एशिया प्रशांत

कोरोनावायरस: फ़िलहाल अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य एमरजेंसी जैसे हालात नहीं

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की आपात समिति ने कहा है कि चीन में कोरोनावायरस फैलने को अंतरराष्ट्रीय चिंता वाली सार्वजनिक स्वास्थ्य एमरजेंसी घोषित करने जैसे हालात अभी नहीं बने हैं. हालांकि समिति के सदस्यों ने माना है कि चीन में इस वायरस के फैलने से हालात गंभीर हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञों की आपात समिति में दो दिन तक गहन चर्चा के बाद भी इस विषय में एक राय नहीं बन पाई.

रोहिंज्या: म्याँमार को समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आदेश

संयुक्त राष्ट्र की क़ानूनी संस्था अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) ने  म्याँमार से देश में अल्पसंख्यक रोहिंज्या समुदाय की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हरसंभव क़दम उठाने को कहा है.  कोर्ट ने गुरूवार को एक 'अस्थाई आदेश' जारी करके जनसंहार के अपराधों से संबंधित तथ्यों को नष्ट होने से बचाने की व्यवस्था करने का भी आग्रह किया है.

प्लास्टिक से बन रही हैं सड़कें भी

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) भारत के अनेक इलाक़ों में प्लास्टिक को री-सायकल यानी फिर से इस्तेमाल करने की परियोजनाओं में सक्रिय योगदान कर रहा है. लोग प्लास्टिक को फेंकने के बजाय उसे कई तरह से इस्तेमाल में ला रहे हैं जिससे रोज़गार भी मिल रहा है. बेकार समझे जाना वाला प्लास्टिक अब बहुत सी महिलाओं में आत्मविश्वास भरने के साथ-साथ उनकी आजीविका का भी साधन बन रहा है. एक झलक...

चीन: कोरोना वायरस के स्रोत का पता लगाने की अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि चीन के लिए यह ज़रूरी है कि कोरोना वायरस के फैलने के स्रोत का पता लगाया जाए जिससे अनेक लोगों के प्रभावित होने के मामले सामने आए हैं. यूएन एजेंसी ने अपने बयान में चीन के वूहान से यात्रा कर रहे एक ऐसे व्यक्ति की भी शिनाख़्त की है जिसे 8 जनवरी को संक्रमण के कारण थाईलैंड के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

यूनीसेफ़: जंगलों में आग से धधकते ऑस्ट्रेलिया को मदद की पेशकश

ऑस्ट्रेलिया को आग की लपटों में झुलसा देने और अपने साथ तबाही लाने वाली भीषण आग से चिंतित संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने ऑस्ट्रेलियाई सरकार और साझेदार संगठनों को राहत प्रयासों में समर्थन देने की पेशकश की है. यूनीसेफ़ के मुताबिक़ ऑस्ट्रेलिया इस समय एक अभूतपूर्व आपदा का सामना कर रहा है.

बांग्लादेश में बांस की खेती को बढ़ावा

बांग्लादेश के कॉक्सेस बाज़ार में विशाल शरणार्थी बस्ती की निर्माण परियोजना के लिए 2 करोड़ 40 लाख से अधिक बांसों की कटाई की गई है. अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (IOM) के सहयोग से स्थानीय प्रशासन बांसों के लिए देश में एक टिकाऊ बाज़ार को सृजित करने का प्रयास कर रहा है जिससे शरणार्थियों की ज़रूरतों को पूरा करने के साथ-साथ इस क्षेत्र को बांस व्यवसाय के केंद्र के रूप में भी विकसित किया जा सकेगा. 

उत्तर कोरिया: परमाणु परीक्षण पर स्वैच्छिक पाबंदी हटाए जाने पर ‘गहरी चिंता’

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने उत्तर कोरिया की ओर से आए उस बयान पर गहरी चिंता व्यक्त की है जिसमें परमाणु और मिसाईल परीक्षण पर लगी स्वैच्छिक रोक को हटाने का संकेत दिया गया है. साथ ही उन्होंने परमाणु मुद्दे पर बातचीत के लिए अपना समर्थन फिर दोहराया है.

टिकाऊ विकास पर प्रगति के आकलन के लिए नया इंडेक्स जारी

भारत में नीति आयोग ने टिकाऊ विकास लक्ष्यों (एसडीजी) पर आधारित 'इंडिया इंडेक्स' का दूसरा संस्करण जारी किया है जिससे यह जानने में मदद मिलेगी कि 2030 एजेंडा को हासिल करने में भारत के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा किए गए प्रयास कितना सफल रहे हैं. 

पाकिस्तान: ईशनिंदा के आरोप में मौत की सज़ा 'न्याय का उपहास है'

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने पाकिस्तान के मुल्तान शहर के एक विश्वविद्यालय शिक्षक जुनैद हफ़ीज़ को ईशनिंदा के आरोप में मौत की सज़ा सुनाए जाने की निंदा की है. उन्होंने इस सज़ा को न्याय का मखौल क़रार देते हुए आशंका जताई है कि मामले की सुनवाई कर रही न्यायिक टीम के सदस्यों में डर का माहौल है.

अफ़ग़ानिस्तान: 'युद्ध के अंत से' ही बंधेगी ख़ुशहाल भविष्य की आशा

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNAMA) के प्रमुख तादामिची यामामोतो ने कहा है कि देश में युद्ध समाप्ति के बाद ही स्थानीय लोगों के समृद्ध भविष्य की कल्पना की जा सकती है. अफ़ग़ानिस्तान में हिंसक संघर्ष लंबे समय से जारी है और पिछले एक दशक में ही एक लाख से ज़्यादा लोग हताहत हुए हैं.