भारत में यूएन सक्रियता-2: सामाजिक-आर्थिक कार्रवाई

भारत में कोविड महामारी के दौरान खाद्य असुरक्षा से जूझ रहे कमज़ोर तबके के लोगों को विश्व खाद्य कार्यक्रम खाद्य सहायता प्रदान कर रहा है.
WFP India
भारत में कोविड महामारी के दौरान खाद्य असुरक्षा से जूझ रहे कमज़ोर तबके के लोगों को विश्व खाद्य कार्यक्रम खाद्य सहायता प्रदान कर रहा है.
कोविड महामारी फैलने के कारण उत्पन्न नई स्थिति में इशिका ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा ले रही है.
UNICEF/Panjwani
कंचन नेसा उत्तर प्रदेश के गाज़ियाबाद शहर में एक सफ़ाई कर्मचारी हैं.
UNDP/Deepak Malik
कोविड-19 महामारी के बीच लिंग आधारित हिंसा भी पनप रही है.
UNFPA
कोविड-19 महामारी की जवाबी कार्रवाई में, संयुक्त राष्ट्र ड्रग्स एवं क्राइम कार्यालय (UNODC) ने ‘लॉकडाउन लर्नर्स’ कार्यक्रम शुरू किया.
UNODC
भारत में यूएनएफ़पीए की वकालत के परिणामस्वरूप ई-सुविद्या कार्यक्रम के ज़रिये जीवन कौशल शिक्षा का एकीकरण हुआ, जिसमें किशोरों,विशेषकर लड़कियों की समस्याओं को दूर करने पर ज़ोर दिया गया.
UNFPA
भारत में विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफ़पी) ने ‘अन्नपूर्ति’ कार्यक्रम विकसित किया, जिसके तहत एक स्वचालित डिस्पेंसिंग मशीन के ज़रिये लोगों को किसी भी समय अपनी पसंद का अनाज मिलता है.
WFP India
नागालैंड के वोखा ज़िले में किसानों और ग्रामीण अधिकारियों को कोविड-19 के दौरान सुरक्षित खेती और पशुपालन के तरीक़ों पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है.
FAO India
कोविड महामारी के कारण लाखों अनौपचारिक श्रमिकों की आजीविका पर असर पड़ा है.
UNDP/Dhiraj Singh
दिल्ली पुलिस का एक प्रशिक्षक शरणार्थी लड़कियों और महिलाओं को आत्मरक्षा सिखाती हैं.
©UNHCR/Kaynat Salami
उत्तर प्रदेश के आगरा शहर में स्कूली बच्चों ने प्लास्टिक का उपयोग न करने का संकल्प लिया.
UNEP India
गुजरात में स्वच्छता और कोविड महामारी की रोकथाम के लिये एक सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता एक बच्चे को सही ढंग से हाथ धोना सिखा रहा है.
UNICEF/Panjwani
तेलंगाना में UNFPA के कार्यान्वित भागीदार हेल्पएज इंडिया के ज़रिये, वरिष्ठ नागरिकों को आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएँ और ज़रूरत की वस्तुएँ दी जाती हैं.
UNFPA/HelpAge India
‘स्टार्ट एंड इम्प्रूव योर बिज़नेस ‘(SIYB)नामक एक ऑनलाइन कार्यक्रम की प्रतिभागी, 32 साल की उद्यमी मीनू, बेकरी व्यवसाय में हैं.
ILO
कोरोवायरस महामारी के कारण एचआईवी के उच्च जोखिम वाले समूह में एक यौनकर्मी अनु की कमाई ख़त्म हो गई, जिससे वो भुखमरी के कगार पर पहुँच गई है.
WFP
 बिहार में मानसून के मौसम में महिलाओं और लड़कियों के लिये स्वच्छता और सफ़ाई उत्पादों सहित अन्य सेवाओं व आवश्यक वस्तुओं तक पहुँच कम हो गई.
UNFPA