असाधारण वीरता के लिए यूएन शांतिरक्षक को मिलेगा मरणोपरांत सम्मान

20 मई 2019

कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में अपने साथी शांतिरक्षक की जान बचाते समय असाधारण साहस और निस्वार्थ सेवा के प्रदर्शन के लिए मलावी के शांतिरक्षक चांसी चिटेटे को संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा के सबसे बड़े पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है. यूएन शांतिरक्षकों के अंतरराष्ट्रीय दिवस पर 24 मई को न्यूयॉर्क में आयोजित समारोह में उन्हें यह अवार्ड मरणोपरांत दिया जाएगा.

कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य के पूर्वी हिस्से में हथियारबंद गुट एडीएफ़ के विरूद्ध एक अभियान के दौरान प्राइवेट चिटेटे की मौत हो गई थी. एडीएफ़ के लड़ाके आम लोगों में आंतक फैला रहे थे और ईबोला की रोकथाम के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा किए जा रहे प्रयासों में अवरोध खड़े कर रहे थे.

प्राइवेट चिटेटे कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में संयुक्त राष्ट्र मिशन (MONUSCO) के लिए कार्यरत थे और मलावी और तंज़ानिया के शांतिरक्षकों के साथ मिलकर एडीएफ़ के विरूद्ध कार्रवाई में हिस्सा लेने के दौरान उनकी टीम पर ज़बरदस्त गोलीबारी हुई.

इसका उन्होंने  जवाब दिया लेकिन बुरी तरह घायल तंज़ानिया के शांतिरक्षक कॉरपोरल अली खमीस ओमारी को गोलियों की चपेट में आते देख प्राइवेट चिटेटे उन्हें खींचकर सुरक्षित स्थान पर ले गए और प्राथमिक चिकित्सा दी. कॉरपोरल ओमारी को बचाते समय उन्हें गोली लग गई जिससे उनकी मौत हो गई.

प्राइवेट चिटेटे की बहादुरी और त्याग की बदौलत शांतिरक्षकों को एडीएफ़ हथियारबंद लड़ाकों को उनके गढ़ से हटाने में सफलता मिली और कॉरपोरल ओमारी की जान भी बच गई.

संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा मामलों के प्रमुख ज्यां पिए लाकोआ ने कहा कि “प्राइवेट चिटेटे के असाधारण कृत्य से कई आम लोगों और सैनिकों की ज़िंदगियों को बचाने में मदद मिली. उनका बलिदान उन ख़तरों को दर्शाता है जिनका सामना हमारे शांतिरक्षक दुनिया में सबसे चुनौतीपूर्ण स्थानों पर रक्षा का अपना फ़र्ज़ निभाते समय हर दिन करते हैं. प्राइवेट चिटेटे हम सब के लिए एक प्रेरणा हैं और हम उनकी स्मृति का सम्मान करते हुए उन्हें उनके साहसिक और निस्वार्थ कृत्य के लिए याद करते समय गर्वित महसूस कर रहे हैं.”

इस अवॉर्ड को ‘कैप्टन म्बाये डियाने मेडल फ़ॉर एक्सेप्शनल करेज’ या असाधारण साहस के लिए कैप्टन म्बाये डियाने मेडल का नाम दिया गया है जिसे 2014 में सिविल और सैन्यकर्मियों के लिए शुरू किया गया था. कैप्टन डियाने संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षक थे जिन्होंने 1994 में रवांडा में सैकड़ों लोगों की जान बचाते समय अपनी जान गवां दी थी. 

पिछले चार साल मे कई शांतिरक्षकों को असाधारण सेवा के लिए इस पुरस्कार के लिए नामांकित किया जा चुका है लेकिन यह पहली बार है जब किसी शांतिरक्षक को यह अवार्ड दिया जा रहा है.

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में शांतिरक्षक दिवस पर आयोजित समारोह में प्राइवेट चिटेटे के परिजनों के शामिल होने की उम्मीद है जहां उन्हें ये मेडल सौंपा जाएगा.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड