एसडीजी

बांग्लादेश: 'सौर घर प्रणाली कार्यक्रम' साबित हुआ नया विकास वाहक

विश्व बैंक (World Bank) ने अन्य साझीदारों के साथ मिलकर, बांग्लादेश में घरों तक बिजली पहुँचाने के लिये 'सौर ऊर्जा घर प्रणाली' (SHS) कार्यक्रम को वित्तीय पोषण प्रदान किया, जिससे देश की विकास प्रक्रिया में अहम सहयोग मिला है. इस कार्यक्रम के ज़रिये, दूर-दराज़ के क्षेत्रों में समुदायों तक बिजली पहुँचाने वाले एक 'ऑफ़-ग्रिड सौर बाज़ार' के निर्माण के लिये सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच भागीदारी को समर्थन दिया गया. 

 

WHO: नई दवाओं की क़िल्लत से, बेहद ख़तरनाक बैक्टीरिया से ख़तरनाक जोखिम

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि सामान्य संक्रमणों के नए उपचारों के अभाव ने लोगों को, दुनिया के सबसे ख़तरनाक बैक्टीरिया की चपेट के जोखिम का सामना करने के लिये असुरक्षित छोड़ दिया है.

इन्सुलिन सुलभता बढ़ाने और डायबिटीज़ मौतों की संख्या घटाने के लिये ग्लोबल कॉम्पैक्ट 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने डायबिटीज़ (मधुमेह) की विकराल होती चुनौती की पृष्ठभूमि में सस्ती इन्सुलिन की उपलब्धता व पहुँच को बढ़ाने के लिये, अपने प्रयास तेज़ किये हैं. इस जीवनदायी दवा की खोज के 100 वर्ष पूरे होने के मौक़े पर, ‘ग्लोबल डायबिटीज़ कॉम्पैक्ट’ पेश किया गया है जिसका एक अहम उद्देश्य, उन निम्न व मध्य आय वाले देशों में गुणवत्तापूर्ण इन्सुलिन की सुलभता सुनिश्चित करना है जहाँ फ़िलहाल, इसकी माँग को पूरा कर पाना मुश्किल है.    

यूनेस्को की चेतावनी, महामारी से उबरने में, संग्रहालयों की अनदेखी ना हो

संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक एजेंसी – यूनेस्को की प्रमुख ने कहा है कि दुनिया भर में, कोविड-19 महामारी के कारण डरावने और व्यापक प्रतिबन्धों व तालाबन्दियों की स्थिति में, सांस्कृतिक जीवन को फिर से बहाल करने और हमारी साझा विरासत को उसकी पूर्ण विविधता के साथ सहेजने के लिये, संग्रहालय बुनियादी रूप से महत्वपूर्ण हैं.

करोड़ों महिलाएँ अन्य लोगों द्वारा नियंत्रित जीवन जीने को विवश

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग 57 देशों में, तकरीबन आधी महिलाओं को, अपनी स्वास्थ्य देखभाल, गर्भ निरोधक प्रयोग करने या नहीं करने, या यौन जीवन के बारे में अपनी पसन्द से फ़ैसले करने की शक्ति हासिल नहीं है. 

पारम्परिक खाद्य बाज़ारों में वन्य स्तनधारी जीवों की बिक्री पर रोक की माँग 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और उसके साझीदार संगठनों ने देशों से पारम्परिक खाद्य बाज़ारों में जीवित जंगली स्तनपायी पशुओं की बिक्री पर रोक लगाने का आग्रह किया है. यूएन एजेंसी के मुताबिक़ वैश्विक महामारी कोविड-19 जैसी अन्य घातक संक्रामक बीमारियों को उभरने व फैलने से रोकने के लिये यह ज़रूरी है कि इन पारम्परिक बाज़ारों (Wet markets) में सुरक्षा व स्वच्छता मानकों का सख़्ती से पालन किया जाए.  

फ़ुकुशिमा संयंत्र: दूषित जल के निस्तारण में, यूएन एजेंसी देगी जापान को मदद

जापान में वर्ष 2011 में आए भूकम्प व सूनामी से प्रभावित फ़ुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र को ठण्डा करने के लिये इस्तेमाल किये गए दूषित समुद्री जल के विसर्जन की तैयारियाँ की जा रही है. अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के महानिदेशक रफ़ाएल मारिआनो ग्रोसी ने जापान के समाधान को, तकनीकी रूप से सम्भव और अन्तरराष्ट्रीय परिपाटी के अनुरूप बताते हुए इस योजना में हरसम्भव सहयोग देने की बात कही है. 

कोविड-19: ड्रग्स तस्करों पर अंकुश लगाने के प्रयासों में मुश्किलें

विश्व में ड्रग्स समस्या की बढ़ती जटिलताओं की वजह से इस दशक के अन्त तक टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के प्रयासों में नए अवरोध पैदा हो रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के ड्रग्स व अपराध रोकथाम कार्यालय – UNODC की कार्यकारी निदेशक ग़ादा वॉली ने सोमवार को सचेत किया कि कोविड-19 महामारी के दौरान हालात और विकट हो गए हैं. 

कोविड-19: विफलताओं से उबरने के लिये सोच-पद्धति में बदलाव की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विकास के लिये वित्तीय पोषण (Financing for Development) विषय पर आयोजित मंच को सम्बोधित करते हुए आगाह किया है कि कोविड-19 सहित भावी चुनौतियो से निपटने के लिये, निजी क्षेत्र को, ख़ुद को, वैश्विक लक्ष्यों के अनुरूप तैयार करना होगा. उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि ऐसा सम्भव बनाने के लिये सोच-विचार के ढाँचे और कार्यपद्धतियों में पूर्ण रूप से बदलाव की आवश्यकता होगी.

कोविड-19: महामारी का अन्त अभी दूर, मगर आशावान होने की वजह भी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि अनेक देशों में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में तेज़ बढ़ोत्तरी दर्शाती है कि दुनिया अभी, महामारी पर पूर्ण रूप से क़ाबू पाने से दूर है. मगर उन्होंने स्पष्ट किया है कि न्यायसंगत टीकाकरण और साबित हो चुके सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के ज़रिये, कोरोनावायरस को नियन्त्रण में किया जा सकता है, जैसाकि बहुत से देशों ने करके दिखाया है.