वैश्विक

कोविड-19: वैक्सीन खोज की अन्धेरी सुरंग में नज़र आई दमदार रौशनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोविड-19 के ख़िलाफ़ वैक्सीन की खोज, जाँच-पड़ताल के साथ ही, अन्य प्रामाणिक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय भी अपनाए जा रहे हैं, मगर अब इस बारे में कुछ ठोस उम्मीद जागी है कि स्वास्थ्य महामारी का ख़ात्मा करने में वैक्सीनें असरदार भूमिका निभाएँगी.

कोविड-19: एक लड़की की नज़र में असमानता

कोविड-19 महामारी के बढ़ते फैलाव के बीच, लड़कियाँ महिला ख़तना (FGM) से मुक्ति पाने का अधिकार पाने और सुरक्षा व कल्याण के लिये समान अवसरों का उपयोग करने के लिये आवाज़ उठा रही हैं.

निजेर में 15 साल की एस्टा पूछती हैं, "अगर कोई इलाज मिल भी गया, तब भी क्या क्या हमारे जैसे देशों को वो हासिल हो पाएगा?" 

यह वीडियो, लड़कियों ने ख़ुद बनाकर, अपने विचार, अपने शब्दों में व्यक्त किये हैं. (देखिये वीडियो)...

कोविड-19 के प्रभावों के बावजूद, कार्बन उत्सर्जन में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी

विश्व मौसम संगठन (WMO) ने कहा है कि वर्ष 2019 में वातावरण में कार्बनडाय ऑक्साइड का स्तर 410.5 अंश प्रति 10 लाख (PPM) के नए ऊँचे रिकॉर्ड पर पहुँच गया था, और इस वर्ष भी इस स्तर के बढ़ते रहने की सम्भावना है. संगठन ने ग्रीन हाउस समूह की गैसों पर अपने वार्षिक बुलेटिन में सोमवार को ये जानकारी दी. 

कोविड-19: जी-20 समूह की बैठक से पहले आपसी एकजुटता और समर्थन का आहवान

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस सप्ताहान्त जी-20 समूह के नेताओं के बीच होने वाली बैठक से पहले एकजुटता और सहयोग की अहमियत को फिर रेखांकित किया है. यूएन प्रमुख ने शुक्रवार को न्यूयॉर्क में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सन्देश स्प्ष्ट है... कोविड-19 से पुनर्बहाली को समावेशी होना होगा, निर्बलों के लिये ठोस कार्रवाई सुनिश्चित करनी होगी, और इस संकट से उबरने की प्रक्रिया को टिकाऊ व जलवायु कार्रवाई के नज़रिये से महत्वाकाँक्षी बनाना होगा. 

विश्व बाल दिवस: हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की कल्पना

शुक्रवार, 20 नवम्बर को ‘विश्व बाल दिवस’ के अवसर पर दुनिया भर में समाजों से हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की फिर से कल्पना करने की पुकार लगाई गई है. वैश्विक समुदाय का आहवान किया गया है कि हर बच्चे के लिये ऐसी परिस्थितियों का निर्माण करना होगा जिसमें सभी बच्चे फल-फूल सकें. 

संयुक्त राष्ट्र के भीतर नस्लवाद का मुक़ाबला करने के लिये सम्वाद

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने संगठन के कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए इस विश्व संस्था में नस्लवाद का मुक़ाबला किये जाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया है. गुरूवार को इस सम्बोधन में उन्होंने नस्लवाद पर विचार-विमर्श का एक सिलसिला भी शुरू किया.

योरोपीय संघ से महत्वाकाँक्षी जलवायु कार्रवाई की अगुवाई का आहवान

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि 27 सदस्य देशों वाला योरोपीय संघ पथप्रदर्शक क़ानूनों व नीतियों के सहारे जलवायु कार्रवाई में अग्रणी भूमिका निभा रहा है. यूएन प्रमुख के मुताबिक योरोपीय संघ ने यह दर्शाया है कि कार्बन उत्सर्जनों मे कटौती करते हुए भी आर्थिक प्रगति को सम्भव बनाया जा सकता है.  

पुनर्वासित शरणार्थियों की संख्या दो दशकों में सबसे निचले स्तर पर 

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने इस वर्ष पुनर्वासित होने वाले शरणार्थियों की संख्या में भारी कमी आने की बात कही है. यूएन एजेंसी के मुताबिक 2020 के पहले नौ महीनों में महज़ 15 हज़ार 425 लोगों के लिये ही पुनर्वास सम्भव हो चुका है जबकि 2019 में यह संख्या 50 हज़ार से ज़्यादा थी. वर्ष 2016 में पुनर्वासित शरणार्थियों की संख्या एक लाख 26 हज़ार से ज़्यादा थी. 

महामारी लम्बी खिंचने से एक पूरी पीढ़ी के भविष्य पर जोखिम

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यूनीसेफ़ ने कहा है कि कोविड-19 महामारी से संक्रमित होने वाले बच्चों में लक्षण तो मामूली ही नज़र आ रहे हैं, लेकिन संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, साथ ही उनकी शिक्षा और पोषण पर भी दीर्घकालीन प्रभाव बढ़ रहा है, और युवाओं की एक पूरी पीढ़ी का स्वास्थ्य व रहन-सहन उनके पूरे जीवन को ही बदल देने वाला होने की आशंका है. 

ख़ामोश महामारी: अत्यधिक प्रयोग से एण्टीमाइक्रोबियल दवाओं का घटता असर

दुनिया भर में व्यक्तियों, पौधों और पशुओं की ऐसे संक्रमणों के कारण मौत हो रही है जिनका सर्वश्रेष्ठ उपलब्ध दवाओं से भी उपचार नहीं किया जा सकता है. इसकी वजह सूक्ष्मजीवीरोधी प्रतिरोधक क्षमता (Antimicrobial resistance) का बढ़ना बताया गया है. बुधवार को ‘विश्व एण्टीमाइक्रोबियल जागरूकता सप्ताह’ की शुरुआत पर संयुक्त राष्ट्र की खाद्य एवँ कृषि संस्था ने यह बात कही है.