नवीनतम समाचार

विकासशील देशों की एक-तिहाई महिलाएँ, किशोरावस्था में ही बनती हैं माँ

संयुक्त राष्ट्र यौन व प्रजनन स्वास्थ्य एजेंसी (UNFPA) के एक नए शोध के अनुसार, विकासशील देशों में महिलाओं की कुल संख्या की लगभग एक-तिहाई आबादी 19 वर्ष या उससे कम उम्र में बच्चों को माँ बनती हैं. 

लीबिया: तरहुना में सामूहिक क़ब्रें मिलने का सन्देह, यूएन मानवाधिकार दल की जाँच

मानवाधिकार परिषद की एक पड़ताल के अनुसार लीबिया के तरहुना शहर में सामूहिक क़ब्रें मिलने का सन्देह जताया गया है. जाँच दल ने अपनी नई रिपोर्ट में, देश में मानवाधिकार हनन के मामले जारी रहने पर क्षोभ व्यक्त किया है, जिनसे बच्चे और वयस्क दोनों ही पीड़ित हुए हैं.

जलवायु आपात स्थिति से सर्वाधिक प्रभावितों में है कैरीबियाई क्षेत्र - यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की सूरीनाम यात्रा का अन्तिम दिन, एक छोटे से विमान में शुरू हुआ, और फिर कैरीबियाई देशों की एक बैठक के मंच पर समाप्त हुआ. यूएन प्रमुख ने, रविवार को राजधानी पारामारिबो से 90 मिनट की उड़ान के बाद, सूरीनाम के केन्द्रीय प्रकृति रिज़र्व में ऐमेज़ोन जंगलों की अदभुत सुन्दरता के दर्शन किये, मगर  साथ ही उन्होंने जलवायु परिवर्तन और निष्कर्षण (extraction) गतिविधियों से इन वर्षावनों के लिये उपजे ख़तरों को भी नज़दीक से देखा.  

भारत: नमक उत्पादन से जुड़ी महिला श्रमिकों के लिये, सौर ऊर्जा आजीविका प्रशिक्षण

भारत में स्वच्छ ऊर्जा की दिशा में प्रगति के लिये, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP), स्वच्छ ऊर्जा कम्पनी, ‘ReNew Power और स्व-रोजगार महिला संघ (SEWA - सेवा) ने एक साथ मिलकर, गुजरात प्रदेश में 'प्रोजेक्ट सूर्य' नामक एक परिवर्तनकारी पहल की शुरुआत की है. इस परियोजना के तहत, क्षेत्र में नमक उत्पादन कार्य से जुड़ी महिला श्रमिकों को, आधुनिक स्वच्छ ऊर्जा उद्योग के कामकाज का प्रशिक्षण दिया जाएगा.

वर्षावनों के संरक्षण प्रयासों के लिये, सूरीनाम ‘आशा व प्रेरणा का स्रोत’ 

दक्षिण अमेरिका में सूरीनाम सबसे छोटा और सबसे कम आबादी वाला देश होने के साथ-साथ, सर्वाधिक हरित और जैवविविधता संरक्षण प्रयासों में अग्रणी भी है. देश में कुल भूमि सतह का 90 फ़ीसदी, मूल वनों से आच्छादित है, और यहाँ मौजूद अतुलनीय प्राकृतिक संसाधन, उसके छोटे आकार की भरपाई सरलता से करते हैं. 

महत्वाकाँक्षी कार्रवाई के संकल्प के साथ, यूएन महासागर सम्मेलन का समापन

पुर्तगाल के लिस्बन शहर में एक सप्ताह तक चली चर्चाओं और कार्यक्रमों के बाद, संयुक्त राष्ट्र का दूसरा महासागर सम्मेलन शुक्रवार को समाप्त हो गया. इस अवसर पर सरकारों और राष्ट्राध्यक्षों ने महासागरों की रक्षा के लिये एक नए राजनैतिक घोषणापत्र पर सहमति जताई है और महासागर संरक्षण के लिये विज्ञान आधारित, नवाचारी समाधानों को अपनाये जाने पर बल दिया है. 

गर्भपात मुद्दा: अमेरिका के सांसदों से महिला अधिकार कन्वेन्शन का पालन करने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने शुक्रवार को, अमेरिका के सांसदों से महिलाओं के यौन व प्रजनन स्वास्थ्य अधिकारों की हिफाज़त करने वाले अन्तरराष्ट्रीय क़ानून का पालन करने का आग्रह किया है. ये आग्रह अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक सप्ताह पहले दिये गए उस ऐतिहासिक निर्णय के सन्दर्भ आया है जिसमें गर्भपात की गारण्टी देने वाले 50 साल पुराने एक निर्णय को पलट दिया गया था.

लीबिया रेगिस्तान में प्रवासियों की मौत, मज़बूत संरक्षण के लिये सतर्कता पुकार

संयुक्त राष्ट्र प्रवासन एजेंसी (IOM) ने लीबिया के रेगिस्तान में कम से कम 20 प्रवासियों की मौत होने की तीखी निन्दा की है और चाड-लीबिया सीमा पर प्रवासियों की सुरक्षा को और मज़बूत किये जाने की अपनी पुकार दोहराई है.

अफ़ग़ानिस्तान: महिला अधिकारों की चिन्ताजनक स्थिति, दृढ़ समर्थन व सहायता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं व लड़कियों के मानवाधिकारों की बिगड़ती स्थिति पर क्षोभ व्यक्त करते हुए, उनकी सहायता के लिये तत्काल, दृढ़ कार्रवाई की पुकार लगाई है. उन्होंने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि यदि जल्द हालात नहीं बदले, तो देश में महिलाओं का भविष्य और अधिक अंधकामरय हो जाने की आशंका है.

ईरान परमाणु समझौते की बहाली के लिये प्रयासों व संयम की दरकार

संयुक्त राष्ट्र के राजनैतिक और शान्ति निर्माण मामलों की प्रमुख रोज़मैरी डीकार्लो ने कहा है कि ईरान के परमाणु समझौते को बहाल करने में, कूटनैतिक सम्पर्क व सम्वादों के बावजूद, राजनैतिक और तकनीकी मतभेदों के कारण बाधाएँ जारी हैं.