महासभा का 77वाँ सत्र: रूपान्तरकारी बदलावों की पुकार