यज़ीदी

सिंजार पर्वत के इलाक़े में शरण लेने वाले यज़ीदियों ने सीरिया के रास्ते से फिर इराक़ में प्रवेश किया है.
© UNICEF/Khuzaie

इराक़: यज़ीदी समुदाय को न्याय दिलाने के लिये यूएन प्रमुख ने जताई प्रतिबद्धता

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस्लामिक स्टेट (दाएश) के बर्बरतापूर्ण कृत्यों से जीवित बच गए यज़ीदी समुदाय के व्यक्तियों की मदद के लिये, एक नया क़ानून जल्द लागू किये जाने का आग्रह किया है.

इराक़ में एक लड़का, कार के एक मलबे पर बैठा हुआ. इस कार को, आइसिल के लड़ाकों ने आग लगा दी थी. (फ़ाइल)
© UNICEF/Lindsay Mackenzie

आइसिल ने यज़ीदियों के जनसंहार को अंजाम दिया – यूएन जाँच दल

इराक़ में इस्लामिक स्टेट (दाएश/ISIL) के अपराधों व अत्याचारों की जाँच और उनकी जवाबदेही तय किये जाने के लिये गठित संयुक्त राष्ट्र टीम (UNITAD) ने कहा है कि वहां धार्मिक अल्पसंख्यक यज़ीदी समुदाय के जनसंहार के स्पष्ट व ठोस सबूत मिले हैं. विशेष सलाहकार और टीम के प्रमुख करीम ख़ान ने सोमवार को सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों को, जाँच में अब तक हुई प्रगति से अवगत कराया है.

दाएश द्वारा अगवा की गई सिन्जर की एक यज़ीदी कुर्द महिला इराक़ के अकरे विस्थापन शिविर में रह रही है.
Giles Clarke/ Getty Images Reportage

जनसंहार के छह वर्ष - यज़ीदी समुदाय के लिये न्याय सुनिश्चित करने की पुकार

आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (दाएश) ने छह वर्ष पहले इराक़ में धार्मिक अल्पसंख्यक यज़ीदी समुदाय के ख़िलाफ़ जनसंहारी कृत्य शुरू किये थे. इस दुखद अध्याय के पीड़ितों की स्मृति और उनके समर्थन में सोमवार को एक वर्चुअल समारोह का आयोजन हुआ जिसमें नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता नादिया मुराद ने अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से अत्याचारों का शिकार और यज़ीदी समुदाय के जीवित बच गए लोगों के लिये न्याय सुनिश्चित करने की पुकार लगाई है.