महिला ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू को श्रद्धांजलि

घाना की ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र के विभिन्न शान्तिरक्षा मिशनों में काम किया.
UN Photo
घाना की ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र के विभिन्न शान्तिरक्षा मिशनों में काम किया.

महिला ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू को श्रद्धांजलि

शांति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, शान्तिरक्षा में अहम योगदान करने वाली महिला ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू को एक वास्तविक अग्रदूत (Pioneer) क़रार दिया है. ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा का इस सप्ताह उनके अपने देश घाना में निधन हो गया था.

Tweet URL

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने, एक हार्दिक वक्तव्य में कहा है कि ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा ने, पश्चिमी सहारा में जनमत संग्रह के लिये संयुक्त राष्ट्र के मिशन (MINURSO) की प्रथम महिला फ़ोर्स डिपुटी कमाण्डर के रूप में, शान्तिरक्षा में ऐतिहासिक भूमिका निभाई.

इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू ने अपने चार दशकों की सेवा के दौरान, लेबनान में यूएन शान्तिरक्षा (UNIFIL), काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (MONUSCO) और लाइबेरिया (UNMIL) अभियानों में भी काम किया.

एंतोनियो गुटेरेश ने कहा, “इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू को, इन मिशनों में असाधारण सेवा और शान्तिरक्षा अभियानों में समावेशिता को बढ़ावा देने और महिलाओं की संख्या बढ़ाने के लिये भी याद किया जाएगा.”

यूएन प्रमुख ने ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा के परिवार, घाना के लोगों और वहाँ की सरकार के साथ भी संवेदना व्यक्त की है.

स्मृतियाँ

यूएन शान्तिरक्षा विभाग ने, अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित एक सन्देश में कहा है कि ब्रिगेडियर जनरल इमेफ़ा की विरासत और शान्तिरक्षा में एक अग्रणी महिला के रूप में उनकी उपलब्धियाँ, बहुत से लोगों को प्रेरित करती रहेंगी.

यूएन शान्तिरक्षा विभाग की नज़र में, इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू एक वास्तविक अग्रदूत और मशाल वाहक थीं. 

इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू एक ऐसी महिला थीं जिन्होंने अपने देश – घाना की राष्ट्रीय सेना और संयुक्त राष्ट्र के चार विभिन्न मिशनों में भी बहुत सी बाधाओं को पार किया.

उन्होंने लैंगिक समावेशिता को बढ़ावा देने और सेवारत महिलाओं की संख्या बढ़ाने सराहनीय काम किया.

असाधारण सेवा व कार्य काल

इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू घाना में ऐसी प्रथम महिला बनीं, जो सेना में भर्ती होने के बाद, 1999 में, देश की सेनाओं में पहली महिला कमाण्डिंग ऑफ़िसर की रैंक तक पहुँचीं.

इमेफ़ा ऐडजीनी-अफ़ेनू, वर्ष 2013 में, ऐसी प्रथम महिला बनीं जिन्हें न्यूयॉर्क स्थित यूएन मुख्यालय के लिये, घाना के स्थाई मिशन में, डिपुटी सैन्य सलाहकार नियुक्त किया गया. 

इसी पद पर रहते हुए उन्हें ब्रिगेडियर जनरल की रैंक के लिये प्रोन्नत किया गया और वो, देश के सशस्त्र बलों में जनरल के पद तक पहुँचने वाली पहली महिला बनीं.

पश्चिमी सहारा में युद्धविराम की निगरानी करने के लिये तैनात, एक यूएन गश्ती दल, स्मारा इलाक़े में.
UN Photo/Martine Perret
पश्चिमी सहारा में युद्धविराम की निगरानी करने के लिये तैनात, एक यूएन गश्ती दल, स्मारा इलाक़े में.