महिलाएं

महिलाओं की ख़ातिर यूएन वीमेन

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भारतीय मूल की अनीता भाटिया को मई 2019 में सहायक महासचिव नियुक्त किया था. अनीता भाटिया को विश्व भर में लैंगिक समानता, लड़कियों और महिलाओं की बेहतरी के लिए काम करने वाली यूएन संस्था यूएन वीमेन की डिपुटी कार्यकारी निदेशक की ज़िम्मेदारी सौंपी है. ये पद उन्होंने अगस्त में संभाला और तभी से उन्होंने अनेक देशों का दौरा करके महिलाओं की भलाई के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों का जायज़ा लिया है. यूएन हिन्दी न्यूज़ के साथ ख़ास बातचीत...

कुपोषण से निपटने का अनोखा नुस्ख़ा

भारत के मध्य प्रदेश में महिलाओं ने कुपोषण से निपटने का एक अनोखा तरीक़ा अपनाया है. ये महिलाएँ अपने बाग़ीचों में सात अलग-अलग सब्ज़ियाँ उगाते हैं जिससे उन्हें पूरे सप्ताह खनिज और विटामिनों से भरपूर ताज़ा सब्ज़ियाँ मिलती हैं और बीमारियाँ दूर रहती हैं...

दक्षिण सूडान: लड़कियों को प्रोत्साहन देने की एक अनोखी पहल

दक्षिण सूडान के मालाकाल स्थित संरक्षण स्थल में भारतीय शांतिरक्षक स्थानीय लड़कियों को सायकिल चलाना सीखा रहे हैं जो उन्हें आत्मनिर्भर बनने का एक अवसर है. नई सायकिलें ख़रीदने के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से 12 घंटों की एक दौड़ का भी आयोजन किया गया. 

भारत में नीले रंग में सराबोर होकर मनाया गया बाल दिवस

विश्व बाल दिवस पर पूरे भारत में युवाओं और बच्चों के साथ आयोजित विशेष कार्यक्रमों के अलावा, देश की प्रमुख इमारतों को ‘ब्लू’ यानी नीला करके बाल अधिकारों के लिए प्रतिबद्धता जताई गई.  बुधवार  20 नवंबर को विश्व बाल दिवस और संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा बाल अधिकार कन्वेंशन को अपनाए जाने के 30 वर्ष पूरे होने पर, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ़) ने भारत में कई कार्यक्रम आयोजित किए. 

महिलाओं पर हिंसा एक बाधा है शांतिपूर्ण भविष्य के रास्ते में

महिलाओं के प्रति हिंसा के उन्मूलन के अंतरराष्ट्रीय दिवस पर संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों ने हिंसा पीड़ितों के प्रति एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए इस मानवाधिकार हनन के अंत की पुकार लगाई है. बलात्कार को मानवाधिकारों का एक ऐसा गंभीर उल्लंघन क़रार दिया गया है जिसके लंबे समय के लिए विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं.

हर तीन में से एक महिला है शारीरिक व यौन हिंसा का शिकार

विश्व में महिलाओं और लड़कियों के विरुद्ध हिंसा व्यापक रूप से व्याप्त है और यह मानवाधिकार उल्लंघन के सबसे भयानक रूपों में से एक है. लैंगिक असमानता, शर्मिंदगी और सज़ा के प्रति भय ना होने की वजह से अक्सर ऐसे मामलों का पता भी नहीं चल पाता है जो एक बड़ी चुनौती है. संयुक्त राष्ट्र सोमवार को 'महिलाओं के प्रति हिंसा के उन्मूलन के अंतरराष्ट्रीय दिवस' पर इसी समस्या को जड़ से उखाड़ने की पुकार लगा रहा है.

यौन हिंसा: कला के ज़रिए तकलीफ़ों की दास्तान

दुनिया भर में करोड़ों महिलाएँ और लड़कियाँ यौन हिंसा का शिकार होती हैं और भयावह तकलीफ़ में जीवन जीती हैं. यौन हिंसा अब भी युद्ध के एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल की जाती है. यौन हिंसा के दंश की तकलीफ़ को बयाँ करती एक प्रदर्शनी. प्रस्तुति शिवानी काला...

बच्चों की पुकार - हमारे अधिकार

1989 में बाल अधिकारों पर कन्वेंशन वजूद में आई थी जिसमें बच्चों के अधिकारों को लागू करने के वादे किए गए थे. तीस साल पूरे होने पर यूनीसेफ़ की रिपोर्ट में कहा गया है कि अभी बहुत कुछ करने की ज़रूरत है. बाल अधिकारों के लिए एक पुकार, उन्हीं की ज़ुबानी...

महिलाओं की सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए मैट्रो की यैलो लाईन हुई नारंगी

संयुक्त राष्ट्र की महिला सशक्तिकरण संस्था – यूएन वीमेन, भारत सरकार के गृह मंत्रालय और मीडिया साझीदारों ने मिलकर शुक्रवार को भारत की राजधानी दिल्ली के सुल्तानपुर मैट्रो स्टेशन पर एक मैट्रो ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. ‘महिलाओं के ख़िलाफ हिंसा रोकने के लिए एकजुट’ होने के अभियान के तहत इस मैट्रो को नारंगी रंग के पोस्टरों से सजाया गया है.

छोटी सी लागत से महिलाओं का बढ़ता हौसला

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम - यूएनडीपी ने भारत में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए अनेक योजनाएँ चलाई हुई हैं. इनके ज़रिए कुछ वित्तीय मदद, तकनीकी सहायता व कारोबार करने का प्रशिक्षण देकर महिलाओं का हौसला बढ़ाया जा रहा है. दिल्ली से एक रिपोर्ट...