वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

UN News

विशेष

शान्ति और सुरक्षा बलात्कार, हत्या, भूख से जूझ रहे लोग. सड़कों पर बिखरी हुई लाशों के बीच से गुज़रना दूभर. ठीक एक वर्ष पहले, 15 अप्रैल को सूडान एक ऐसे युद्ध के गर्त में धँस गया था, जो अब भी जारी है, और जिसमें अब तक क़रीब 15 हज़ार लोग अपनी जान गँवा चुके हैं. 80 लाख लोग विस्थापित हुए हैं, दो करोड़ 50 लाख लोगों को तात्कालिक सहायता की आवश्यकता है. वहीं, यूएन मानवतावादियों द्वारा अकाल की आशंका जताई जा रही है, राहत प्रयासों के मार्ग में बाधाएँ बरक़रार हैं और दोनों पक्षों द्वारा अंजाम दिए गए अत्याचार मामलों की सूची बढ़ती जा रही है.

ये भी ख़बरों में

शान्ति और सुरक्षा इसराइल द्वारा कथित रूप से ईरान में एक परमाणु ऊर्जा स्टेशन के नज़दीक शुक्रवार तड़के हवाई कार्रवाई किए जाने की ख़बरों के बीच, यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अपनी शान्ति अपील दोहराते हुए कहा है कि मध्य पूर्व क्षेत्र में बदले की भावना से प्रेरित कार्रवाई के इस ख़तरनाक चक्र को रोका जाना होगा.
मानवाधिकार संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने म्याँमार के राख़ीन प्रान्त में सैन्य नेतृत्व और विरोधी सशस्त्र बल, ‘अराकान आर्मी,’ के बीच बढ़ती हिंसा पर चिन्ता जताई है. यूएन कार्यालय ने आगाह किया है कि राख़ीन में रोहिंज्या और अन्य जातीय समुदायों के बीच तनाव भी बढ़ रहा है, जिससे नागरिक आबादी के लिए ख़तरा है और अतीत में हुए अत्याचारों को फिर से दोहराए जाने का जोखिम है.