मानवीय सहायता

सीरिया: अन्तिम सहायता सीमा चौकी को बन्द करना - नैतिक अत्याचार होगा

संयुक्त राष्ट्र के सीरिया जाँच आयोग ने गुरूवार को कहा है कि सीमा पार से पहुँचने वाली सहायता का दायरा अन्य मार्गों तक नहीं बढ़ाना, अपने आप में बहुत ऊँचे स्तर की नाकामी होगी. सुरक्षा परिषद में दी गई ये चेतावनी ऐसे समय में आई है जब पूरे सीरिया में मानवीय ज़रूरतें, 11 वर्ष पहले शुरू हुए विनाशकारी और विध्वंसक युद्ध के बाद से, अपने उच्चतम स्तर पर हैं.

आम लोगों पर युद्ध के घातक परिणामों की 'गम्भीर वास्तविकता' पर सुरक्षा परिषद में चर्चा

संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को सुरक्षा परिषद को जानकारी देते हुए बताया कि संघर्ष में "व्यापक स्तर पर आम लोगों की मौत होना और घायल होना" जारी है, जिससे युद्ध के समय बमबारी का चपेट में आए लोगों की "गम्भीर वास्तविकता" उजागर होती है.

रोहिंज्या ज़िन्दगियों की सलामती की ख़ातिर, बांग्लादेश को अन्तरराष्ट्रीय समर्थन की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के शरणार्थी मामलों के उच्चायुक्त फ़िलिपो ग्रैण्डी ने बांग्लादेश की अपनी पाँच दिन की यात्रा पूरी करने के बाद बुधवार को, रोहिंज्या शरणार्थियों और उनके मेज़बान समुदायों के लिये टिकाऊ और प्रत्याशित समर्थन की अपील की है.

नाव हादसे में 17 रोहिंज्या लोगों की मौत की आशंका, यूएन ने जताया शोक

शरणार्थी मामलों के लिये संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (UNHCR) ने म्यांमार के तट के नज़दीक समुद्री क्षेत्र में, बच्चों समेत कम से कम 17 रोहिंज्या लोगों की मौत होने के समाचार पर स्तब्धता जताते हुए गहरा शोक व्यक्त किया है. 

 

बांग्लादेश और भारत के असम में बाढ़ प्रभावितों के लिये राहत प्रयास

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने बांग्लादेश और भारत के असम राज्य में भीषण बाढ़ से प्रभावित लाखों बच्चों और उनके परिजनों तक सहायता पहँचाने के लिये प्रयास तेज़ किये हैं. यूएन बाल एजेंसी, बच्चों की सुरक्षा, स्वास्थ्य, पोषण, स्वच्छ जल और शिक्षा ज़रूरतों को पूरा करने के लिये, स्थानीय प्रशासन और साझीदारों के साथ मिलकर समन्वित प्रयासों में जुटी है. 

महामारी 'अभी ख़त्म नहीं हुई', स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने में सहयोग पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने जिनीवा में 'विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली' के 75वें वार्षिक सत्र को सम्बोधित करते हुए चेतावनी जारी की है कि कोविड-19 संक्रमण मामलों और मृतक संख्या में गिरावट के बावजूद अभी वैश्विक महामारी का अन्त नहीं हुआ है. उन्होंने वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये देशों के बीच पारस्परिक सहयोग को अहम बताया है.

सीरिया: ज़रूरतमन्दों की अब तक की सबसे बड़ी संख्या

संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ मानवीय सहायता अधिकारी मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने शुक्रवार को, सुरक्षा परिषद में कहा है कि सीरिया में झुलसा देने वाली गर्मी जल्द शुरू होने वाली है, खाद्य पदार्थों की क़ीमतें बढ़ रही हैं और देश के अनेक इलाक़ों में पानी व बिजली की आपूर्ति सीमित है, ऐसे हालात में पिछले सप्ताह ब्रसेल्स में जिन दानदाताओं ने 4 अरब 30 करोड़ डॉलर की मदद के जो संकल्प व्यक्त किये थे, उन्हें पूरा किये जाने की सख़्त ज़रूरत है.

सहेल क्षेत्र: अगले तीन महीनों में, एक करोड़ 80 लाख लोगों पर गम्भीर भूख का संकट 

अफ़्रीका के सहेल क्षेत्र में अगले तीन महीनों के दौरान, एक करोड़ 80 लाख लोगों के समक्ष गम्भीर खाद्य असुरक्षा का संकट है, जोकि वर्ष 2014 के बाद से सबसे बड़ी संख्या है. इसके मद्देनज़र, संयुक्त राष्ट्र ने बुरकीना फ़ासो, चाड, निजेर और माली में मानवीय राहत प्रयासों को तत्काल मज़बूती देने के इरादे से, तीन करोड़ डॉलर की अतिरिक्त सहायता धनराशि जारी की है. 
 

खाद्य असुरक्षा, समाजों में अस्थिरता व हिंसक संघर्षों के भड़कने की वजह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाया है कि विश्व में, अल्पपोषण से पीड़ित लगभग 60 फ़ीसदी आबादी, हिंसा प्रभावित इलाक़ों में रहती है और इससे कोई देश अछूता नहीं है. यूएन प्रमुख ने ‘हिंसक संघर्ष व खाद्य सुरक्षा’ के मुद्दे पर गुरूवार को सुरक्षा परिषद में आयोजित एक चर्चा को सम्बोधित करते हुए क्षोभ व्यक्त किया कि जब युद्ध होता है, तो लोगों को भूख की मार झेलनी पड़ती है.

जीवनरक्षक सहायता ज़रूरतों में 10 प्रतिशत वृद्धि, तत्काल कार्रवाई की अपील

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय राहत मामलों में समन्वय (UNOCHA) के लिये अवर महासचिव मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने, विश्व भर में बढ़ती मानवीय राहत आवश्यकताओं पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा है कि इस वर्ष, ज़रूरतमन्द लोगों की संख्या में अब तक 10 प्रतिशत तक की वृद्धि हो चुकी है.