दक्षिण अफ़्रीका: शार्पविल नरसंहार में जीवित बचे पीड़ितों की आपबीती

वर्ष 1985 में नस्लीय भेदभाव के उन्मूलन के अन्तरराष्ट्रीय दिवस पर दक्षिण अफ़्रीकी पुलिस द्वारा मारे गए लोगों के ताबूतों को ले जा रहे शोकाकुल लोग.
UN Photo
वर्ष 1985 में नस्लीय भेदभाव के उन्मूलन के अन्तरराष्ट्रीय दिवस पर दक्षिण अफ़्रीकी पुलिस द्वारा मारे गए लोगों के ताबूतों को ले जा रहे शोकाकुल लोग.

दक्षिण अफ़्रीका: शार्पविल नरसंहार में जीवित बचे पीड़ितों की आपबीती

मानवाधिकार

21 मार्च, 1960 को, दक्षिण अफ्रीका के शार्पविल में, रंगभेद के ख़िलाफ़ शान्तिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे, 69 प्रदर्शनकारियों को गोलियों से भून दिया गया था. इसीलिये, 21 मार्च का दिन, अब नस्लभेद के उन्मूलन के अन्तरराष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस नरसंहार में जीवित बचे कुछ पीडितों ने अपनी व्यथा बयान की है. एक वीडियो रिपोर्ट...