'हराना ही होगा नफ़रत को'

8 मई 2020

कोविड-19 का मुक़ाबला करने में सारी दुनिया के सामने असाधारण चुनौती है लेकिन फिर भी अनेक देशों में नफ़रत, कुछ ख़ास समूहों पर दोषारोपण या कलंकित करने के मामले भी सामने आए हैं जो बेहद चिन्ताजनक है. महासचिव ने एकजुट होकर नफ़रत को भी हराने का आग्रह किया है, बिल्कुल उसी तरह से जैसे वैश्विक महामारी से निपटने के लिए वैश्विक एकजुटता की ज़रूरत है. नफ़रत का फैलाव भी एक महामारी के रूप में ही सामने आया है. वीडियो सन्देश...

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लि/s यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एण्ड्रॉयड

समाचार ट्रैकर: इस मुद्दे पर पिछली कहानियां

धर्म आधारित नफ़रत से निपटने के लिए 'शांति संदेशों को बढ़ावा ज़रूरी'

विश्व भर में धर्म और आस्था के आधार पर लोगों को निशाना बनाकर किए जा रहे हमलों पर चिंता जताते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने नफ़रत भरे संदेशों का पुरज़ोर विरोध करने और शांति संदेशों को बढ़ावा देने का आग्रह किया है. संयुक्त राष्ट्र 22 अगस्त को पहली बार धर्म और आस्था पर आधारित हिंसा के पीड़ितों की याद में अंतरराष्ट्रीय दिवस मना रहा है.

नफ़रत ‘हर एक के लिए खतरनाक है’, नफ़रत को समाप्त करने के लिए एकजुट प्रयासों का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतॉनियो गुटेरेश ने कहा है कि सभी धर्मों और मतों के श्रद्धालुओं के प्रति असहिष्णुता और नफ़रत से प्रेरित हिंसा एक बेहद चिंताजनक रुझान है और, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, इस पर तुरंत क़ाबू पाया जाना बहुत ज़रूरी.