नस्लभेद

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, 16 सितम्बर को अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस के अवसर पर, यूएन मुख्यालय में एक समारोह के दौरान, शान्ति घंटी को बजाते हुए.
UN Photo/Mark Garten

अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस: ‘युद्ध विष’ से बचने और ‘शान्ति पुकार’ बुलन्द करने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस के अवसर पर, शुक्रवार को यूएन मुख्यालय में स्थित शान्ति घंटी को बजाते हुए, “युद्ध विष” से बचने और शान्ति की पुकार बुलन्द करने का आहवान किया है.

© OHCHR/Anthony Headley

साक्षात्कार: यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट के साथ विदाई बातचीत

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट, इस पद पर चार साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद अगस्त में, इस ज़िम्मेदारी को अलविदा कह रही हैं. उन्होंने यूएन न्यूज़ के साथ अपने विदाई साक्षात्कार में कहा है कि उन्होंने हमेशा ही अपनी बात किसी भी डर के बिना रखी है. मगर उन्होंने यह भी स्वीकार किया है कि ये ज़िम्मेदारी, देशों को स्वतंत्रताओं को सीमित करने से रोकने के लिये, लगातार चुनौतियों से भरी हुई है.

दक्षिण अफ़्रीका के राष्ट्रपति, नेलसन मण्डेला (बाएँ) यूएन महासभा के 53वें सत्र को सम्बोधित करने के लिये सभागार में प्रवेश करते हुए. उनके साथ हैं, संयुक्त राष्ट्र की प्रोटोकॉल प्रमुख, नादिया यूनिस. (21 सितम्बर,1998)
UN Photo/Evan Schneider

नेलसन मण्डेला: 'नैतिकता के विशाल उदाहरण व सन्दर्भ'

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने दक्षिण अफ़्रीका में रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद के देश के प्रथम काले राष्ट्रपति बने और नस्लवादी न्याय के प्रतीक नेलसन मण्डेला को उनकी याद में अन्तरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर अपने सन्देश में, "हमारे समय की एक विशाल हस्ती" बताते हुए कहा कि वो आज भी हमारे लिये " नैतिकता का उदाहरण व सन्दर्भ" बने हुए हैं.

यूएन महासभा ने 18 जुलाई को, वर्ष 2022 का अन्तरराष्ट्रीय नेलसन मण्डेला दिवस मनाया.
UN Photo/Mark Garten

एक बेहतर दुनिया के लिये नेलसन मण्डेला की जंग का जश्न

संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों ने सोमवार को यूएन मुख्यालय स्थिति सभागार में एकत्र होकर, नेलसन मण्डेला दिवस मनाया. ये समारोह हर किसी को अपने समुदायों में बदलाव लाने के लिये प्रेरित करने और कार्रवाई करने का एक मौक़ा है.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश, न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में, पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए. (फ़ाइल)
UN Photo

न्यूयॉर्क: बफ़ैलो में ‘नस्लवादी हिंसक अतिवाद की एक घातक करतूत’ की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गटेरेश ने अमेरिकी राज्य - न्यूयॉर्क के बफ़ैलो इलाक़े में शनिवार को एक सुपरमार्केट में हुए एक नस्लवादी हमले के सन्दर्भ में सदभाव और विविधता के लिये और ज़्यादा प्रतिबद्धता की अपील की है. उस हमले में 10 लोगों की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए.

अमेरिका के नॉर्थ कैरोलीना में, लोग नस्लभेद के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते हुए.
© UNSPLASH/Clay Banks

नस्लभेद व नफ़रत के ख़िलाफ़ एक सुर में बोलना होगा, एंतोनियो गुटेरेश

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को कहा है कि दुनिया भर के तमाम समाजों में आज भी नस्लभेद ने, संस्थानों, सामाजिक ढाँचों और हर एक इनसान की दैनिक ज़िन्दगी में ज़हर घोल रखा है. उन्होंने नफ़रत को सामान्य बनाने, गरिमा का हनन किये जाने और हिंसा को भड़कावा देने के चलन के ख़िलाफ़ आयोजित एक विशेष सम्मेलन में ये बात कही.

शोआह स्मारक: हॉलोकॉस्ट जागरूकता के अन्तरराष्ट्रीय आयाम
Photo: UNESCO

हॉलोकॉस्ट खण्डन की निन्दा करने वाला प्रस्ताव पारित

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गुरूवार को एक ऐसा प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया है जिसमें हॉलोकॉस्ट का खण्डन करने या उसके बारे में तोड़-मरोड़ कर जानकारी पेश किये जाने के मामलों या गतिविधियों की निन्दा की गई है.

फ्रांस के उत्तरी हिस्से में स्थित एक प्रवासी शिविर में एक लड़का.
UNICEF/Geai

ब्रिटेन: 'राष्ट्रीयता और सीमाएँ विधेयक' से 'अधिकार उल्लंघन के गम्भीर जोखिम'

संयुक्त राष्ट्र के पाँच स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने शुक्रवार को कहा कि ब्रिटेन में सांसद, जिस नए “राष्ट्रीयता व सीमाएँ विधेयक” (Nationality and Borders Bill) पर संसद में चर्चा कर रहे हैं उससे भेदभाव और मानवाधिकारों के गम्भीर उल्लंघन का ख़तरा बढ़ेगा, और ये विधेयक दरअसल अन्तरराष्ट्रीय क़ानून के तहत देश की ज़िम्मेदारियों का उल्लंघन भी करता है.

नस्लवाद और नस्लीय भेदभाव के समकालीन रूपों पर, संयुक्त राष्ट्र की विशेष रैपोर्टेयर टेण्डाई ऐश्यूम.
UN News

नस्लवाद पर बेबाकी: कोविड संकट और 'हेट स्पीच' के बावजूद, आशा की किरण

ई टैण्डाई ऐश्यूम बेबाक हैं, अपनी बात ईमानदारी और मज़बूती से कहती हैं, और सत्ता के सामने सच बोलती हैं. वह, सरकारों को यह बताने के लिये मशहूर हैं कि उन्हें ज़ेनोफ़ोबिया, नस्लभेद और असहिष्णुता के तमाम रूपों पर अपना कामकाज और व्यवहार कैसे बेहतर बनाना होगा.