कोविड-19: अमेरिकी रक़म रुकने से WHO के कामकाज पर असर की समीक्षा

15 अप्रैल 2020

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 को मानवता का ख़तरनाक दुश्मन बताते हुए उससे निपटने में अंतरराष्ट्रीय एकजुटता की अहमियत को दोहराया है. उन्होंने अमेरिका के उस निर्णय पर खेद जताया है जिसमें यूएन स्वास्थ्य एजेंसी को दी जाने वाली धनराशि तब तक रोके जाने की बात कही गई है जब तक महामारी फैलने के शुरुआती चरण में एजेंसी द्वारा की गई कार्रवाई की समीक्षा पूरी नहीं हो जाती.

महानिदेशक घेबरेयेसस ने बुधवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए अमेरिका की इस घोषणा पर खेद जताते हुए उसे एक ऐसा उदार दोस्त बताया जिसकी यूएन एजेंसी के साथ लंबे समय से मित्रता रही है. उन्होंने आगे भी इस मित्रता के जारी रहने की उम्मीद जताई है. 

इससे पहले मंगलवार को महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाया था कि कोविड-19 को पीछे धकेलने की लड़ाई में यह समय वैश्विक स्तर पर एकजुट होने का है, ना कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के संसाधनों में कटौती करने का. 

महानिदेशक घेबरेयेसस ने कहा कि अमेरिका की जनता और सरकार के समर्थन से, यूएन एजेंसी दुनिया में सबसे निर्धन और निर्बल लोगों के स्वास्थ्य में बेहतरी लाने के लिए प्रयासरत है. 

“विश्व स्वास्थ्य संगठन सिर्फ़ कोविड-19 के ख़िलाफ़ लड़ाई नहीं लड़ रहा है. हम पोलियो, ख़सरा, मलेरिया, इबोला, एचआईवी, तपेदिक, कुपोषण, कैंसर, डायबिटीज़, मानसिक स्वास्थ्य और कई अन्य बीमारियों से भी निपट रहे हैं.”

“हम स्वास्थ्य प्रणालियों को मज़बूत करने और जीवन-रक्षक स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए देशों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.”

यूएन एजेंसी के महानिदेशक ने कहा कि अमेरिका के वित्तीय योगदान के अभाव में कामकाज पर पड़ने वाले प्रभाव की समीक्षा की जा रही है और वित्तीय संसाधनों की कमी को दूर करने के लिए साझीदार संगठनों के साथ मिलकर काम किया जाएगा ताकि हमारा काम बिना किसी रुकावट के जारी रह सके. 

“सार्वजनिक स्वास्थ्य, विज्ञान और दुनिया के सभी लोगों की बिना किसी भय या पक्षपात के सेवा करने का हमारा संकल्प क़ायम है. हमारा मिशन और मैंडेट अर्थव्यवस्था या जनसंख्या के आकार की परवाह किए बग़ैर सभी देशों के साथ समान रूप से मिलकर काम करने का है.”

साझा दुश्मन के ख़िलाफ़ लड़ाई

महानिदेशक ने आगाह किया कि कोविड-19 धनी और निर्धन देशों, बड़े और छोटे देशों में भेद नहीं करता. यह राष्ट्रीयता, जातीयता या विचारधारों में भी भेद नहीं करता है.

उन्होंने कहा कि यह समय हम सबके लिए साझा ख़तरे, एक ख़तरनाक दुश्मन के ख़िलाफ़ एकजुट होकर संघर्ष करने का है. 

उन्होंने कहा कि सही समय आने पर सदस्य देश और पारदर्शिता या जवाबदेही के लिए बनाए गए अन्य स्वतंत्र निकाय महामारी से निपटने में विश्व स्वास्थ्य संगठन के कामकाज की समीक्षा करेंगे.  

महानिदेशक घेबरेयेसस ने भरोसा दिलाया कि बेहतरी की संभावनाओं की तलाश की जाएगी और सभी के सीखने के लिए सबक़ होंगे लेकिन फ़िलहाल उनकी एकाग्रता पूरी तरह से वायरस को रोकने और ज़िंदगियाँ बचाने पर केंद्रित है. 

बुधवार को स्वास्थ्यकर्मियों के लिए एक नया कोर्स शुरू किया गया है जिसके ज़रिए उन्हें निजी बचाव उपकरणों को पहनना और उतारना सिखाया जाएगा. 

इसके अलावा वायरस और उसके संभावित असर पर शोध एवं विकास की गति को बढ़ाने के लिए साझीदार संगठनों के साथ मिलकर काम किया जा रहा है. 

अब तक 90 से ज़्यादा देश ‘एकजुटता ट्रायल’ (Solidarity trial) में शामिल हो चुके हैं या फिर उन्होंने दिलचस्पी दिखाई है.

इस परीक्षण में 900 से ज़्यादा मरीज़ हिस्सा ले रहे हैं ताकि चार दवाईयों की सुरक्षा और असर की परख की जा सके. 

कोविड-19 के लिए तीन वैक्सीन पर क्लीनिक्ल ट्रायल शुरू हो गया है और 70 अन्य पर काम चल रहा है. दवाइयाँ तेज़ी से विकसित करने, उनके उत्पादन और वितरण के लिए साझीदार संगठनों के साथ मिलकर काम किया जा रहा है. 

महानिदेशक घेबरेयेसस ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र की पहली एकजुटता उड़ान अफ़्रीका के कई देशों के लिए बचाव सामग्री एवं उपकरण, वेंटीलेटर और अन्य सामान लेकर पहुँच चुकी है.

ये उड़ानें उन व्यापक प्रयासों का हिस्सा हैं जिनके तहत 95 से ज़्यादा देशों में विश्व खाद्य कार्यक्रम और अन्य एजेंसियों के सहयोग से जीवनरक्षक चिकित्सा मदद पहुंचाई जाएगी. 

कोविड-19 पर कार्रवाई के लिए स्थापित ‘Solidarity Response Fund’  यानी एकजुटता कार्रवाई कोष में अब तक सवा दो लाख से ज़्यादा व्यक्ति और संगठन 15 करोड़ डॉलर की धनराशि का योगदान कर चुके हैं.

इस कोष के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से इसी शनिवार लेडी गागा सहित संगीत की दुनिया की कई मशहूर हस्तियाँ संगीत समारोह में हिस्सा लेंगी.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड