वैश्विक तापमान बढ़ने के व्यापक दुष्परिणाम

17 जनवरी 2020

विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने पुष्टि की है कि वर्ष 2019 रिकॉर्ड पर अब तक का दूसरा सबसे ज़्यादा गर्म साल साबित हुआ है. यूएन एजेंसी के अनुमान के मुताबिक़ वर्ष 2019 में वार्षिक वैश्विक वृद्धि 1.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज की गई.  

इससे पहले 2016 ही साल 2019 से ज़्यादा गर्म दर्ज किया गया था.  1980 के बाद से हर दशक उससे पहले के दशक की तुलना में ज़्यादा गर्म दर्ज किया गया है.

दिल्ली में अंशु शर्मा के साथ बातचीत में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम में विशेषज्ञ सबा कलाम ने बताया कि तापमान बढ़ने से कृषि सहित जीवन के कई क्षेत्रों पर ज़बरदस्त दुष्परिणाम देखने को मिलेंगे और इस चुनौती से निपटने के लिए ठोस रणनीति का तैयार होना आवश्यक है. 

अवधि
7'51"

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड