यूएन मिशन

लीबिया में शान्ति की दिशा में ठोस प्रगति, महिलाओं की भूमिका अहम

 लीबिया, दशकों की राजनैतिक अस्थिरता और हिंसक संघर्ष के बाद शान्ति पथ की ओर क़दम बढ़ा रहा है और इस प्रक्रिया में अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को अपनी भूमिका निभानी होगी. लीबिया में यूएन महासचिव की कार्यवाहक विशेष प्रतिनिधि स्टेफ़नी विलियम्स ने यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास इन्टरव्यू में ने राष्ट्रीय सहमति वाली सरकार और लीबियाई नेशनल आर्मी के बीच हाल ही में ट्यूनीशिया में हुई पहले दौर की वार्ता की सराहना की है. 

लीबिया: सुरक्षित व समृद्ध भविष्य की ओर अग्रसर, मगर चुनौतियाँ बरक़रार

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अधिकारी ने गुरुवार को सुरक्षा परिषद को देश में मौजूदा हालात से अवगत कराते हुए कहा है कि वर्षों की राजनैतिक अस्थिरता और हिंसक संघर्ष के बाद देश शान्ति पथ पर ठोस प्रगति की ओर अग्रसर है.

लीबिया: राष्ट्रीय चुनाव दिसम्बर 2021 में कराए जाने की घोषणा

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNSMIL) की प्रमुख स्टेफ़नी विलियम्स ने देश में राष्ट्रीय चुनाव 24 दिसम्बर 2021 को कराए जाने की बात कही है. उन्होंने ट्यूनीशिया की राजधानी ट्यूनिस में बातचीत शुरू होने के एक सप्ताह बाद एक वर्चुअल प्रैस वार्ता के दौरान चुनाव सम्बन्धी घोषणा की है. 

अफ़ग़ानिस्तान: काबुल यूनिवर्सिटी में हमला, ‘शिक्षा के मानवाधिकार पर हमला’

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान में काबुल विश्वविद्यालय में हुए भयावह हमले की कड़े शब्दों में निन्दा की है. मीडिया ख़बरों के अनुसार सोमवार को हुए इस हमले में 20 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है और अनेक अन्य घायल हुए हैं. 10 दिनों के भीतर यह दूसरा ऐसा हमला है जिसमें किसी शिक्षा केन्द्र को निशाना बनाया गया है. 

अफ़ग़ानिस्तान: कॉलेज पर हमला, यूएन मिशन ने जताया क्षोभ

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNAMA) ने राजधानी काबुल में एक आत्मघाती हमले में एक कॉलेज को सुनियोजित ढँग से निशाना बनाए जाने पर गहरा क्षोभ व्यक्ति किया है. ख़बरों के अनुसार शनिवार रात को हुए इस हमले में कम से कम 24 लोगों की मौत हुई है और अनेक अन्य घायल हुए हैं जिनमें बड़ी संख्या युवाओं की है. 

लीबिया: उच्चस्तरीय बैठक में शान्ति को प्राथमिकता देने का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि लीबिया में हिंसक टकराव में प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से शामिल हर पक्ष को शान्ति के एक दुर्लभ अवसर का उपयोग करना चाहिये. लीबिया में हिंसा पर विराम लगाने के उद्देश्य से सोमवार को आयोजित एक उच्चस्तरीय वर्चुअल बैठक में महासचिव ने यह बात कही है. संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र के दौरान इस शिखर बैठक का आयोजन किया गया है.

अफ़ग़ानिस्तान में बढ़ती हिंसा के बीच शान्ति वार्ता पर ख़तरा

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र की वरिष्ठ अधिकारी ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि शान्ति वार्ता की औपचारिक शुरुआत से पहले देश में हिंसा रिकॉर्ड स्तर के नज़दीक पहुँच गई है जिससे अविश्वास का माहौल बन रहा है. यूएन महासचिव की ओर से नियुक्त विशेष प्रतिनिधि डेबराह लियोन्स ने आशंका जताई है कि मौजूदा हालात से सरकार और तालेबान के बीच होने वाली बहुप्रतीक्षित वार्ता के प्रयास विफल हो सकते हैं.   

लेबनान: बेरूत बन्दरगाह पर भीषण विस्फोट, प्रभावितों की मदद के लिये यूएन सक्रिय

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह इलाक़े में एक भीषण विस्फोट हुआ है जिसके बाद राहत अभियान में सक्रियता से सहायता प्रदान की जा रही है. विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि बेरूत के कई इलाक़े बुरी तरह थरथरा उठे. इस घटना में अनेक लोग हताहत हुए हैं जिनमें यूएन के शान्तिरक्षक भी हैं.

अफ़ग़ानिस्तान: नागरिकों की सुरक्षा को प्राथमिकता देने और शान्ति वार्ता शुरू करने का आग्रह

अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा में हताहत होने वाले आम नागरिकों की संख्या में वर्ष 2020 के पहले छह महीनों में 2019 की तुलना में 13 फ़ीसदी की कमी आई है, इसके बावजूद स्थानीय लोगों के लिये देश में परिस्थितियाँ अब भी घातक बनी हुई हैं जिनके मद्देनज़र संयुक्त राष्ट्र मिशन ने सभी पक्षों से आम लोगों की सुरक्षा को प्राथमिकता देने और शान्ति स्थापना के लिये बातचीत की मेज़ पर लौटने की पुकार लगाई है. यूएन की नई रिपोर्ट के मुताबिक 2020 के प्रथम छह महीनों के दौरान लगभग साढ़े तीन हज़ार आम लोग हताहत हुए हैं. इनमें एक हज़ार 282 की मौत हुई है ौर दो हज़ार 176 घायल हुए हैं. 

अफ़ग़ानिस्तान: शान्ति वार्ता से पहले हिंसा पर रोक व आम लोगों की रक्षा का आहवान 

अफ़ग़ान सरकार और तालिबान वार्ताकारों में शान्ति वार्ता की सम्भावनाओ के बीच अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (UNAMA) ने सभी पक्षों से आम नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रयास दोगुना करने का आग्रह किया है. यूएन मिशन ने कहा है कि इससे लोगों की ज़िन्दगियों की रक्षा करने और शान्ति वार्ता के लिए मददगार माहौल बनाना सम्भव होगा. यह शान्ति वार्ता क़तर की राजधानी दोहा में होनी है.