युवा

अर्चना सोरेंग का, प्रकृति-आधारित समाधानों में, आदिवासी युवाओं के हितों पर ज़ोर

​भारत की युवा जलवायु कार्यकर्ता अर्चना सोरेंग ने सचेत किया है कि जलवायु परिवर्तन का मुक़ाबला करने में, प्रकृति-आधारित समाधान अपनाए जाते समय आदिवासी समुदायों और युवाओं के हितों का ध्यान रखा जाना होगा, और प्रकृति व आमजन के लिये, न्याय व कल्याण को प्राथमिकता देनी होगी. पर्यावरण पर यूएन महासचिव के युवा सलाहकारों के समूह में शामिल अर्चना सोरेंग ने, गुरुवार को आयोजित जलवायु शिखर बैठक के दौरान एक सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि आदिवासी जन, केवल प्रकृति का हिस्सा भर नहीं हैं, बल्कि प्रकृति ही हैं.

युवा फ़ोरम: अन्याय, कुशासन से जूझती दुनिया में, बेहतरी के ठोस उपायों का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि विश्व नेताओं को सुनी-सुनाई, पुरानी बातों से आगे बढ़कर, युवाओं के लिये एक बेहतर भविष्य सुनिश्चित करने की दिशा में ठोस उपाय करने होंगे. यूएन के शीर्षतम अधिकारी ने बुधवार को आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (ECOSOC) की दसवीं युवा फ़ोरम बैठक को सम्बोधित करते हुए ये बात कही है. इस बैठक में 11 हज़ार से युवाओं ने वर्चुअल माध्यम से शिरकत की है.

आयु-आधारित पूर्वाग्रह व भेदभाव - हर वर्ष अरबों डॉलर के नुक़सान का कारण

व्यक्तियों की उम्र पर आधारित नकारात्मक रूढ़िवादी मान्यताओं, पूर्वाग्रहों और धारणाओं से ना केवल ख़राब स्वास्थ्य व सामाजिक रूप से अगल-थलग पड़ने की समस्या उभरती है, बल्कि अर्थव्यवस्थाओं को भी अरबों डॉलर का नुक़सान होता है. संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने गुरुवार को एक नई रिपोर्ट जारी करके, आयु-आधारित भेदभाव व पूर्वाग्रह से निपटने के लिये तत्काल कार्रवाई किये जाने की पुकार लगाई है. 

जलवायु सर्वेक्षण: जलवायु परिवर्तन है 'वैश्विक आपात स्थिति'

जलवायु परिवर्तन पर कराये गए एक सर्वेक्षण में शामिल 12 लाख में से दो-तिहाई लोगों का मानना है कि जलवायु संकट से वैश्विक स्तर पर आपात हालात पैदा हो गये है जिससे निपटने के लिये तात्कालिक क़दम उठाये जाने की आवश्यकता है. संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा कराये गए इस सर्वेक्षण को जलवायु परिवर्तन पर अब तक का सबसे बड़ा सर्वे (People’s Climate Vote) माना जा रहा है जिसे विश्व की आधी से ज़्यादा आबादी वाले 50 देशों में कराया गया. 

शान्तिनिर्माण कोष के लिये नई अपील, बहुपक्षवाद और पारस्परिक सहयोग पर ज़ोर 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बहुपक्षवाद और अन्तरराष्ट्रीय सहयोग को नए सिरे से बढ़ावा देने के लिये शान्तिनिर्माण कोष (Peacebuilding Fund) को मज़बूती प्रदान करने का आहवान किया है. इस विषय पर मंगलवार को हुए एक उच्चस्तरीय सम्मेलन में बताया गया है कि वर्ष 2020-2024 के दौरान शान्तिनिर्माण कोष के लिये डेढ़ अरब डॉलर की आवश्यकता होगी. 

यूएन75: वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिये अन्तरराष्ट्रीय सहयोग में भरोसे पर मुहर

दुनिया भर में लोगों ने वैश्विक चुनौतियों का असरदार ढँग से मुक़ाबला करने के लिये बहुपक्षवाद में अपना भरोसा व्यक्त किया है. संयुक्त राष्ट्र की स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर, 2020 के दौरान, साल भर तक चले सर्वेक्षणों और सम्वादों में यह बात प्रमुखता से सामने आई है.  

युवा सक्रियता के ज़रिये महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों में जान फूँकने की पहल

कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों के तहत, सोमवार को एक अभूतपूर्व वैश्विक युवा पहल शुरू की गई है जिसमें युवाओँ के नेतृत्व वाले समाधानों और कार्यों को बढ़ावा देने और संसाधन निवेश किया जाएगा.

विश्व बाल दिवस: हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की कल्पना

शुक्रवार, 20 नवम्बर को ‘विश्व बाल दिवस’ के अवसर पर दुनिया भर में समाजों से हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की फिर से कल्पना करने की पुकार लगाई गई है. वैश्विक समुदाय का आहवान किया गया है कि हर बच्चे के लिये ऐसी परिस्थितियों का निर्माण करना होगा जिसमें सभी बच्चे फल-फूल सकें. 

मानवाधिकारों को मज़बूती व शान्ति को बढ़ावा देने वाले डिजिटल जगत का आहवान

नई टैक्नॉलॉजी की सम्भावनाओं से दमकती दुनिया एक ऐसे युग में प्रवेश कर रही है जहाँ वैश्विक शान्ति, स्थिरता और विकास के लिये नए जोखिम भी मौजूद हैं. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने बुधवार को महासभा के 75वें सत्र के दौरान आयोजित एक कार्यक्रम में बेहतर भविष्य की ख़ातिर सर्वजन के लिये डिजिटल टैक्नॉलॉजी की उपलब्धता सुनिश्चित करने की पुकार लगाई है. 

बेहतर भविष्य के लिये युवाओं के जोश का सदुपयोग अहम, 2020 के युवा चैम्पियन

संयुक्त राष्ट्र ने टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के प्रयासों में उल्लेखनीय भूमिका निभाने वाले 17 पैरोकारों को वर्ष 2020 के युवा चैम्पियन के रूप में मान्यता दी है.