विरोध प्रदर्शन

रूस की राजधानी मॉस्को का एक दृश्य
UN Photo/Paulo Filgueiras

रूस: सुरक्षा बलों में भर्ती किये जाने की मुहिम का विरोध, गिरफ़्तारियों पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने मंगलवार को बताया कि रूस में सरकार ने, यूक्रेन में लड़ाई के लिये, सुरक्षा बलों में भर्ती किये जाने की मुहिम का विरोध कर रहे क़रीब 2,400 लोगों को गिरफ़्तार किया है. 

श्रीलंका में घर-परिवार खाना पकाने के लिये ईंधन और बुनियादी वस्तुओं की भीषण क़िल्लत से जूझ रहे हैं.
© WFP/Josh Estey

श्रीलंका: आर्थिक व राजनैतिक संकट से घिरा देश, समाधानों के लिये सम्वाद पर बल

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने श्रीलंका में आर्थिक व राजनैतिक संकट की पृष्ठभूमि में एक वक्तव्य जारी करके, देश में गहरी आर्थिक चुनौतियों का समाधान ढूंढने के लिये सम्वाद की पुकार लगाई है. पिछले सप्ताहान्त, राजधानी कोलम्बो में व्यापक विरोध-प्रदर्शनों और प्रदर्शनकारियों द्वारा सरकारी निवास पर धावा बोले जाने के बाद श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्सा ने, अपने पद से हटने की घोषणा की थी, हालाँकि उन्होंने अभी औपचारिक त्यागपत्र नहीं दिया है.   

श्रीलंकी राजधानी कोलम्बो का एक नज़ारा
© UNSPLASH/Jalitha Hewage

श्रीलंका में गम्भीर संकट टालने के लिये रोकथाम उपायों पर बल

श्रीलंका में संयुक्त राष्ट्र की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर हैना सिंगर-हामदी ने श्रीलंका में मौजूदा घटनाक्रम व नाज़ुक परिस्थितियों पर चिन्ता जताते हुए कहा है कि मानवीय संकट की रोकथाम के लिये तुरन्त कारगर प्रयास किये जाने होंगे. यूएन न्यूज़ हिन्दी के साथ एक विशेष बातचीत...

ब्रिटेन के लन्दन शहर में श्रीलंका सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन.
© Unsplash/Ehimetalor Akhere Unuabona

श्रीलंका: गम्भीर हालात व हिंसक प्रदर्शनों के बीच, सम्वाद व संयम की अपील

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने श्रीलंका में गम्भीर हालात की पृष्ठभूमि में, हिंसा की रोकथाम करने, स्थानीय आबादी की पीड़ाओं पर मरहम लगाने, और आर्थिक चुनौतियों का समाधान ढूंढने के लिये अर्थपूर्ण सम्वाद का आग्रह किया है. देश में सत्ताधारी राजनैतिक दल के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शनों में कम से कम सात लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

म्याँमार में सैन्य तख़्तापलट के विरोध में जन प्रदर्शन
Unsplash/Pyae Sone Htun

म्याँमार: मानवाधिकार हनन के अति-गम्भीर मामले, पुख़्ता व समन्वित कार्रवाई की पुकार

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने मंगलवार को बताया है कि म्याँमार में फ़रवरी 2021 में सैन्य तख़्तापलट के बाद से अब तक, सुरक्षा बलों के हाथों एक हज़ार 600 से अधिक लोग मारे गए हैं, जबकि साढ़े 12 हज़ार से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है.

म्याँमार की राजधानी यंगून में शहर के बाहरी इलाक़ों में जाने के लिये सर्कुलर ट्रेन की यात्रा
Asian Development Bank/Lester Ledesma

म्याँमार: संकट का एक साल, समाधान अवसरों का लाभ उठाने पर बल

म्याँमार के लिये संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नोएलीन हेज़र ने कहा है कि देश में सैन्य तख़्तापलट के एक वर्ष बाद हिंसा व क्रूरता गहन हुई हैं, मगर संकट के समाधान के लिये अवसर अब भी मौजूद हैं और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को उनका लाभ उठाना होगा. 

म्याँमार में युवजन, लोकतंत्र के समर्थन में हो रहे एक प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे हैं.
Unsplash/Pyae Sone Htun

म्याँमार: आम लोगों की आवाज़ सर्वोपरि, यूएन प्रमुख का आग्रह 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने म्याँमार में सैन्य तख़्तापलट का एक वर्ष पूरे होने के मौक़े पर, आम लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त की है, और देश के समावेशी व लोकतांत्रिक समाज की दिशा में लौटने के लिये क़दम बढ़ाने का आहवान किया है. म्याँमार में सैन्य नेतृत्व ने लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई आंग सान सू ची सरकार को, एक फ़रवरी 2021 को बेदख़ल कर दिया था, जिसके बाद से देश राजनैतिक संकट से जूझ रहा है. 

कज़ाख़्स्तान के अलमाटी शहर का एक दृश्य.
© Unsplash/Alexander Serzhantov

कज़ाख़स्तान: 'तत्काल, स्वतंत्र व निष्पक्ष जाँच' कराए जाने की आवश्यकता पर बल

कज़ाख़स्तान में हाल ही में उपजी अशान्ति और विरोध-प्रदर्शनों में मृतक संख्या बढ़कर 164 तक पहुँच गई है. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने सुरक्षा बलों द्वारा घातक बल के अनावश्यक व ग़ैर-आनुपातिक इस्तेमाल और उनकी कार्रवाई में प्रदर्शनकारियों के मारे जाने की तत्काल, स्वतंत्र व निष्पक्ष जाँच कराए जाने का आग्रह किया है.

सूडान की राजधानी खारतूम की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन. यह तस्वीर 11 अप्रैल 2019 की है.
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान: सुरक्षा बलों की 'शर्मनाक' कार्रवाई में प्रदर्शनकारियों की मौत की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने सूडान में 25 अक्टूबर को सैन्य तख़्तापलट के बाद से, सुरक्षा बलों के हाथों कम से कम 39 लोगों के मारे जाने की निन्दा की है. इनमें से 15 लोगों की मौत बुधवार को ख़ारतूम, ख़ारतूम-बाहरी और ओमदुरमान में हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान हुई है.

अफ़ग़ानिस्तान में राजनैतिक अस्थिरता के बावजूद, यूएन एजेंसियाँ मानवीय राहत पहुँचाने में जुटी हैं.
© WFP/Arete/Andrew Quilty

विरोध प्रदर्शनों पर तालेबान का हिंसक होता रवैया – यूएन की मानवाधिकार चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने आगाह किया है कि अफ़ग़ानिस्तान के अनेक हिस्सों में, नया तालेबान प्रशासन पिछले चार सप्ताह से, शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध हिंसक कार्रवाई कर रहा है. इस दौरान गोलियों, लाठियों और कौड़ों का इस्तेमाल किया जा रहा है.