मोज़ाम्बीक़: यूएन महासचिव ने बर्बरतापूर्ण हत्याओं पर जताया शोक

11 नवंबर 2020

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मोज़ाम्बीक़ में स्थानीय प्रशासन से हाल के दिनों में क्रूर हत्याओं की घटना की जाँच कराने और दोषियों की जवाबदेही तय किये जाने का आग्रह किया है. ये हत्याएँ देश के उत्तरी काबो डेलगाडो प्रान्त में हुई हैं जहाँ हथियारबन्द गुटों ने लगभग 50 लोगों की सिर धड़ से अलग कर हत्या कर दी है. 

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश के प्रवक्ता ने मंगलवार को एक बयान जारी किया जिसमें चरमपंथी हथियारबन्द गुटों द्वारा जनसंहार को अजांम दिये जाने की की रिपोर्टों को स्तब्ध कर देने वाली घटना क़रार देते हुए शोक जताया है.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार बड़ी संख्या में लोगों का सिर धड़ से अलग कर हत्या की गई और महिलाओं व बच्चों को अगवा कर लिया गया. 

महासचिव ने इस बर्बरता की कड़े शब्दों में निन्दा करते हुए मोज़ाम्बीक़ प्रशासन से इन घटनाओं की जाँच कराये जाने और दोषियों को न्याय के कटघरे में लाने का आग्रह किया है. 

उन्होंने हिंसक संघर्ष के सभी पक्षों से अन्तरराष्ट्रीय मानवीय और मानवाधिकार क़ानूनों के तहत तय दायित्वों के निर्वहन की पुकार लगाई है. 

यूएन प्रमुख ने भरोसा दिलाया है कि मोज़ाम्बीक़ सरकार और स्थानीय जनता की तात्कालिक मानवीय राहत आवश्यकताओं को पूरा करने और मानवाधिकारो की रक्षा करने, विकास को बढ़ावा देने और हिंसक चरमपंथ के प्रसार को रोकने के लिये संयुक्त राष्ट्र प्रतिबद्ध है. 

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक एक हथियारबन्द चरमपंथी गुट ने उत्तरी काबो डेलगाडो प्रान्त में 6 से 8 नवम्बर के बीच अनेक गाँवों पर हमला किया और 50 लोगों की नृशंस हत्या कर दी.  

चरमपंथियों ने कई महिलाओं व बच्चों को अगवा किया है और बड़ी संख्या में घरों को जलाया है. 

चुनौतीपूर्ण हालात

मानवीय राहत मामलों में समन्वय के लिये संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (OCHA) के अनुसार काबो डेलगाडो प्रान्त में मानवीय हालात वर्ष 2020 में बदतर हुए हैं. 

लम्बे समय से विकास से वंचित इस क्षेत्र में जलवायु व्यवधान और बार-बार होने वाली बीमारियों का फैलाव हालात को और भी विकट बना रहा है.

हथियारबन्द गुटों द्वारा हमलों की बढ़ती संख्या से प्रान्त के उत्तरी और पूर्वी ज़िलों पर भारी असर हुआ है जिससे व्यापक पैमाने पर विस्थापन हुआ है और लोगों की आजीविका व बुनियादी सेवाओं तक पहुँच प्रभावित हुई हैं. 

बताया गया है कि काबो डेलगाडो प्रान्त में साढ़े तीन लाख से ज़्यादा घरेलू विस्थापन का शिकार हुए हैं और पड़ोसी नाम्पूला और नियासा प्रान्तों में अक्टूबर 2020 में यह संख्या लगातार बढ़ी है. 

हिंसा, विस्थापन और आजीविका का स्रोत खोने से प्रभावित इलाक़ों में खाद्य असुरक्षा गहरा गई है और सात लाख से ज़्यादा लोग भुखमरी की गम्भीर समस्या का सामाना कर रहे हैं. इनमें घरेलू विस्थापित और उनके मेज़बान समुदाय हैं.  

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिये यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड