यूक्रेन: सैन्य टकराव की आशंका के बीच, कूटनैतिक प्रयासों की पुकार

यूक्रेन के दोनेत्सक, में बमबारी में क्षतिग्रस्त हुई एक इमारत के पास से गुज़रते हुए लोग.
© UNICEF/Ashley Gilbertson
यूक्रेन के दोनेत्सक, में बमबारी में क्षतिग्रस्त हुई एक इमारत के पास से गुज़रते हुए लोग.

यूक्रेन: सैन्य टकराव की आशंका के बीच, कूटनैतिक प्रयासों की पुकार

शांति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने योरोप में सैन्य टकराव की आशंका पर गहरी चिन्ता जताते हुए आगाह किया है कि कूटनीति का कोई विकल्प नहीं है. उन्होंने सभी पक्षों से यूएन चार्टर के सिद्धान्तों का सम्मान किये जाने की पुकार लगाई है. 

यूएन प्रमुख ने सोमवार को न्यूयॉर्क में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि ऐसे त्रासदीपूर्ण टकराव की सम्भावना को स्वीकार नहीं किया जा सकता है.

Tweet URL

हाल के दिनों में पश्चिमी देशों और यूक्रेन की सरकार ने रूस द्वारा आक्रमण किये जाने की सम्भावना पर चिन्ता जताई है, लेकिन मॉस्को ने ऐसी किसी भी योजना से इनकार किया है.

महासचिव गुटेरेश ने कहा कि “मानव पीड़ा, विध्वंस और योरोपीय व वैश्विक सुरक्षा को पहुँचने वाली क्षति की क़ीमत की कल्पना कर पाना भी कठिन है.”

यूएन के शीर्षतम अधिकारी ने बताया कि उन्होंने सोमवार सुबह, रूसी महासंघ और यूक्रेन के विदेश मंत्रियों से बात की है.

“मेरा सन्देश स्पष्ट है: कूटनीति का कोई विकल्प नहीं है.”

उन्होंने कहा कि सबसे कठिन समेत सभी प्रकार के मुद्दों से निपटा जा सकता है, और ऐसा कूटनीति फ़्रेमवर्क के ज़रिये किया जाना चाहिये.

उन्होंने भरोसा दिलाया कि वह आने वाले घण्टों और दिनों में सम्पर्क व बातचीत के प्रयास जारी रखेंगे, और एक शान्तिपूर्ण समाधान की तलाश में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. 

“यह मेरा अटूट विश्वास है कि यह सिद्धान्त ही विजयी होगा.”

यूएन चार्टर का सम्मान

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव के तौर पर उनका यह दायित्व है कि यूएन चार्टर के पूर्ण सम्मान की अपील की जाए, जोकि अन्तरराष्ट्रीय क़ानून का एक बुनियादी स्तम्भ है. 

उन्होंने यूएन चार्टर को उद्धत करते हुए कहा, “सभी सदस्य देश अन्तरराष्ट्रीय विवादों का निपटारा, शान्तिपूर्ण ज़रियों से इस प्रकार करेंगे कि अन्तरराष्ट्रीय शान्ति व सुरक्षा, और न्याय के लिये ख़तरा पैदा ना हो.”

साथ ही, यूएन चार्टर में सदस्य देशों को किसी भी देश की राजनैतिक स्वतंत्रता या क्षेत्रीय अखण्डता के विरुद्ध, बल प्रयोग या ऐसी किसी धमकी को देने से परहेज़ बरतने का आग्रह किया गया है. 

यूएन प्रमुख ने कहा कि तनाव में कमी लाने और ज़मीन पर टकराव टालने के लिये यही समय है.

उन्होंने सचेत किया कि भड़काऊ बयानबाज़ी का कोई स्थान नहीं है, और सार्वजनिक वक्तव्यों में तनाव भड़काने के बजाय, कमी लाने के प्रयास किये जाने होंगे.

कूटनैतिक प्रयासों में तेज़ी

महासचिव ने हाल के दिनों में कूटनैतिक सम्पर्कों, राष्ट्राध्यक्षों के बीच बातचीत में आई तेज़ी का स्वागत किया है. मगर, इस दिशा में और अधिक प्रयासों की आवश्यकता पर बल दिया है.

यूक्रेन में एक स्कूल के बाहर गश्त लगाता एक सशस्त्र पुलिस अधिकारी. (फ़ाइल)
© UNICEF/ Ashely Gilbertson V
यूक्रेन में एक स्कूल के बाहर गश्त लगाता एक सशस्त्र पुलिस अधिकारी. (फ़ाइल)

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यूक्रेन में घटनाक्रम के मद्देज़र आगाह किया है कि टकराव के लिये कूटनीति को त्याग देना, हद से पार जाना नहीं है, बल्कि यह एक चट्टान के सिरे से कूदने जैसा है. 

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना होगा कि शान्ति प्रयास विफल साबित ना हों.

यूक्रेन में मौजूदा घटनाक्रम को ध्यान में रखते हुए, देश में संयुक्त राष्ट्र की टीम पूर्ण रूप से सक्रिय हैं.