लीबिया में ईद के मौक़े पर युद्धविराम से हिंसा में कमी

14 अगस्त 2019

संयुक्त राष्ट्र ने लीबिया में ईद-अल-अज़हा से ठीक पहले मानवीय आधार पर लड़ाई रोके जाने की अपील की थी जिसके बाद त्रिपोली और आस-पास के इलाक़ों में हिंसा में कमी आने की ख़बरें मिली हैं. लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मिशन ने एक बयान जारी कर इसका स्वागत करते हुए कहा है कि उल्लंघन के छुटपुट मामले सामने आने के बावजूद अब युद्धविराम को स्थाई रूप से लागू करने की आवश्यकता है.

संयुक्त राष्ट्र द्वारा 8 अगस्त को की गईअपील के बाद संयुक्त राष्ट्र से मान्यता प्राप्त सरकार और लीबियाई नेशनल आर्मी के कमांडर ख़लीफ़ा हफ़्तार के वफ़ादार सशस्त्र बलों ने लड़ाई रोके जाने की अपील का सम्मान करने की बात कही थी.

लेकिन यह संकल्प उस समय मुश्किल में पड़ गया जब 10 अगस्त को बेनग़ाज़ी के एक मॉल के बाहर हुए घातक कार बम हमले में तीन यूएन कर्मचारियों की मौत हो गई और अनेक घायल हो गए.

लीबिया के पूर्वी शहर बेनग़ाज़ी पर लीबियन नेशनल आर्मी का नियंत्रण है.

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार को संवाददाताओं के नाम एक नोट जारी किया जिसमें स्पष्ट किया गया कि कार बम हमले की ज़िम्मेदारी के दावों पर यूएन के पास जानकारी नहीं है.

संयुक्त राष्ट्र इस संबंध में तथ्यों का पता लगाने में जुटा और मामले की आंतरिक जांच भी शुरू की गई है.

बयान में कहा गया है, “लीबिया में स्थाई शांति और स्थिरता संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों के केंद्र में है, जिनमें बदतर होते जा रहे मानवीय संकट को ख़त्म करने के लिए राजनैतिक समाधान तलाश करना भी शामिल है. इसके लिए सभी पक्षों को बिना देरी संवाद में हिस्सा लेना चाहिए. संयुक्त राष्ट्र इस संवाद के लिए मदद करने को तैयार है.”

पूर्व राष्ट्रपति मुआम्मर गद्दाफ़ी के बाद से ही लीबिया भारी राजनैतिक अस्थिरता और हिंसा से जूझता रहा है.

इस वर्ष अप्रैल के शुरुआती दिनों में अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त सरकार के सुरक्षा बलों और देश के पूर्वी हिस्से पर नियंत्रण करने वाले लीबियन नेशनल आर्मी के कमांडर ख़लीफ़ा हफ़्तार के वफ़ादार सैनिकों में भारी लड़ाई शुरू हुई जिसमें सैकड़ों लोगों की मौत हुई और एक लाख से ज़्यादा घर छोड़कर भागने के लिए मजबूर हुए हैं.

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNSMIL) ने युद्धरत पक्षों से रविवार और सोमवार को त्यौहार के अवसर पर सकारात्मक कार्रवाई का स्वागत किया है.

बयान के मुताबिक़ लीबिया में अंतरिम सरकार ने शुक्रवार को एकतरफ़ा ढंग से लड़ाई रोकने की घोषणा की थी, बशर्ते के लीबियन नेशनल आर्मी भी ज़मीनी और हवाई कार्रवाई रोके और सैनिक गतिविधियों पर भी रोक लगाई जाए.

यूएन द्वारा तय की गई समय सीमा के बाद लीबियन नेशनल आर्मी ने 48 घंटे के लिए अपना सैन्य अभियान रोकने की घोषणा की थी.

हालांकि युद्धविराम की अवधि में हिंसा में ख़ासी कमी दर्ज करने के बाद यूएन मिशन को अब उल्लंघन के मामलों की भी जानकारी मिल रही है.

रिपोर्टों के अनुसार दक्षिण-पश्चिमी लीबिया के मुर्ज़ुक शहर में युद्धविराम का सम्मान नहीं किया गया जहां सांप्रदायिक हिंसा जारी रही जिसमें सात लोगों की मौत हो गई और 50 अन्य घायल हुए हैं.

यूएन मिशन प्रमुख ग़ासन सलामे ने कहा है कि युद्धविराम की छोटी अवधि में जो कुछ हासिल हुआ है, संयुक्त राष्ट्र उसका इस्तेमाल स्थाई युद्धविराम हासिल के लिए करने के लिए तत्काल तैयार है.

मिशन ने युद्ध विराम के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मिले समर्थन का स्वागत किया है और संबंधित देशों की एक बैठक बुलाने का प्रस्ताव रखा है.

बयान में देशों से अपील की गई है कि स्थाई युद्धविराम के लिए गारंटी देनी होगी, हथियार बेचे जाने पर पाबंदी का सम्मान करना होगा और हिंसा रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र के समर्थन से होने वाली राजनैतिक प्रक्रिया पर लौटना होगा.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड