यूएन मिशन

‘दुनिया को बदलने से पहले ख़ुद को बदलें’

कैप्टन तन्वी शुक्ला काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में यूएन मिशन (MONUSCO) में भारतीय दल की महिला टीम की कमाण्डर हैं. कैप्टन शुक्ला के मुताबिक शान्तिरक्षा मिशन का हिस्सा बनने पर उन्हें बहुत कुछ सीखने, विविध पृष्ठभूमियों से आए लोगों से मिलने-जुलने और स्थानीय लोगों से संवाद स्थापित करने का अवसर मिला है. उनका कहना है कि हमें पहले ख़ुद में वो बदलाव लाने का प्रयास करना चाहिए जैसा कि हम दूसरों में देखना चाहते हैं. 

लीबिया में सामूहिक क़ब्रें मिलीं, जाँच की माँग

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि लीबिया में हाल के दिनों में सामूहिक क़ब्रें मिलने से उन्हें गहरा आघात पहुँचा है. ये क़ब्रें उन इलाक़ों में मिली हैं जो कुछ समय पहले तक विरोधी गुट के जनरल ख़लीफ़ा हफ़्तार के नेतृत्व वाली कथित लीबियन नेशनल आर्मी के क़ब्ज़े में थे.

कोविड-19: महामारी की चुनौती के बावजूद शान्ति व सुरक्षा के अनवरत प्रयास

अफ़्रीका और मध्य पूर्व में संयुक्त राष्ट्र के तीन मिशनों के सैन्य प्रमुखों ने गुरुवार को सुरक्षा परिषद को जानकारी देते हुए बताया कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान यूएन मिशन की ज़िम्मेदारियों को पूरा करने के साथ-साथ शान्तिरक्षकों के स्वास्थ्य और सुरक्षा का भी ध्यान रखने के प्रयास किए जा रहे हैं.
 

ब्राज़ील और भारत की महिला शान्तिरक्षकों को साझा रूप से पुरस्कार

लैंगिक समानता पर उत्कृष्ट कार्य के लिए भारतीय और ब्राज़ीलियाई महिला शान्तिरक्षकों को वर्ष 2019 के लिए संयुक्त रूप से 'यूएन मिलिट्री जैन्डर एडवोकेट ऑफ़ द ईयर' अवॉर्ड से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है. ब्राज़ील की नौसैनिक अधिकारी कमान्डर कार्ला मोन्तिएरो डे कास्त्रो अराउजो मध्य अफ़्रीका गणराज्य में यूएन मिशन (MINUSCA) में कार्यरत हैं और भारतीय सेना में मेजर सुमन गवानी दक्षिण सूडान के यूएन मिशन (UNMISS) में सैन्य पर्यवेक्षक के तौर पर ज़िम्मेदारी संभाल चुकी हैं.

ईद के मौक़े पर तालिबान और अफ़ग़ान सरकार में युद्धविराम का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान की सरकार और तालिबान द्वारा तीन दिन के लिए लड़ाई रोके जाने की घोषणा का स्वागत किया है. ईद-उल-फ़ित्र के पर्व से कुछ ही घण्टे पहले तालिबान ने अनेपक्षित घोषणा में कहा था कि उनकी ओर से हमले सिर्फ़ तभी होंगे जब उनके ठिकानों को निशाना बनाया जाएगा. इसके कुछ ही देर बाद राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने भी सुरक्षा बलों को इसका पालन करने के आदेश जारी कर दिए.

अफ़ग़ानिस्तान: 2020 की पहली तिमाही में 500 से ज़्यादा लोगों की मौत

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा के कारण वर्ष 2020 के पहले तीन महीनों के दौरान 500 से ज़्यादा आम नागरिकों की मौत हुई जिनमें 150 से ज़्यादा बच्चे थे. रिपोर्ट में देश में कोविड-19 महामारी के बढ़ते ख़तरे के बीच सभी पक्षों से आम लोगों को हिंसा के दंश से बचाने के लिए ज़्यादा प्रयास करने की ज़रूरत पर बल दिया गया है.

अफ़ग़ानिस्तान: काबुल में सिख गुरुद्वारे पर हमले की निंदा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के केंद्रीय इलाक़े में स्थित एक सिख गुरुद्वारे पर हुए हमले की निंदा की है. बुधवार को हुए इस हमले में अनेक लोगों की मौत हुई है और बहुत से अन्य घायल हुए हैं. 

अफ़ग़ानिस्तान: काबुल में हुए हमले की कड़ी निंदा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व नेता अब्दुल अली मज़ारी की स्मृति में आयोजित सभा में एकत्र लोगों पर हुए हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है. प्रारंभिक रिपोर्टों के मुताबिक इस हमले में 30 से ज़्यादा आम नागरिकों की मौत हुई है और अनेक घायल हुए हैं जिनमें महिलाएं व बच्चे भी हैं.

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि का इस्तीफ़ा

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि ग़स्सान सलामे ने दो वर्ष से ज़्यादा के अपने कार्यकाल के बाद सोमवार को अपने पद से इस्तीफ़ा देने की घोषणा की. लंबे समय से अस्थिरता व हिंसा से जूझ रहे लीबिया में शांति स्थापित करने के प्रयासों में जुटे यूएन मिशन (UNSMIL) प्रमुख ने अपने त्यागपत्र की वजह काम का भारी दबाव होना बताया है.

इराक़: दाएश लड़ाकों के मुक़दमों की निष्पक्षता पर सवाल

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि दाएश संगठन के पूर्व आतंकवादी लड़ाकों को न्याय के कटघरे में लाने के लिए इराक़ी प्रशासन ने काफ़ी प्रयास किए हैं लेकिन अदालती प्रक्रिया की निष्पक्षता पर गंभीर चिंताएँ बरक़रार हैं. इराक़ में यूएन मिशन (UNAMI) और संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) द्वारा साझा रूप से तैयार इस रिपोर्ट के मुताबिक़ निष्पक्ष ढंग से मुक़दमे की कार्यवाही के लिए निर्धारित बुनियादी मानकों का पालन नहीं किया गया.