यातायात

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 15 अक्टूबर 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
10'29"

क्या हम परिवहन को सुरक्षित व टिकाऊ बना सकते हैं? सड़क सुरक्षा दूत ज्याँ तॉद के साथ एक इण्टरव्यू

बहुत से विकसित देशों ने जीवाश्म ईंधन के प्रयोग से चलने वाली कारों को, आने वाले दशकों में सड़कों से हटाने की योजनाओं का ऐलान किया है, मगर सड़क सुरक्षा के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत ज्याँ तॉद का ज़ोर है कि विकासशील देशों में, सार्वजनिक परिवहन साधनों की उपलब्धता और दुर्घटनाओं में कमी लाने की चुनौती जैसे तात्कालिक चिन्ता के कारण मौजूद हैं, जिनसे प्राथमिकता के आधार पर निपटे जाने की ज़रूरत है.

सड़क हादसों में होने वाली मौतें, एआई (AI) की मदद से की जा सकती हैं आधी

संयुक्त राष्ट्र के कुछ विशेष दूतों ने गुरूवार को, “सड़क सुरक्षा के लिये कृत्रिम बुद्धिमत्ता” (AI) नामक एक नई पहल शुरू करते हुए कहा है कि देशों व निवेशकों को, सड़कें हर किसी के लिये सुरक्षित बनाने की ख़ातिर, कृत्रिम बुद्धिमत्ता का विकास व प्रयोग बढाना होगा.

सड़क दुर्घटनाओं में मौतों की संख्या 2030 तक 50 फ़ीसदी कम करने का लक्ष्य

सड़क सुरक्षा पर स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में तीसरे मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में वर्ष 2030 तक कम से कम 50 फ़ीसदी की कमी लाने की पुकार लगाई गई है. सड़क दुर्घटनाओं में हर साल 13 लाख से ज़्यादा मौतें होती हैं, पांच करोड़ से ज़्यादा लोग घायल होते हैं और देशों को उनके सकल घरेलू उत्पाद में तीन फ़ीसदी तक का नुक़सान उठाना पड़ता है.

सड़क सुरक्षा: विशालकाय मगर अदृश्य बन चुके संकट से निबटने की पुकार

सड़कों पर यातायात सुरक्षा में बेहतरी करके लोगों की ज़िंदगियाँ बचाना भी 2030 के टिकाऊ विकास एजेंडा में एक लक्ष्य के रूप में शामिल है. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए लोगों की याद में मनाए जाने वाले दिवस के मौक़े पर जारी अपने संदेश मे ये बात कही है. ये दिवस नवंबर के तीसरे रविवार को मनाया जाता है और 2019 में ये 17 नवंबर को मनाया गया.