शांति और सुरक्षा कायम रखने में अहम भूमिका निभाते शांतिरक्षक

29 मई 2019

हिंसा से आम नागरिकों को बचाने के लिए यूएन शांतिरक्षक हर दिन अपनी जान को जोखिम में डालते हैं. 29 मई को अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक दिवस पर दुनिया में शांति और सुरक्षा बनाए रखने में शांतिरक्षकों की अहम भूमिका को याद किया जा रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतोनियो गुटेरेश ने इस अवसर पर जारी अपने वीडियो संदेश में कहा कि शांतिरक्षा अभियान विश्व में शांति और सुरक्षा बनाए रखने के लिए एक अहम निवेश हैं और इसके लिए मज़बूत अंतरराष्ट्रीय संकल्प चाहिए.

“इसीलिए हमने ‘एक्शन फ़ॉर पीसकीपिंग’ पहल शुरू की है जिसका उद्देश्य यूएन मिशनों को मज़बूत, सुरक्षित और भविष्य के लिए उपयुक्त बनाना है.”

इस पहल के तहत बेहतर ढंग से प्रशिक्षित शांतिरक्षकों को आधुनिक सैन्य उपकरणों से लैस करने और जटिल सुरक्षा माहौल में काम करने से उपजती चुनौतियों के लिए उन्हें तैयार करना है

दुनिया भर में एक लाख से ज़्यादा शांतिरक्षक 14 शांतिरक्षा अभियानों में हिस्सा ले रहे हैं और जान का ख़तरा झेल रहे लोगों को ज़मीनी स्तर पर सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं. व्यापक स्तर पर शांतिरक्षा अभियानों के बावजूद उनका कुल बजट विश्व में सैन्य खर्च का महज़ 0.5 फ़ीसदी है.

अपने संदेश में यूएन प्रमुख ने उन 3,800 शांतिरक्षकों को याद किया जिन्होंने पिछले 70 सालों में शांति और सुरक्षा के लिए अपने जीवन का बलिदान किया है. 2018 में 98 शांतिरक्षकों यूएन के झंडे तले अपनी सेवाएं देते हुए जान गंवाई.

आम नागरिकों की सुरक्षा के लिए पहली बार सुरक्षा परिषद ने जब सिएरा लिओन में एक शांतिरक्षा मिशन को अधिकार दिए, इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र उसके बीस साल पूरे कर रहा है.

इस साल अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक दिवस का विषय ‘प्रोटेक्टिंग सिविलियन्स, प्रोटेक्टिंग पीस’ है जिसके ज़रिए यह बताने की कोशिश हो रही है कि आम नागरिकों को सुरक्षित रखकर ही शांति की रक्षा की जा सकती है.

पिछले शुक्रवार को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में एक समारोह हुआ जिसमें 1948 से अब तक शांतिरक्षा अभियानों में सेवाएं प्रदान करने वाले पुरुषों और महिलाओं को श्रृद्धांजलि दी गई. मृतक शांतिरक्षकों को पुष्पांजलि अर्पित करने के साथ साथ महासचिव गुटेरेश ने मरणोपरांत शांतिरक्षकों को डैग हैमर्शहोल्ड मेडल से सम्मानित किया.

स्मृति सम्मान समारोह में यूएन महासचिव ने मलावी के शांतिरक्षक प्राइवेट चांसी चिटेटे को श्रृद्धांजलि दी जिन्होंने तंज़ानिया के अपने साथी सैनिक कॉरपोरल ओमारी को बचाते समय अपनी जान गंवा दी थी. प्राइवेट चिटेटे कॉन्गो लोकतांत्रिक गणराज्य में यूएन शांति मिशन में सेवारत थे. 

प्राइवेट चिटेटे को मरणोपरांत उनकी बहादुरी के लिए ‘कैप्टन म्बाये डियाने मेडल फ़ॉर एक्सेप्शनल करेज’ या असाधारण साहस के लिए कैप्टन म्बाये डियाने मेडल से सम्मानित किया गया. यह यूएन शांतिरक्षा का सर्वोच्च सम्मान है. 

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड