कोविड-19: संयुक्त राष्ट्र परिवार, कठिन घड़ी में, भारत के साथ एकजुट

29 अप्रैल 2021

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भारत में वैश्विक महामारी कोविड-19 के भीषण फैलाव से उपजे हालात के मद्देनज़र देश के लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त की है. यूएन प्रमुख ने भरोसा दिलाया है कि उनका संगठन इस घड़ी में भारत के लिये अपने समर्थन का दायरा और स्तर बढ़ाने के लिये मुस्तैद है.

भारत में पिछले 24 घण्टों में, कोविड-19 संक्रमण के तीन लाख, 86 हज़ार से ज़्यादा नए मामलों की पुष्टि हुई है और तीन हज़ार 400 से अधिक लोगों की मौत हुई है.

देश में, पिछले कई दिनों से प्रतिदिन लगातार, संक्रमण के तीन लाख से ज़्यादा मामले सामने आ रहे हैं.

भारत में अब तक कोरोनावायरस के एक करोड़ 83 लाख संक्रमण मामलों की पुष्टि हुई है और दो लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.

यूएन महासचिव ने गुरूवार को अपने ट्वीट सन्देश में कहा, "मैं, कोविड-19 के भयावह फैलाव का सामना कर रहे भारत के लोगों के साथ, सम्पूर्ण संयुक्त राष्ट्र परिवार के साथ एकजुटता में खड़ा हूँ."

"संयुक्त राष्ट्र हमारे समर्थन को बढ़ाने के लिये बिलकुल तैयार है."

इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने भारत मे कोविड-19 की दूसरी लहर को ऐसी 'हृदय विदारक' स्थिति बताया था, जिसे बयान नहीं किया जा सकता.

भारत में यूएन की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर रेनाटा डेज़ालियन के नेतृत्व में, यूएन प्रणाली महामारी पर जवाबी कार्रवाई के तहत, स्थानीय एजेंसियों को मदद प्रदान कर रही हैं.

रेनाटा डेज़ालियन ने कहा है, "भारत में ज़रूरत की इस घड़ी में, संयुक्त राष्ट्र, केन्द्र सरकार व प्रान्तों को, अति महत्वपूर्ण उपकरण और चिकित्सा सामान तेज़ी से उपलब्ध कराने में यथासम्भव प्रयास कर रहा है."

जवाबी कार्रवाई में यूनीसेफ़ से मदद

तेज़ी से फैलते संक्रमणों के बीच, संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) अपने साझीदार संगठनों के साथ जवाबी कार्रवाई में समर्थन देने के लिये प्रयासरत है. इसके तहत:

- जीवनदायी ऑक्सीजन की सुलभता बढ़ाने के लिये अस्पतालों में ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की ख़रीद व उन्हें स्थापित किया जा रहा है

- सबसे ज़्यादा प्रभावित ज़िलों में त्वरित और सटीक परीक्षण करने वाली मशीनों को प्रदान किया गया है

- समुदायों व आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों को समर्थन उपलब्ध कराया गया है ताकि सेवाओं में व्यवधान को टाला जा सके

- यूनीसेफ़ और साझीदार संगठन राष्ट्रीय स्तर पर, न्यायसंगत ढँग से, टीकाकरण मुहिम को आगे बढ़ाने के लिये सरकार की सहायता कर रहे हैं

- कोविड-19 वैक्सीन को ठण्डे तापमान में सुरक्षित रखने के लिये शीतलन उपकरणों की व्यवस्था की गई है

- निर्बल समुदाय के बच्चों को सहारा प्रदान करने के लिये, यूनीसेफ़, भारत सरकार के साथ मिलकर प्रयास कर रहा है

- 17 राज्यों में एक करोड़ 23 लाख बच्चों के लिये घर से पढ़ाई-लिखाई सम्भव बनाने के लिये प्रयास किये गए हैं.

- कोविड-19 की शुरुआत से ही, बचाव व रोकथाम के लिये उपयुक्त उपायों के प्रचार-प्रसार के लिये मुहिम चलाई गई है

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष एजेंसी का कहना है कि अतिरिक्त टैस्टिंग उपकरण, आपूर्ति व ऑक्सीजन उत्पादों को ख़रीदने के लिये, संगठन को दो करोड़ डॉलर और जीवनरक्षक उपायों के लिए पाँच करोड़ डॉलर की सहायता धनराशि की आवश्यकता है.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड