WHO

कोविड-19 ने उजागर की सामाजिक विषमता, कोवैक्स के तहत साढ़े तीन करोड़ ख़ुराकें वितरित

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौक़े पर अपने सन्देश में कहा है कि कोविड-19 स्वास्थ्य संकट ने, उजागर कर दिया है कि हमारे समाजों में कितनी विषमताएँ व्याप्त हैं.

कोविड-19: दुनिया भर में टीकाकरण के लिये, कोवैक्स के सामने पाँच प्रमुख चुनौतियाँ

संयुक्त राष्ट्र समर्थित कोवैक्स योजना का उद्देश्य, वर्ष 2021 के अन्त तक, दुनिया के निर्धनतम देशों की लगभग एक चौथाई यानि 25 प्रतिशत आबादी तक, कोरोनावायरस की वैक्सीन की लगभग दो अरब खुराकें पहुँचाना है. इस ऐतिहासिक प्रयास में कामयाबी हासिल करने के रास्ते में, कौन सी मुख्य चुनौतियाँ हैं जिन पर पार पाने की ज़रूरत है?

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 1 अप्रैल 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...
-------------------------------------------------------

ऑडियो -
14'43"

WHO की चेतावनी, योरोप में वैक्सीन टीकाकरण बहुत धीमा रहा है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के योरोप के लिये क्षेत्रीय कार्यालय ने कहा है कि योरोप में कोविड-19 की वैक्सीन के टीकाकरण की रफ़्तार “अस्वीकार्य स्तर तक धीमी” रही है और संक्रमण के नए मामले, लगभग सभी आयु के लोगो में फिर से उभरने लगे हैं. इस क्षेत्रीय कार्यालय के दायरे में 53 देश और क्षेत्र आते हैं.

कोविड-19: 'उत्पत्ति की रिपोर्ट अभी पूर्ण निष्कर्ष से दूर'

मनुष्यों में कोविड-19 वायरस का फैलाव कैसे शुरू हुआ, इसकी जाँच करने के लिये, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा चुने गई अन्तरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम की रिपोर्ट, मंगलवार को प्रकाशित हुई. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख ने इसे स्वागत योग्य क़दम क़रार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि यह अब भी सही निष्कर्ष से बहुत दूर है.

WHO: महामारी से निपटने की तैयारियों के लिये एक अन्तरराष्ट्रीय सन्धि की पेशकश

दुनिया की अनेक हस्तियों ने, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक के इस प्रस्ताव पर सहमति जताई है कि आने वाली पीढ़ियों की सुरक्षा की ख़ातिर, भविष्य में कोविड-19 जैसी महामारियों की रोकथाम व उनसे निपटने की तैयारियों के लिये, एक अन्तरराष्ट्रीय सन्धि वजूद में आनी चाहिये.

कोविड-19: वैक्सीन में असमानता की खाई, हर दिन हो रही है गहरी और चौड़ी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुखिया ने कहा है कि कोविड-19 की वैक्सीन, धनी देशों में जितनी ज़्यादा संख्या में लोगों को दी जा रही है, और कोवैक्स के तहत जिन देशों को ये वैक्सीन दी जा रही, उनके बीच का बढ़ता अन्तर, हर दिन अब बहुत विचित्र होता जा रहा है.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 12 मार्च 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
19'7"

चिन्ताओं के बीच, ऐस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन को WHO का समर्थन, जॉनसन वैक्सीन को मंज़ूरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि ऑक्सफ़र्ड-ऐस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन की एक विशिष्ट खेप से जुड़े ऐसे मामले उसके संज्ञान में हैं, जिनमें लोगों में, रक्त के थक्के जमने पर चिन्ताएँ जताई गई हैं. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने शुक्रवार को स्पष्ट किया है कि कोरोनावायरस की कोई भी वैक्सीन दिये जाने से अब तक कोई मौत होने की ख़बर नहीं है. 

वैक्सीनें कैसे कारगर होती हैं!

वैक्सीन टीके, हमारी रोग प्रतिरोधक प्रणाली को, वायरस की पहचान, पहले से ही करने और उसके ख़िलाफ़ सुरक्षा कवच बनाने में सक्षम बनाते हैं. वैक्सीन टीके, हमें सुरक्षित बनाते हैं और वायरस को फैलने से रोकते हैं. अगर पर्याप्त संख्या में, लोगों को टीके लग जाएँ, तो पूरे समुदाय की सुरक्षा की जा सकती है. देखें ये वीडियो...