तक सुरक्षित पहुँचाने के लिये जल्द से जल्द प्रयास किये जाने होंगे. ग़ौरतलब है कि 400 से ज़्यादा शरणार्थी व प्रवासी तीन जहाज़ों पर मौजूद हैं और उनमें से कुछ लोग कई हफ़्तों से वहाँ फँसे हुए हैं.  अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने शरणार्थियों व प्रवासियों को सुरक्षित ढँग से उतारे जाने के लिये एक क्षेत्रीय समझौते की ज़रूरत को भी रेखांकित किया है.