वायु प्रदूषण

बिजली संयंत्रों से होने वाला वायु प्रदूषण वैश्विक तापमान में वृद्धि करता है.
Unsplash/Maxim Tolchinskiy

'नीले आकाश के लिये स्वच्छ वायु का अन्तरराष्ट्रीय दिवस’, यूएन प्रमुख का सन्देश

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार, 7 सितम्बर, को ‘नीले आकाश के लिये स्वच्छ वायु का अन्तरराष्ट्रीय दिवस’ के अवसर पर स्वच्छ वायु व स्वस्थ प्रकृति को एक मानवाधिकार के रूप में रेखांकित किया है. उन्होंने सभी देशों से एक साथ मिलकर वायु प्रदूषण से निपटने और विश्व स्वास्थ्य संगठन की वायु गुणवत्ता दिशानिर्देशों को अमल में लाने की पुकार लगाई है. 

मंगोलिया के उलानबाटर में कोयला-चालित बिजली संयंत्रों में उत्सर्जन से वायु प्रदूषण
ADB/Ariel Javellana

प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन की दोहरी चुनौती, ‘जलवायु दण्ड’ के जोखिम में वृद्धि

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने अपनी एक नई रिपोर्ट में आगाह किया है कि ताप लहरों की आवृत्ति, गहनता और अवधि बढ़ने से ना केवल इस सदी में जंगलों में आग लगने की घटनाएँ बढ़ेंगी, बल्कि वायु गुणवत्ता भी बद से बदतर हो जाने की आशंका है. यूएन एजेंसी बुधवार, 7 सितम्बर, को ‘नीले आकाश के लिये स्वच्छ वायु का अन्तरराष्ट्रीय दिवस’ के अवसर पर मानव स्वास्थ्य और पारिस्थितिकी तंत्रों के लिये बढ़ते जोखिम के प्रति ध्यान आकृष्ट किया है. 

भारत में, 12 प्रदेशों में 47 हज़ार से भी ज़्यादा ईंट भट्टे, वायु प्रदूषण के प्रमुख केन्द्र हैं, क्योंकि वो ईंधन के लिये, कोयले का प्रयोग करते हैं.
UNDP India

भारत: स्वच्छ हवा और नीले आकाश के लिये नवीन प्रौद्योगिकी

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) ने ब्रिटेन के नॉटिंघम विश्वविद्यालय और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड्स के साथ मिलकर, वायु प्रदूषण की चुनौतियों का हल निकालने के लिये, अपनी तरह का पहला प्रौद्योगिकी मंच शुरू किया है. 

विश्व स्वास्थ्य दिवस 2012 (फ़ाइल चित्र): अच्छा स्वास्थ्य आयु को लम्बा करने में सहायक होता है.
WHO

मनुष्य और ग्रह को स्वस्थ रखने के लिये तुरन्त कार्रवाई की ज़रूरत क्यों?

सात अप्रैल को मनाए जाने वाले इस वर्ष के विश्व स्वास्थ्य दिवस की थीम है - हमारा ग्रह, हमारा स्वास्थ्य. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशिका, डॉक्टर पूनम खेत्रपाल सिंह का कहना है कि कोविड-19 से सबक़ सीखकर, हमें एक स्वस्थ, निष्पक्ष और हरित दुनिया के निर्माण के लिये तुरन्त कार्रवाई करने की आवश्यकता है.

भारत के कई राज्यों में हवा की ख़राब गुणवत्ता बड़ी चिंता का कारण है.
UN India

भारत: वायु प्रदूषण के ख़िलाफ़ प्रदेशों की मुहिम

भारत में वायु गुणवत्ता प्रबन्धन एक क्षेत्रीय मुद्दा है. विश्व बैंक, राज्य-व्यापी स्वच्छ वायु कार्य योजना विकसित करने के लिये, शहर स्तर पर योजना बनाने में उत्तर प्रदेश और बिहार प्रदेशों की  मदद कर रहा है, जिसे पूरे राज्य में विस्तार के लिये उपयोग किया जा सकेगा.

पिछले साल बुरुण्डी के गटुम्बा क्षेत्र में बाढ़ से 50 हज़ार से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं.
© UNICEF/Karel Prinsloo

स्वच्छ और स्वस्थ पर्यावरण का अधिकार: छह अहम बातें

8 अक्टूबर को जिनीवा में मानवाधिकार परिषद सभागार का करतल ध्वनि से गूंजना, एक असाधारण अनुभव था. यह, दशकों से पर्यावरण संरक्षण और अधिकार कार्यकर्ताओं द्वारा किये जा रहे अथक प्रयासों के फलीभूत होने का अवसर था.  

शाम के धुँधलके और प्रदूषण की चादर में चीन के शन्घाई शहर की एक तस्वीर.
© UNICEF/Roger LeMoyne

वैश्विक पर्यावरणीय संकटों से निपटने के लिये वायु गुणवत्ता में सुधार ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) की एक नई रिपोर्ट में वायु की गुणवत्ता को बेहतर बनाये जाने पर बल दिया गया है ताकि पृथ्वी पर मंडराते तीन बड़े संकटों – जलवायु परिवर्तन, जैवविविधता को नुक़सान और प्रदूषण व कचरे – से निपटने में मदद मिल सके. 

भारत के पंजाब राज्य में एक किसान फ़सल के अवशेष जलाने की तैयारी कर रहा है.
© CIAT/Neil Palmer

ज़हरीली लपटों से वातावरण पर दुष्प्रभाव - फ़सल अवशेष जलाने की महंगी क़ीमत 

पतझड़ का मौसम आने वाला है, और अनेक देशों में फ़सल की कटाई के बाद पराली (फ़सल अवशेष) जलाने का समय भी नज़दीक आ रहा है. किसानों द्वारा नई फ़सल की तैयारी के लिये अपनाए जाने वाले इन तरीक़ों से वायु प्रदूषण की समस्या और भी ज़्यादा गम्भीर रूप धारण कर लेती है.

विकसित देशों में इस्तेमाल किये हुए पुराने वाहनों की माँग विकासशील देशों ख़ासी बढ़ी है.
Unsplash/Steve Harvey

पुराने वाहनों के निर्यात से वायु गुणवत्ता और सड़क सुरक्षा को ख़तरा

अमेरिका, योरोप और जापान में अनेक वर्षों तक इस्तेमाल की जा चुकी लाखों कारों, वैन और मिनी बसों का निर्यात विकासशील देशों को किया जाता है, लेकिन ख़राब गुणवत्ता होने के कारण उनसे वायु प्रदूषण फैलता है और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने के प्रयासों में बाधाएँ पैदा होती हैं. संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) की एक नई रिपोर्ट में यह बात सामने आई है जो सोमवार को जारी की गई.

सूर्योदय का एक दृश्य. पृथ्वी की सलामती के लिये इन्सानों को बहुत ज़िम्मेदारी दिखानी होगी.
WMO/Boris Palma

नीले व चमकीले आकाश की ख़ातिर

सोमवार, सात सितम्बर को दुनिया भर में प्रथम “नीले आसमानों के लिये स्वच्छ वायु का अन्तरराष्ट्रीय दिवस” मनाया जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सभी इनसानों की रोज़मर्रा की ज़िन्दगी और स्वास्थ्य के लिये स्वच्छ वायु की अहमियत को ध्यान में रखते हुए ये दिवस मनाए जाने की मंज़ूरी दी है.