संयुक्त राष्ट्र

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, पाकिस्तानी पंजाब प्रान्त के, करतापुर गाँव में, कुछ बच्चों से मिलते हुए.
UN Photo/Mark Garten

यूएन दिवस: 'चार्टर के मूल्यों व सिद्धान्तों की 'पहले से कहीं अधिक' आवश्यकता, यूएन प्रमुख

प्रति वर्ष 24 अक्टूबर को, संयुक्त राष्ट्र दिवस मनाया जाता है और इस वर्ष, संयुक्त राष्ट्र स्थापना की 77वीं वर्षगाँठ है. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस दिवस पर अपने वीडियो सन्देश में ध्यान दिलाया है कि यूएन चार्टर के मूल्यों और सिद्धान्तों को दुनिया के हर हिस्से में लागू करने की, अब पहले से कहीं ज़्यादा ज़रूरत है.

यूएन महासभा के 77वें सत्र के दौरान, भारत - यूएन साझेदारी दिखाने के लिये, एक कार्यक्रम न्यूयॉर्क में 24 सितम्बर को आयोजित किया गया.
UN News

भारत-यूएन साझेदारी, सहयोग की मज़बूत मिसाल, यूएन प्रमुख

भारत ने संयुक्त राष्ट्र के साथ अपनी विकास साझेदारी को रेखांकित करने के लिये, देश की स्वतंत्रत्रता की 75वीं वर्षगाँठ के समारोहों के तहत, शनिवार 24 सितम्बर को, न्यूयॉर्क में एक कार्यक्रम आयोजित किया जिसमें संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष अधिकारियों के साथ-साथ, विभिन्न देशों की अहम हस्तियों ने शिरकत की. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस कार्यक्रम को भेजे अपने सन्देश में कहा कि भारत – यूएन साझेदारी, सहयोग का एक मज़बूत उदाहरण है, जिसे आगे बढ़ाया जा सकता है. इस कार्यक्रम की वीडियो रिकॉर्डिंग यहाँ देखी जा सकती है. 

पाकिस्तान में जुलाई-अगस्त में भारी बढ़ से हुई भीषण तबाही का एक हवाई दृश्य. यूएन महासचिव ने देश के साथ एकजुटता दिखाने के लिये सितम्बर 2022 में बाढ़ प्रभावित कुछ इलाक़ों का दौरा किया.
UN Photo/Eskinder Debebe

1.5 डिग्री जलवायु संकल्प ‘मरणासन्न अवस्था में’, यूएन प्रमुख की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने, बुधवार को न्यूयॉर्क स्थित यूएन मुख्यालय में, देशों के राष्ट्राध्यक्षों व सरकार अध्यक्षों के साथ एक निजी बैठक में, जलवायु परिवर्तन संकट का सामना करने के लिये, और ज़्यादा कार्रवाई और नेतृत्व दिखाए जाने की पुकार लगाई है. उन्होंने साथ ही आगाह भी किया है कि वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के प्रयास अन्तिम साँसें गिनते नज़र आ रहे हैं.

UN Photo/Mark Garten

साक्षात्कार: महासचिव की पुकार - भूराजनैतिक मतभेदों के अन्त, जलवायु संकट से निपटने के लिये, रास्ता बदलना होगा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने जलवायु परिवर्तन से लेकर भूराजनैतिक मतभेदों से लेकर गहरी होती विषमताओं और संघर्षों जैसी अनेक वैश्विक चुनौतियों का सन्दर्भ देते हुए, इनसे निपटने के लिये अन्तरराष्ट्रीय एकजुटता मज़बूत करने की पुकार लगाई है.

यूक्रेन में एक माँ और बच्चा, एक ट्रेन में सफ़र करते हुए.
© UNICEF/Giovanni Diffidenti

इस उथल-पुथल भरे दौर में, संयुक्त राष्ट्र का काम और भी अहम, गुटेरेश

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कोविड-19 महामारी, यूक्रेन में युद्ध, और गहराते जलवायु संकट का ज़िक्र करते हुए कहा है कि बीत वर्ष गहरे और आपस में गुँथे हुए संकटों में से एक रहा है जिसका दायरा व गम्भीरता लगातार बढ़ रहे हैं.

इराक़ के एक पुराने इलाक़े - सिन्जार में कुछ बच्चे, जहाँ आतंकवादी संगठन दाएश (आइसिल) ने तबाही मचाई.
Unsplash/Levi Meir Clancy

यूएन वैश्विक कांग्रेस, आतंकवाद पीड़ितों की स्मृति व उनके लिये समर्थन का अवसर

आतंकवाद के पीड़ितों के अधिकारों को बढ़ावा देने व आवश्यकताओं को पूरा करने और उनके लिये हर सम्भव समर्थन सुनिश्चित किये जाने के इरादे से, संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में गुरूवार को दो-दिवसीय वैश्विक कांग्रेस शुरू हुई है.

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल का एक दृश्य. यह तस्वीर जून 2020 की है.
ADB/Jawad Jalali

अफ़ग़ानिस्तान: काबुल में रूसी दूतावास के बाहर हुए हमले की कठोर निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में सोमवार को रूसी महासंघ के दूतावास के नज़दीक हुए हमले की कड़े शब्दों में निन्दा की है. इस घटना में कम से कम छह लोगों की मौत होने औऱ अनेक अन्य के हताहत होने की ख़बर है.

क्या संयुक्त राष्ट्र युद्ध रोक सकता है?
यूएन मुख्यालय

क्या संयुक्त राष्ट्र युद्ध रोक सकता है?

क्या संयुक्त राष्ट्र युद्ध रोक सकता है? इस बारे में कुछ अहम सवालों के जवाब: यूएन चार्टर क्या कहता है? सुरक्षा परिषद के कुछ सदस्यों की वीटो शक्ति क्या है? क्या किसी देश को संयुक्त राष्ट्र से बाहर किया जा सकता है? संयुक्त राष्ट्र महासचिव क्या करते हैं? इत्यादि...

 

यूक्रेन में युद्ध के दौरान आन्तरिक रूप से विस्थापित होने वाले लोगों के लिये बनाए गए शिविर में कुछ बच्चे.
IOM/Ivan Riznyk

आन्तरिक विस्थापन संकट: 'वास्तविक प्रगति' के लिये नई यूएन योजना

हिंसक संघर्षों, टकरावों, आपदाओं, जलवायु व्यवधानों और अन्य त्रासदियों के कारण, अपने गृहभूमि में ही विस्थापित होने वाले लोगों की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच गई है. इस पृष्ठभूमि में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने देशों की सीमाओं के भीतर विस्थापित होने वाले लोगों की सहायता और इस संकट का अन्त करने के लिये अपना नया कार्रवाई एजेण्डा प्रस्तुत किया है. 

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र के लिये नव नियुक्त अध्यक्ष क्साबा कॉरोसी, महासभा को सम्बोधित करते हुए.
UN Photo/Eskinder Debebe

एकजुटता, सततता, विज्ञान से दिग्दर्शित होगा, नए यूएन महासभा अध्यक्ष का एजेण्डा

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने, हंगरी के एक अनुभवी राजनीतिज्ञ क्साबा कॉरोसी को, आगामी 77वें सत्र के लिये अपना अध्यक्ष निर्वाचित किया है. ये चुनाव न्यूयॉर्क स्थित यूएन मुख्यालय में मंगलवार को आधिकारिक समारोह के दौरान सम्पन्न हुआ, और इसमें मतदान की आवश्यकता नहीं हुई.