शांति और सुरक्षा

आतंकवाद के दिए ज़ख़्म बहुत गहरे होते हैं - महासचिव

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि आतंकवाद के दिए हुए ज़ख़्म बहुत गहरे होते हैं, समय बीतने पर उनकी गहराई कुछ कम हो सकती है, मगर वो ज़ख़्म कभी पूरी तरह ख़त्म नहीं होते. बुधवार को आतंकवाद के पीड़ितों की याद और श्रद्धांजलि देने के लिए मनाए गए अंतरराष्ट्रीय दिवस के मौक़े पर महासचिव ने ये शब्द कहे. ये दिवस हर वर्ष 21 अगस्त को मनाया जाता है.

यमन में जीवनदायी सहायता कार्यक्रम बंद होने के कगार पर

संयुक्त राष्ट्र ने बुधवार को घोषणा की है कि उसे यमन में धन की कमी की वजह से मानवीय सहायता के अनेक कार्यक्रम बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. सदस्य देशों ने यमन में सहायता कार्यक्रमों के लिए जो रक़म देने का वादा किया था, अभी तक उस रक़म का भुगतान नहीं किया गया है.

मध्य पूर्व में 'संयम और सुलह-सफ़ाई की सख़्त ज़रूरत'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव की चीफ़ डी कैबिनेट मारिया लुइज़ा वॉयटी ने कहा है कि क्षेत्र में ख़तरनाक टकराव की स्थिति को टालने के लिए संयम और शांति के लिए गंभीर बातचीत बहुत ज़रूरी है, अगर इस टकराव को नहीं रोका गया तो इसके बेहद ख़तरनाक परिणाम हो सकते हैं जिनका क्षेत्र से बाहर भी गंभीर असर हो सकता है.

यमन, वहाँ की जनता और क्षेत्र का ‘भविष्य दांव पर’

यमन में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा है कि हिंसा से बदहाल यमन विघटन के ख़तरे का सामना कर रहा है और उसके पास गँवाने के लिए बहुत ज़्यादा समय नहीं बचा है. यमन में हाल के दिनों में हुई हिंसा और नई चुनौतियों के परिप्रेक्ष्य में उन्होंने कहा कि देश का भविष्य दांव पर लगा है और इसलिए शांति प्रयासों की सुस्त रफ़्तार को तेज़ किए जाने की आवश्यकता है.

हिंसा और अस्थिरता से जूझते अफ़ग़ानिस्तान की आज़ादी के 100 वर्ष

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNAMA) के प्रमुख तादामीची यामामोतो ने कहा है कि स्वाधीनता के 100 वर्ष पूरे कर रहे अफ़ग़ानिस्तान के लिए यह एक अहम क्षण है और आने वाले दिनों में चुनावों से शांति स्थापना की दिशा में प्रगति होने की आशा है. लेकिन देश पर हिंसा और अस्थिरता का संकट अब भी मंडरा रहा है और हाल के दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में आतंकी हमलों में आम लोगों को निशाना बनाया गया है जिसकी संयुक्त राष्ट्र ने कड़े शब्दों में निंदा की है.

काबुल आत्मघाती हमले में अनेक हताहत, तीखी भर्त्सना

संयुक्त राष्ट्र ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए एक बम विस्फोट की कड़ी निंदा की है जिसमें अनेक लोग हताहत हुए हैं. 17 अगस्त की शाम को हुआ ये हमला एक आत्मघाती हमलावर ने किया और हताहतों में महिलाएं व बच्चे भी हैं. 

कश्मीर पर सुरक्षा परिषद की बैठक - तीन देशों का रुख़

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कश्मीर स्थिति पर शुक्रवार 16 अगस्त 2019 को गोपनीय बैठक की जिसे बंद कमरे में हुई चर्चा भी कहा गया है. इस चर्चा के बारे में परिषद की तरफ़ से कोई आधिकारिक वक्तव्य नहीं जारी किया गया, अलबत्ता तीन देशों - चीन, पाकिस्तान और भारत के राजदूतों ने पत्रकारों के सामने अपने-अपने देशों का रुख़ रखा. 

कश्मीर मुद्दे पर सुरक्षा परिषद की 'बंद' बैठक, चीन द्वारा संयम का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कश्मीर में तनावपूर्ण स्थिति पर शुक्रवार को गोपनीय विचार-विमर्श किया. 1965 के बाद ये पहला मौक़ा था जब सुरक्षा परिषद ने  कश्मीर मुद्दे पर विचार विमर्श करने के लिए 'विशिष्ठ बैठक' आयोजित की. सुरक्षा परिषद पर दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा संबंधी मामलों का समाधान तलाश करने की ज़िम्मेदारी है.

मेरे तीन दोस्तों को 'मेरी आंखों के सामने मार दिया गया'

आतंकवाद के पीड़ितों के स्मरण एवं उन्हें श्रृद्धांजलि का अंतरराष्ट्रीय दिवस हर वर्ष 21 अगस्त को मनाया जाता है. यूएन समाचार की टीम ने 2019 के शुरू में पश्चिम अफ़्रीका के देशों - चाड और कैमरून के सुदूर पूर्वी क्षेत्र का दौरा किया और उन लोगों से बात की जिनके जीवन आतंकवाद ने तबाह कर दिए हैं.

लीबिया में ईद के मौक़े पर युद्धविराम से हिंसा में कमी

संयुक्त राष्ट्र ने लीबिया में ईद-अल-अज़हा से ठीक पहले मानवीय आधार पर लड़ाई रोके जाने की अपील की थी जिसके बाद त्रिपोली और आस-पास के इलाक़ों में हिंसा में कमी आने की ख़बरें मिली हैं. लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मिशन ने एक बयान जारी कर इसका स्वागत करते हुए कहा है कि उल्लंघन के छुटपुट मामले सामने आने के बावजूद अब युद्धविराम को स्थाई रूप से लागू करने की आवश्यकता है.