UNGA77

यूएन महासभा के 77वें सत्र के लिये अध्यक्ष कसाबा कोरोसी.
UN Photo/Cia Pak

जनरल डिबेट का समापन: नई चुनौतियों से परिपूर्ण दौर में, वैश्विक एकजुटता पर बल

संयुक्त राष्ट्र महासभा में एक सप्ताह तक, सदस्य देशों की प्राथमिकताओं, उनके समक्ष मौजूद चुनौतियों व उनके प्रभावों पर विचार-विमर्श के बाद, जनरल ऐसेम्बली के 77वें सत्र का उच्चस्तरीय खण्ड सोमवार को समाप्त हो गया. यूएन महासभा अध्यक्ष ने अपने समापन सम्बोधन में कहा कि इस दौरान बड़ी संख्या में प्रतिभागियों की उपस्थिति दर्शाती है कि अन्तरराष्ट्रीय सम्बन्धों के परिप्रेक्ष्य में जनरल डिबेट कितनी अहम है. 

भावी पीढ़ियों की सुरक्षा और परमाणु निरस्त्रीकरण के लिये कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं.
CND/Henry Kenyon

दैनिक वीडियो बुलेटिन, 26 सितम्बर 2022

संयुक्त राष्ट्र महासभा के ऐतिहासिक 77वें सत्र का उच्चस्तरीय खण्ड सोमवार, 26 सितम्बर, को परमाणु हथियारों के उन्मूलन के लिये कार्रवाई की पुकार के साथ सम्पन्न हुआ. दैनिक वीडियो बुलेटिन... 

सीरियाई अरब गणराज्य के विदेश मंत्री फ़ैसल मिकदाद, यूएन महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए. 26 सितम्बर 2022).
UN Photo/Cia Pak

‘सीरिया पर युद्ध नाकाम हो गया है’ विदेश मंत्री का यूएन महासभा में सम्बोधन

सीरिया ने कहा है कि इस समय युद्धों से लेकर आतंकवाद के प्रसार और जलवायु जनित आपदाओं से जूझ रही एक उथल-पुथल भरी दुनिया - आधिपत्य, धनाड्यता प्रदर्शित करने वाले देशों और अन्य को अपने अधीन करने की उनकी महत्वाकांक्षाओं का परिणाम है. सीरिया के विदेश मंत्री फ़ैसल मिकदाद ने सोमवार को, यूएन महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए कही.

श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी ने यूएन महासभा के 77वें सत्र के दौरान जनरल डिबेट को सम्बोधित किया.
UN Photo/Cia Pak

श्रीलंका: मज़बूत लोकतांत्रिक व्यवस्था व आर्थिक स्थिरता के लिये सुधारों की तैयारी

श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी ने यूएन महासभा के 77वें सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा है कि देश में सामाजिक अशान्ति व विरोध प्रदर्शनों के लम्बे दौर के बाद, लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था व दीर्घकालीन आर्थिक स्थिरता बहाल करने के लिये संस्थागत फ़्रेमवर्क को मज़बूत किया जा रहा है.

चीन गणराज्य के विदेश मंत्री वांग यी, यूएन महासभा के 77वें सत्र की जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए. (24 सितम्बर 2022)
UN Photo/Laura Jarriel

चीन अशान्त दौर में ‘आशान्वित’, ‘एकल चीन’ नीति की पुष्टि भी

यूएन महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट में शनिवार को चीन का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री वांग यी ने करते हुए कहा है कि दुनिया में मौजूदा दौर उथल-पुथल भरा और रूपान्तरकारी है, उसके बावजूद, “आशान्वित होने के कारण” मौजूद हैं.

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने न्यूयॉर्क में यूएन महासभा के 77वें सत्र को सम्बोधित किया.
UN Photo/Laura Jarriel

बांग्लादेश: रोहिंज्या समुदाय की मौजूदगी से उपजी चुनौतियाँ, संयुक्त राष्ट्र से समर्थन का आग्रह

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने कहा है कि म्याँमार के साथ द्विपक्षीय बैठकों व बातचीत के बावजूद, रोहिंज्या विस्थापितों में से एक भी व्यक्ति की अभी तक अपने पैतृक घरों तक वापसी सम्भव नहीं हो पाई है. प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने शुक्रवार को यूएन महासभा के 77वें सत्र के दौरान उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए चिन्ता जताई कि बांग्लादेश में रोहिंज्या समुदाय की मौजूदगी से गम्भीर चुनौतियाँ पैदा हो रही हैं और इस संकट को सुलझाने के लिये यूएन के समर्थन की दरकार है.

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लैवरोफ़ ने शनिवार, 24 सितम्बर, को यूएन महासभा के सभ के दौरान उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित किया.
UN Photo/Cia Pak

रूस: यूक्रेन में ‘विशेष सैन्य अभियान’ के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था, विदेश मंत्री  

रूसी महासंघ के विदेश मंत्री सर्गेई लैवरोफ़ ने यूएन महासभा के 77वें सत्र की जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए कहा कि यूक्रेन की सरकार ने पूर्वी हिस्से में अपने ही लोगों के विरुद्ध युद्ध छेड़ा हुआ था, और पश्चिमी देश बातचीत के लिये असमर्थ नज़र आ रहे थे. इन हालात में रूस के पास यूक्रेन में तथाकथित विशेष सैन्य अभियान को शुरू करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था. 

भारत के विदेश मंत्री सुब्रहमण्यम, संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए (24 सितम्बर 2022).
UN Photo/Cia Pak

'हमें राजनय की शक्ति में भरोसा जारी रखना होगा', यूएन महासभा में भारत का सम्बोधन

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट में इस वर्ष भारत का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री डॉक्टर सुब्रहमण्यम जयशंकर ने किया और उन्होंने विश्व नेताओं को सम्बोधित करते याद दिलाया कि भारत, अपनी आज़ादी की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा है, जिसे उन्होंने “करोड़ों भारतीय लोगों के कड़े परिश्रम, पक्के इरादे, नवाचार, और उद्यशीलता की कहानी” क़रार दिया.

भूटान में एक महिला, छत पर सौर ऊर्जा पैनल को स्थापित करते हुए. सौर ऊर्जा का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है.
© ADB

दैनिक वीडियो बुलेटिन, 23 सितम्बर 2022

कोविड की सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदा स्थिति की समाप्ति निकट, रोज़गार सृजन, ऊर्जा तक बेहतर पहुँच व बेहतर भविष्य सुरक्षित करने पर - संयुक्त राष्ट्र में नेताओं की बैठक में समाधानों पर चर्चा. दैनिक वीडियो बुलेटिन...

नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफ़ज़ई, संयुक्त राष्ट्र की शान्ति दूत और मलाला कोष की संस्थापक हैं.
UN Photo/Mark Garten

यूएन शान्ति दूत मलाला यूसुफ़ज़ई के साथ विशेष बातचीत

नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता और यूएन शान्ति दूत मलाला यूसुफ़ज़ई ने संयुक्त राष्ट्र पार्टनरशिप कार्यालय की कार्यकारी निदेशिका ऐनी मैरी होउ के साथ, लड़कियों की शिक्षा मुद्दे पर ख़ास बातचीत की. मलाला ने विश्व नेताओं से लड़कियों के लिये स्कूलों को सुरक्षित बनाने और हर बच्चे के शिक्षा अधिकार की रक्षा करने का आहवान करते हुए कहा कि "अगर आप बच्चों के लिये एक सुरक्षित व टिकाऊ भविष्य बनाने के प्रति गम्भीर हैं, तो शिक्षा को गम्भीरता से लें...