युवा

विश्व बाल दिवस: हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की कल्पना

शुक्रवार, 20 नवम्बर को ‘विश्व बाल दिवस’ के अवसर पर दुनिया भर में समाजों से हर बच्चे के लिये एक बेहतर भविष्य की फिर से कल्पना करने की पुकार लगाई गई है. वैश्विक समुदाय का आहवान किया गया है कि हर बच्चे के लिये ऐसी परिस्थितियों का निर्माण करना होगा जिसमें सभी बच्चे फल-फूल सकें. 

मानवाधिकारों को मज़बूती व शान्ति को बढ़ावा देने वाले डिजिटल जगत का आहवान

नई टैक्नॉलॉजी की सम्भावनाओं से दमकती दुनिया एक ऐसे युग में प्रवेश कर रही है जहाँ वैश्विक शान्ति, स्थिरता और विकास के लिये नए जोखिम भी मौजूद हैं. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने बुधवार को महासभा के 75वें सत्र के दौरान आयोजित एक कार्यक्रम में बेहतर भविष्य की ख़ातिर सर्वजन के लिये डिजिटल टैक्नॉलॉजी की उपलब्धता सुनिश्चित करने की पुकार लगाई है. 

बेहतर भविष्य के लिये युवाओं के जोश का सदुपयोग अहम, 2020 के युवा चैम्पियन

संयुक्त राष्ट्र ने टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के प्रयासों में उल्लेखनीय भूमिका निभाने वाले 17 पैरोकारों को वर्ष 2020 के युवा चैम्पियन के रूप में मान्यता दी है.

यूएन रेडियो हिन्दी बुलेटिन 4 सितम्बर 2020

4 सितम्बर 2020 के साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...
--------------------------

ऑडियो -
20'

जलवायु परिवर्तन और विकास चुनौतियों से निपटने में युवाओं का साथ अहम

दुनिया युवाओं के आशावाद, तकनीकी कौशल और उनकी ऊर्जा को निखारे बग़ैर टिकाऊ विकास लक्ष्यों के 2030 एजेण्डा या जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते के लक्ष्यों को हासिल करने की उम्मीद नहीं कर सकती है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मंगलवार को आयोजित एक उच्चस्तरीय कार्यक्रम में युवाओं के बेहतर भविष्य और वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिये डिजिटल समाधानों, शिक्षा और ट्रेनिंग में निवेश किये जाने का आहवान किया है.  

अन्तरराष्ट्रीय युवजन दिवस: युवा पीढ़ी की सहनक्षमता व दूरदृष्टि की सराहना

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने जलवायु परिवर्तन, लैंगिक असमानता सहित अन्य विश्व चुनौतियों से निपटने के प्रयासों में योगदान के लिये युवाओं की प्रशंसा की है. यूएन प्रमुख ने बुधवार को ‘अन्तरराष्ट्रीय युवजन दिवस’ पर विश्व नेताओं का आहवान किया है कि युवाओं की सम्भावनाओं को पूर्ण रूप से साकार करने के लिये हरसम्भव प्रयास किये जाने होंगे. 

कोविड-19: युवा पीढ़ी के लिये शिक्षा व रोज़गार के अवसरों पर संकट का साया 

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का एक नया विश्लेषण दर्शाता है कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से युवाओं की शिक्षा व प्रशिक्षण के अवसरों पर विनाशकारी असर पड़ा है जिससे विषमताएँ गहरी हो रही हैं और एक पूरी पीढ़ी की सम्भावनाओं पर जोखिम मँडरा रहा है. महामारी की शुरुआत से अब तक शिक्षा और पढ़ाई-लिखाई के साथ-साथ कामकाज में जुटे 70 फ़ीसदी से ज़्यादा युवजन स्कूल, विश्वविद्यालय और प्रशिक्षण केन्द्र बन्द होने से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी की सलाह – ख़ुद को 'अपराजेय' ना समझें युवा

वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण से गम्भीर रूप से पीड़ित होने का ख़तरा वृद्धजनों को सबसे अधिक है लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने युवा पीढ़ी को आगाह किया है कि इस महामारी से उन्हें भी पूरी तरह सचेत रहना होगा. कोरोनावायरस संक्रमण के अब तक एक करोड़, 68 लाख से ज़्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है और छह लाख, 62 हज़ार से अधिक लोगों की मौत हुई है. 

प्रतिष्ठित पर्यावरण पुरस्कार के लिये 35 युवा होनहार पहुँचे फ़ाइनल में

संयुक्त राष्ट्र के एक सर्वाधिक प्रतिष्ठित पर्यावरण पुरस्कार के लिये अनोखी रचनाशीलता व नवाचार निर्माणशील विचारों के लिये 35 युवाओं को क्षेत्रीय स्तर पर सूचीबद्ध किया गया है. इनमें अमेज़ॉन की आदिवासी भूमि का खोजी व साहसिक यात्राओं के ज़रिये संरक्षण, अमेरिका में हानिकारक कार्बन उत्सर्जन को मूल्यवान उपभोग संसाधानों में तब्दील करना, नाईजीरिया में पानी से बिजला उत्पादन जैसे नवीन विचार व प्रयोग शामिल हैं जिनके लिये इन युवाओं को नामांकित किया गया है.

कोविड-19: युवाओं के लिये मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं को मज़बूत बनाने की ज़रूरत

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के कारण युवाओं के कल्याण और मानसिक स्वास्थ्य पर असर हुआ है. कोरोनावायरस संकट की नई वास्तविकताओं के मद्देनज़र युवा अपनी जि़न्दगी को किस तरह ढाल सकते हैं और मानसिक स्वास्थ्य का ख़याल रखते हुए आगे बढ़ सकते हैं, संयुक्त राष्ट्र ने इसी विषय पर बुधवार को एक वेबिनार का आयोजन किया जिसमें महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भी शिरकत की.