सैन्य टकराव

यूएन महासभा में यूक्रेन संकट के मद्देनज़र आपात विशेष सत्र बुलाया गया.
UN Photo/Evan Schneider

यूक्रेन: 'रूसी आक्रामकता' पर रोक की पुकार, महासभा में प्रस्ताव पारित

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने यूक्रेन संकट की पृष्ठभूमि में बुलाए गए अपने आपात विशेष सत्र के दौरान, यूक्रेन में रूस के तथाकथित विशेष सैन्य अभियान का तत्काल अन्त किये जाने की पुकार लगाने वाले प्रस्ताव भारी मतों से पारित किया है.

यूएन सुरक्षा परिषद में, यूक्रेन मुद्दे पर रूस की निन्दा करने वाले प्रस्ताव पर मतदान का एक दृश्य. 25 फ़रवरी 2022
UN Photo/Mark Garten

यूक्रेन: सुरक्षा परिषद की कार्रवाई पर रूस का वीटो

रूस ने शुक्रवार देर रात सुरक्षा परिषद का एक प्रस्ताव वीटो कर दिया जिसमें यूक्रेन पर रूसी हमले को तुरन्त रोकने और तमाम रूसी सेनाएँ वहाँ से हटाने की मांग की गई थी. सुरक्षा परिषद के अनेक सदस्यों ने रूसी वीटो को एक निन्दनीय क़दम बताया, मगर रूस का रुख़ पहले से ही अपेक्षित था.

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश (बाएँ) यूक्रेन संकट पर, न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए (24 फ़रवरी 2022)
UN Photo/Mark Garten

यूक्रेन: 'युद्ध नहीं, शान्ति की दरकार'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि यूक्रेन पर रूस की "विशेष सैनिक कार्रवाई" ग़लत है और यूएन चार्टर के सिद्धान्तों का भी उल्लंघन है. यूएन प्रमुख ने न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में, गुरूवार को पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि दुनिया को युद्ध की विभीषिका की नहीं, बल्कि शान्ति की ज़रूरत है...

यूएन सुरक्षा परिषद यूक्रेन की स्थिति पर चर्चा करते हुए.
UN Photo/Loey Felipe

यूक्रेन में संकट, विश्व के लिये 'एक ख़तरनाक पल'

यूक्रेन में मौजूदा संकट के मुद्दे पर बुधवार को सुरक्षा परिषद की आपात बैठक के दौरान, महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन से पुरज़ोर अपील करते हुए यूक्रेन पर हमला ना करने की पुकार लगाई. सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों ने भी पिछले तीन दिनों में, सुरक्षा परिषद की दूसरी आपात बैठक के दौरान, सैन्य टकराव से पीछे हटने और कूटनीति समाधान पर बल दिया है.

यूक्रेन के दोनेत्सक, में बमबारी में क्षतिग्रस्त हुई एक इमारत के पास से गुज़रते हुए लोग.
© UNICEF/Ashley Gilbertson

यूक्रेन: सैन्य टकराव की आशंका के बीच, कूटनैतिक प्रयासों की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने योरोप में सैन्य टकराव की आशंका पर गहरी चिन्ता जताते हुए आगाह किया है कि कूटनीति का कोई विकल्प नहीं है. उन्होंने सभी पक्षों से यूएन चार्टर के सिद्धान्तों का सम्मान किये जाने की पुकार लगाई है.