यूक्रेन युद्ध: पड़ोसी देशों में भयावह प्रभावों के जोखिम हैं वास्तविक

संयुक्त राष्ट्र के राजनैतिक मामलों की प्रमुख रोज़मैरी डीकार्लो, यूक्रेन मुद्दे पर सुरक्षा परिषद को सम्बोधित करते हुए.
UN Photo
संयुक्त राष्ट्र के राजनैतिक मामलों की प्रमुख रोज़मैरी डीकार्लो, यूक्रेन मुद्दे पर सुरक्षा परिषद को सम्बोधित करते हुए.

यूक्रेन युद्ध: पड़ोसी देशों में भयावह प्रभावों के जोखिम हैं वास्तविक

शांति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र के राजनैतिक मामलों की प्रमुख रोज़मैरी डीकार्लो ने बुधवार को सुरक्षा परिषद में कहा है कि यूक्रेन में युद्ध में अभी तक जो बमबारी हुई है, उसकी सर्वाधिक सघन बमबारी हाल के दिनों में हुई है. उन्होंने साथ ही इस युद्ध के और ज़्यादा भड़कने व अन्य देशों में भी उसके भयावह प्रभाव अनुभव किये जाने की चेतावनी भी जारी की है.

रोज़मैरी डीकार्लो ने सुरक्षा परिषद में कहा कि रूसी मिसाइलों और ड्रोन के ज़रिये यूक्रेन के अनेक शहरों पर भारी बमबारी की गई है जिनमें राजधानी कियेफ़ भी शामिल है.

Tweet URL

इस बमबारी ने बहुत से घर या तो तबाह कर दिए हैं या उन्हें भारी क्षति पहुँचाई है, और महत्वपूर्ण सेवाओं को गम्भीर रूप से बाधित किया है.

उन्होंने ज़ोर देकर कहा, “मुझे फिर ये कहना होगा: आम लोगों और सिविल ढाँचे को हमलों का निशाना बनाना, अन्तरराष्ट्रीय क़ानून के तहत निषिद्ध है.”

युद्ध का ख़ात्मा नज़र नहीं आता

इस बीच, धरातल पर सैन्य समीकरण लगातार बदल रहे हैं.

रोज़मैरी डीकार्लो ने याद करते हुए कहा कि बीते सप्ताह, यूक्रेन के दक्षिणी शहर ख़ेरसॉन से रूसी सेनाओं की वापसी के बाद, ये शहर फिर से यूक्रेन सरकार के नियंत्रण में आ गया है. दोनेत्स्क और लूहांस्क क्षेत्रों में भी भारी लड़ाई जारी है.

उन्होंने कहा कि असल में, युद्ध का कोई अन्त नज़र नहीं आ रहा है. जब तक ये स्थिति जारी है, अन्य देशों में भी इसके झटकों के भयावह प्रभाव फैलने का जोखिम बहुत वास्तविक बना हुआ है.”

“यूक्रेनी सीमा के निकट पोलैंड में कल एक घटना इस बात की भयावह अनुस्मारक है कि इस युद्ध के और आगे भड़कने से रोके जाने की आवश्यकता है.”

पोलैंड के एक छोटे से गाँव प्रेज़ेवोडॉव में एक अनाज भंडार पर मंगलवार को हुए एक मिसाइल हमले में दो लोगों की मौत हो गई थी.

संयुक्त राष्ट्र की शोक संवेदना

अन्तरराष्ट्रीय मीडिया ख़बरों के अनुसार, पोलैंड के राष्ट्रपति ऐंड्रेज़ डूडा ने कहा कि वो विस्फोट सम्भवतः एक यूक्रेनी वायु रक्षा मिसाइल के कारण हुआ है.

रोज़मैरी डीकार्लो ने पीड़ितों के परिवारों के प्रति शोक संवेदना प्रकट की. यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश भी पीड़ितों के परिवारों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त कर चुके हैं.

संयुक्त राष्ट्र के राजनैतिक मामलों की मुखिया ने डर प्रकट किया कि यूक्रेन में हाल के घटनाक्रम से युद्ध की पहले से ही जारी भीषण तबाही में और बढ़ोत्तरी ही होगी.

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय – OHCHR के अनुसार, यूक्रेन में 9 महीनों के युद्ध के दौरान 16 हज़ार 630 से ज़्यादा लोग हताहत हुए हैं, जिनमें 6 हज़ार 557 लोगों की मौतें भी शामिल हैं.