वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

उत्सर्जन

दुनिया भर में, हानिकारक गैसें, वातावरण में निरन्तर जारी हो रही हैं.
© Unsplash/Ehud Neuhaus

WMO: ग्रीनहाउस गैस के बढ़ते उत्सर्जनों का 'कोई अन्त नज़र में नहीं'

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने बुधवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा है कि वर्ष 2022 के दौरान ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुँच गया और इस बढ़ते चलन का कोई अन्त नज़र नहीं आता है.

बुरुंडी के गटुम्बा में बाढ़ के पानी के बीच से जाता एक व्यक्ति. इस इलाक़े में जलवायु परिवर्तन के कारण वर्षा अप्रत्याशित होती जा रही है.
© UNICEF/Karel Prinsloo

वैश्विक तापमान, अगले 5 वर्षों में रिकॉर्ड तोड़ मार्ग पर: WMO

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने बुधवार को जारी एक नई रिपोर्ट में कहा है कि गर्मी को समाहित करने वाली ग्रीनहाउस गैसों और प्राकृतिक अल नीनो मौसम स्थिति के कारण, अगले पाँच वर्षों में वैश्विक तापमान में रिकॉर्ड स्तर की वृद्धि होने की सम्भावना है.

वायु मशीनों के ज़रिए उत्पादित बिजली से, कोयला जैसे जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम होती है.
© Unsplash/Fabian Wiktor

IPCC: तत्काल जलवायु कार्रवाई हो, तभी सब के लिए रहने योग्य भविष्य सम्भव

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के अन्तर-सरकारी पैनल (IPCC) की एक प्रमुख रिपोर्ट में, ऐसे अनेक विकल्प गिनाए गए हैं जो इस समय, ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने और मानव-निर्मित जलवायु परिवर्तन के अनुकूलन के लिए, अपनाए जा सकते हैं.

ओमान के रेगिस्तान में, बारिश के बाद एकत्रित पानी.
WMO/Said Alshukaili

‘पक्के व सुस्पष्ट’ जलवायु तथ्यों से, वैश्विक तापमान वृद्धि की रोकथाम सम्भव

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को कहा है कि विश्व नेताओं को वैश्विक तापमान वृद्धि को तत्काल कम करने के लिए, ठोस वैज्ञानिक तथ्यों और दिशा-निर्देशों को सुनकर, उन पर अमल करने की ज़रूरत है. उन्होंने ये विचार, जलवायु परिवर्तन पर अन्तर-सरकारी पैनल )IPCC) के, सोमवार को शुरू हुए सत्र के लिए अपने वीडियो सन्देश में व्यक्त किए.

बहुत से कामगार सीसा प्रयोग दौरान संरक्षात्मक दस्ताने नहीं पहनते हैं जिससे, गम्भीर स्वास्थ्य परिणाम हो सकते हैं.
UNEP/Duncan Moore

UNEP: पारा प्रयोग से ग्रसित स्वर्ण खनन उद्योग से निबटने की पहल

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने, नौ देशों में पारा (Mercury) के प्रयोग की मात्र लगभग 37 टन घटाने के बाद अब, 15 अन्य प्रभावित देशों में, लघु स्तर वाले लाखों खनिकों की ख़ातिर हालात बेहतर बनाने के लिए, प्रयास तेज़ करने की योजनाएँ बनाई हैं.

ब्रिटिश एयरवेज़ का विमान 747 एक अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उड़ान भरने की तैयारी करते हुए.
Unsplash/Patrick Campanale

एक यूएन सम्मेलन में, ऐतिहासिक नैट-शून्य अन्तरराष्ट्रीय उड़ान लक्ष्य पर सहमति

अन्तरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन (ICAO) के सदस्य देशों ने, इस एजेंसी की 41वीं ऐसेम्बली में दो सप्ताह तक चली सघन राजनय के बाद, वर्ष 2050 तक नैट-शून्य उत्सर्जन का दीर्घकालीन लक्ष्य पारित किया है.

चाड के एक गाँव में, एक लड़की सौर ऊर्जा से संचालित रेडियो सुनते हुए.
© UNICEF/Frank Dejongh

जलवायु: दुनिया ने जीवाश्म ईंधन का जुआ खेला और हार देखी है, गुटेरेश की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि जीवाश्म ईंधनों जैसे सीमित मात्रा वाले संसाधनों के प्रयोग पर निर्भर, मौजूदा असीमित वृद्धि के वैश्विक आर्थिक रूप से, केवल मंहगाई, जलवायु अव्यवस्था और संघर्ष का तिहरा अभिशाप ही सामने आएगा.

इण्डोनेशिया के जकार्ता में, एक व्यक्ति, समुद्र के निकट बनाई गई लम्बी दीवार पर चलते हुए.
Climate Visuals Countdown/Irene Barlian

जलवायु अनुकूलन में जान फूँकने के लिये तेज़ प्रयासों की ज़रूरत, यूनेप

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने गुरूवार को प्रकाशित अपनी एक नई रिपोर्ट में कहा है कि जलवायु परिवर्तन अनुकूलन के लिये नीतियाँ व योजनाएँ बढ़ तो रही हैं, मगर वित्त और क्रियान्वयन अब भी पीछे है.

हानिकारक उत्सर्जन कम करने में राष्ट्रीय सरकारें ठोस मदद कर सकती हैं.
Unsplash/Daniel Moqvist

तापमान वृद्धि को रोकने में, मीथेन गैस कटौती की अहम भूमिका

संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि मानव गतिविधि द्वारा उत्पन्न मीथेन गैस का उत्सर्जन, इस दशक में 45 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है, जिससे पेरिस जलवायु समझौते की शर्तों के अनुरूप, वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने में मदद मिलेगी.

ज़िम्बाब्वे में सूखा की स्थिति ने ऐसा भीषण भुखमरी संकट उत्पन्न कर दिया है जो एक दशक में सबसे ज़्यादा गम्भीर है.
WFP/Matteo Cosorich

जलवायु रिपोर्ट, पृथ्वी ग्रह के लिये एक 'रैड ऐलर्ट', यूएन प्रमुख की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ा जलवायु कार्रवाई रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक तापमान वृद्धि का मुकाबला करने के प्रयासों में जितनी कार्रवाई करने की ज़रूरत है, दुनिया भर के देश उसके निकट कहीं भी नज़र नहीं आ रहे हैं.