हेती में शांतिरक्षा मिशन समाप्त, लेकिन यूएन का समर्थन जारी रहेगा

15 अक्टूबर 2019

हेती में 15 वर्ष से चला आ रहा संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा अभियान समाप्त हो रहा है लेकिन देश में स्थिरता और लोकतंत्र की जड़ें मज़बूत करने के लिए संगठन का संकल्प जारी रहेगा. संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों के अवर महासचिव ज़्यां-पियरे लॉकोआ ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद को यह जानकारी देते हुए यूएन मिशन की उपलब्धियों के बारे में जानकारी साझा की.

“आज जिस अध्याय का अंत हो रहा है उसमें हेती की जनता के साथ साझा सफलताएं, भूकंप (2010) की त्रासदी और वो सबक शामिल हैं जो बताते हैं कि कि हम क्या बेहतर कर सकते थे. आज हमें एक साथ इन आयामों पर विचार करना होगा. यही आयाम हेती और संयुक्त राष्ट्र की साझेदारी को अगले चरण में ले जाने का आधार बनाते हैं.”

हेती में संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा अभियान की शुरुआत वर्ष 2004 में यूएन स्थिरता मिशन (MINUSTAH) के साथ हुई थी जिसे वहां बदहाल होती राजनैतिक और सुरक्षा स्थिति के मद्देनज़र स्थापित किया गया था.

यूएन मिशन का कार्यकाल वर्ष 2017 में पूरा गया जिसके बाद वहां एक अन्य मिशन (MINUJUSTH) शुरू किया गया था.

उसका उद्देश्य हेती की राष्ट्रीय पुलिस, क़ानून का राज स्थापित करने वाली संस्थाओं और मानवाधिकारों को मज़बूती और बढ़ावा देना था.

बुधवार, 15 अक्टूबर को हेती में संयुक्त राष्ट्र एकीकृत कार्यालय (BINUH) में कामकाज शुरू होगा जिसका लक्ष्य राजनैतिक स्थिरता और सुशासन को मज़बूत बनाने के साथ-साथ समावेशी राष्ट्रीय संवाद को सहारा देना है.

लॉकोआ का कहना है कि हेती में शांतिरक्षा के सिलसिले में संयुक्त राष्ट्र अध्याय बदल रहा है लेकिन हम यूएन समर्थन की किताब बंद नहीं कर रहे हैं.

MINUJUSTH/Leonora Baumann
हेती में संयुक्त राष्ट्र महिला पुलिस अधिकारियों की परेड. महिला पुलिस का यह दस्ता बांग्लादेश से है.

संयुक्त राष्ट्र के दो शांतिरक्षा मिशनों ने हेती की प्रगति में जो योगदान दिया है उसमें पुलिस और न्यायिक सेवा को मज़बूत बनाने और सामुदायिक हिंसा में कमी लाने के लिए कार्यक्रम लागू करना शामिल है.

इससे देश में राजनैतिक और लोकतांत्रिक प्रक्रिया की जड़ें मज़बूत कराने में सहायक माहौल बनाने में मदद मिली है लेकिन राजनैतिक समाधानों की आवश्यकता को भी स्पष्ट किया गया है.

मौजूदा दौर में हेती एक राजनैतिक संकट से जूझ रहा है और हज़ारों की संख्या में लोग सड़कों पर उतर कर राष्ट्रपति शिवनेल मोइज़ के इस्तीफ़े की मांग कर रहे हैं.

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ 15 सितंबर 2019 के बाद से अब तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है.

हेती के राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय संवाद क़ायम करने और एकता सरकार के गठन की अपील जारी की है लेकिन विरोधी पक्ष वार्ता से पहले उनसे पद छोड़ने की मांग कर रहा है.

यूएन का नया कार्यालय सरकार और साझेदार संगठनों के साथ मिलकर उन मुद्दों पर काम करना जारी रखेगा जो लंबे समय से चले आ रहे हैं.

इनमें हैज़ा का उन्मूलन करना और यौन शोषण व दुर्व्यवहार के मामलों से निपटना शामिल हैं.

यूएन ब्यूरो का संचालन शांति रक्षा से शांति निर्माण तक के संक्रमण को रेखांकित करेगा और कार्यालय में ऐसे मापदंड लागू किए जाएंगे जो टिकाऊ विकास लक्ष्यों के संदर्भ में हैं.

ऐसे मानक  उदाहरण के तौर पर राष्ट्रीय पुलिस और न्याय और सुधार से संबंधित संस्थाएं अब बेहतर क़ानूनी फ़्रेमवर्क और देखरेख के ढांचे के साथ काम करेंगी जिनका उद्देश्य शांतिपूर्ण और समावेशी समाजों को बढ़ावा देना है.

लॉकोआ ने बताया, “हेती में पिछले 15 वर्षों में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है लेकिन स्थिरता की उपलब्धियां अब भी नाज़ुक हैं और लोकतंत्र व विकास के लिए उन्हें और ज़्यादा गहराई में जड़ जमानी चाहिए.”

उन्होंने उम्मीद जताई कि यूएन एकीकृत कार्यालय का कामकाज शुरू होना हेती की स्थिरता और समृद्धि के लिए संयुक्त राष्ट्र के नए सिरे से लिए गए संकल्प को दर्शाता है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड