हिंसक संघर्ष के बाद जीवन – नेतृत्व व समर्थन