यूएन75

यूएन दिवस: सभी के लिये बेहतर दुनिया

संयुक्त राष्ट्र दिवस (24 अक्टूबर) पर महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सभी के लिये एक बेहतर दुनिया का साझा सपना साकार करने, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मूल्यों को जीवन्त रखने और दशकों के दौरान हासिल की गई प्रगति को आगे बढ़ाने की अपील की है. वीडियो सन्देश...

#दुनिया, जो हम चाहते हैं...

#दुनिया जो हम चाहते हैं, 75 ऐसी तस्वीरों का विशेष संकलन है जो 130 से ज़्यादा देशों से प्राप्त हुई 50 हज़ार तस्वीरों में से चुनी गई हैं. ये संकलन दरअसल यूएन महासचिव की उस पुकार के जवाब में जुटाया गया है जिसमें उन्होंने दुनिया भर में लोगों से भविष्य के लिये उनकी प्राथमिकताओं उनके विचार सीधे भेजने के लिये कहा था. इस वीडियो में वर्चुअल प्रदर्शनी #TheWorldWeWant यानि '#दुनिया, जो हम चाहते हैं', से कुछ विजेता तस्वीरें पेश की गई हैं जिनमें हम सभी भविष्य के लिये साझा उम्मीदें और सपने संजोए हुए हैं. इस फ़ोटो प्रतियोगिता का आयोजन यूएन75 के समर्थन में मोबाइल ऐप - Agora ने किया था.

 

पूरी वर्चुअल प्रदर्शनी देखने के लिये यहाँ क्लिक करें

 

अभूतपूर्व रहा, महासभा का 75वाँ सत्र

यूएन महासभा का 75वाँ सत्र, इस विश्व संगठन के इतिहास के किसी अन्य सत्र से बिल्कुल अलग था क्योंकि कोविड-19 महामारी के कारण सभी देशों और सरकार के प्रमुखों ने इस बार पहले से रिकॉर्ड किये हुए वीडियो सन्देशों के ज़रिये जनरल डिबेट में शिरकत की.

हालाँकि इस सत्र और जनरल डिबेट का प्रमुख मुद्दा कोविड महामारी रहा, जिसमें ज़्यादातर प्रतिभागियों ने स्वीकार किया कि विश्व परस्पर रूप से जुड़ा है और इसके लिये बहुपक्षीय समाधानों की आवश्यकता है. इसी सन्दर्भ में, कई देशों ने स्वास्थ्य के अलावा जलवायु कार्रवाई, शान्ति, मानव अधिकारों और टिकाऊ विकास जैसी चुनौतियों के लिये संयुक्त राष्ट्र के अधिकाधिक उपयोग पर ज़ोर दिया... (वीडियो)

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलैटिन 25 सितम्बर 2020

25 सितम्बर 2020 के इस बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
25'50"

यूएन की 75वीं वर्षगाँठ पर भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी का वीडियो सन्देश

संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में आयोजित उच्च स्तरीय बैठक को भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी का वीडियो सन्देश, जिसमें उन्होंने कि संगठन "विश्वास के संकट" का सामना कर रहा है और पुरानी संरचनाओं के साथ वर्तमान चुनौतियों का मुक़ाबला करना असम्भव होगा.

यूएन75: उपलब्धियाँ व प्रासंगिकता

वर्ष 1945 में स्थापित संयुक्त राष्ट्र ने 2020 में 75वीं वर्षगाँठ मनाई. इस तीन चौथाई शताब्दी के दौरान इस विश्व संगठन ने अनेक चुनौतियों का सामना किया, अनेक उपलब्धियाँ हासिल कीं और सभी के लिये उपयुक्त भविष्य बनाने के मिशन पर काम किया है. संयुक्त राष्ट्र की महत्ता और प्रासंगिकता पर नज़र डालती एक फ़िल्म...

नेशन्स यूनाइटेड: 'आपदा दौर के लिये आपदा समाधान'

वर्ष 2020 में संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगाँठ मनाई गई. इस अवसर पर वैश्विक संवाद शुरू करने के साथ-साथ, अतीत की उपलब्धियों से सबक़ सीखने और भविष्य की चुनौतियों के लिये कमर कसने पर भी ज़ोर दिया गया. यूएन की ज़िम्मेदारियों पर नज़र डालती एक फ़िल्म - "नेशन्स यूनाइटेड - असाधारण समय के लिये असाधारण समाधान..."

यूएन75 संवाद: दस लाख लोगों ने प्रकट कीं भविष्य के प्रति आशाएँ व आकाँक्षाएँ

संयुक्त राष्ट्र की स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर वैश्विक चुनौतियों से निपटने के सन्दर्भ में लोगों से उनकी राय और सुझावों के जानने के लिये व्यापक स्तर पर सम्पन्न हुए एक अभूतपूर्व सर्वेक्षण के नतीजे जारी कर दिये गए हैं. जनवरी 2020 में शुरू हुए इस सर्वे में विकसित व विकासशील देशों में जीवन के हर क्षेत्र से जुड़े लोगों, महिलाओं, पुरुषों, लड़कों, लड़कियों ने भविष्य के प्रति अपनी आकाँक्षाएँ, आशाएँ और आशंकाएँ प्रकट कीं और बताया कि संयुक्त राष्ट्र इस कार्य में उनकी किस तरह मदद कर सकता है. 

यूएन75: सबकी चाहत वाले भविष्य की ओर

वर्ष 2020 में संयुक्त राष्ट्र अपनी स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा है. इस अवसर पर सोमवार, 21 सितम्बर को एक उच्चस्तरीय बैठक का आयोजन किया गया जिसमें अनेक विश्व नेताओं ने शिरकत की. इस आयोजन की थीम थी - "The Future we want, The United Nations we need यानि 'भविष्य, हमारी चाहत वाला, संयुक्त राष्ट्र, हमारी ज़रूरत वाला'. साथ ही युवाओं की भूमिका, और आने वाली पीढ़ियों के लिये संयुक्त राष्ट्र की प्रासंगिकता बनी रहने पर भी ख़ास ज़ोर दिया गया.

'यूएन75 संवाद’ मुहिम में व्यापक भागीदारी का अनुरोध

संयुक्त राष्ट्र ने दुनिया के भविष्य पर चर्चा में सभी की हिस्सेदारी को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से एक नई मुहिम, 'यूएन75 संवाद', को शुरू किया है. इस मुहिम के ज़रिए साल भर सुझावों व समाधानों को जुटाकर उन्हें सितंबर 2020 में संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित होने वाले एक उच्चस्तरीय कार्यक्रम में विश्व नेताओं के सामने पेश किया जाएगा.