अफ़ग़ान राष्ट्रपति चुनाव के अंतिम चरण की अखंडता के लिए पुकार

23 दिसम्बर 2019

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन के प्रमुख तादामीची यामामोतो ने देश के राष्ट्रपति चुनाव में रविवार को आए प्रारंभिक परिणामों का स्वागत करते हुए सभी अधिकारियों और संबंधित लोगों से "प्रक्रिया के अंतिम चरण की अखंडता की रक्षा करने" का आग्रह किया है.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) के अध्यक्ष तादामीची यामामोतो ने रविवार को कहा कि देश ने सितंबर में "सुरक्षा पर मंडराते हुए ख़तरे" का सामना करते हुए बेहतर भविष्य के लिए राष्ट्रपति चुनाव में भाग लिया था.”

उन्होंने अब "सभी से सुरक्षित तरीक़े से चुनाव पूरा करने” का आग्रह किया.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र महासचिव के विशेष प्रतिनिधि तादामीची यामामोतो ने ज़ोर देकर कहा, "अपना नागरिक कर्तव्य निभाने के लिए उन मतदाताओं की सराहना की जानी चाहिए." 

उन्होंने कहा, "प्रक्रिया के अंतिम चरण में चुनावी प्रबंधन निकायों द्वारा किए गए किसी भी निर्णय का स्पष्ट क़ानूनी और तकनीकी औचित्य होना चाहिए, जिसे साफ़ शब्दों में अफग़ानिस्तान के लोगों को समझाया जाना चाहिए." 

प्रारंभिक परिणामों के अनुसार, राष्ट्रपति अशरफ ग़नी कम अंतर से बहुमत की तरफ बढ़ रहे हैं. इससे पहले चुनावों में घपले के आरोपों के कारण देश में राजनैतिक संकट खड़ा हो गया था.  

समाचारों में कहा गया है कि देश में सभी पक्षों द्वारा स्वीकृत एक मज़बूत नेता के अभाव में अफग़ानिस्तान फिर क़बायली और जातीय स्तरों पर बंट सकता है.

साथ ही रिपोर्टों में इस पर भी ग़ौर किया गया है कि ये परिणाम एक ऐसे महत्वपूर्ण समय पर आ रहे हैं जब 18 साल के लंबे युद्ध को समाप्त करने के लिए अमेरिका, तालिबान के साथ एक शांति समझौते पर बातचीत करने में गहरी दिलचस्पी दिखा रहा है. 

संयुक्त राष्ट्र ने अंतिम परिणामों तक ले जाने के लिए एक व्यवस्थित, सुरक्षित प्रक्रिया के महत्व को रेखांकित किया और दोहराया कि चुनाव प्रक्रिया एक संयुक्त ज़िम्मेदारी है जिसमें चुनाव प्रबंधन निकाय और उम्मीदवारों के साथ-साथ मीडिया और नागरिक समाज भी शामिल हैं.

यूएनएएमए (UNAMA) प्रमुख तादामीची यामामोतो ने कहा, "सभी उम्मीदवारों को उपयुक्त क़ानूनी ढांचे, विनियमों और प्रक्रियाओं के अनुसार, निर्धारित समय के भीतर और उपयुक्त तंत्र के माध्यम से अपनी चिंताएँ उठाने का मौक़ा मिलेगा." 

साथ ही उन्होंने कहा कि अफग़ानिस्तान के चुनाव शिकायत आयोग (ECC) का “दायित्व है कि वो किसी भी शिकायत को पारदर्शी तरीक़े से स्वीकार करे और चुनाव प्रक्रिया को एक विश्वसनीय तरीक़े से पूरा करने में मदद दे.”

यूएनएएमए, अफग़ान चुनावों में धोखाधड़ी से लड़ने और क़ानून के मुताबिक एक पारदर्शी और विश्वसनीय चुनाव प्रक्रिया के लिए देश के अधिकारों के साथ मिलकर निष्पक्ष और विशेषज्ञ सलाह  देने के लिए काम जारी रखेगा.

तादामीची यामामोतो ने सोमवार को सुरक्षा परिषद को बताया कि प्रक्रिया पूरी होने के बाद ये चुनाव "देश में राजनैतिक व्यवस्था स्थापित करने की ओर इतिहास में एक मील का पत्थर" साबित होंगे.

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड