तूफान

इस उपग्रह तस्वीर में नज़र आ रहा है - प्रशान्त के दक्षिणी हिस्से में स्थित टोंगा द्वीप के पास हुंगा टोंगा-हुंगा हाआपाई ज्वालामुखी विस्फोट का एक दृश्य.
©NOAA

टोंगा: समुद्री ज्वालामुखी विस्फोट से उपजे हालात में, 3 लोगों की मौत की पुष्टि

प्रशान्त द्वीप टोंगा में, बीते सप्ताहान्त विशाल व भयावह समुद्री ज्वालामुखी विस्फोट और उससे भड़के समुद्री तूफ़ान - सूनामी में अभी तक तीन लोगों की मृत्यु होने की ख़बरें मिली हैं. पूरे द्वीपीय क्षेत्र में, घरों और इमारतों को भी व्यापक क्षति हुई है.

15 जनवरी 2022 को समुद्र के भीतर फटे, हुंगा टोंगा-हुंगा ज्वालामुखी का हवाई चित्र
©UNICEF/NOAA

टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट: अभी नुक़सान आकलन सम्भव नहीं

संयुक्त राष्ट्र की मानवीय सहायता एजेंसियों ने सोमवार को कहा है कि प्रशान्त द्वीपों में सप्ताहान्त के दौरान समुद्र के भीतर फटे ज्वालामुखी के बाद, टोंगा की राजधानी नुकुआलोफ़ा राख और धूल से ढक गई है, मगर वहाँ स्थिति शान्त है और सफ़ाई के आरम्भिक प्रयास शुरू कर दिये गए हैं.

प्रशान्त महासागर में एक द्वीप का नज़ारा (फ़ाइल)
Bernard Spragg

टोंगा: समुद्री ज्वालामुखी फटने के बाद, सूनामी व राख के तूफ़ान में मदद के लिये, यूएन मुस्तैद

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने प्रशान्त देश टोंगा के निकट समुद्र के भीतर ज्वालामुखी फटने के बाद, समुद्री तूफ़ान – सूनामी और राख की आन्धी की ख़बरों पर गम्भीर चिन्ता व्यक्त की है जिससे टोंगा प्रभावित हुआ है.

हेती के दक्षिणी इलाक़े में, भूकम्प से प्रभावित लोगों की मदद के लिये, कैम्प पेरिन में, खाद्य सामग्री का वितरण.
© WFP/Marianela González

हेती में घातक भूकम्प के बाद, भुखमरी में तेज़ बढ़ोत्तरी

संयुक्त राष्ट्र के गुरूवार को जारी खाद्य सुरक्षा आँकड़ों में कहा गया है कि हेती में 14 अगस्त को आए भूकम्प से सर्वाधिक प्रभावित चार ज़िलों में, लगभग 9 लाख 80 हज़ार लोगों को, अत्यन्त गम्भीर खाद्य असुरक्षा के बीच रहना पड़ रहा है.

केनया में, टिड्डियों के एक दल का दृश्य. इन कीटों में फ़सलें तबाह करने की क्षमता मौजूद है जिनसे कृषि पर निर्भर परिवारों की आजीविकाएँ भी तबाह हो जाती हैं.
FAO/Sven Torfinn

टिड्डियों से लेकर चक्रवातों तक: आपस में जुड़ी आपदाओं की मानवीय क़ीमत

चरम पर्यावरणीय घटनाओं का लोगों के जीवन पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है, और संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट से स्पष्ट हुआ है कि उनमें से अनेक घटनाओं के अन्तर्निहित कारण समान और आपस में जुड़े हुए हैं.  इस रिपोर्ट के परिपेक्ष्य में, एक केनयाई किसान पर टिड्डियों के झुण्ड के प्रभाव का अवलोकन किया गया, और एक भारतीय कामगार पर चक्रवात अम्फ़ान का जायज़ा लिया.

हेती के दक्षिणी इलाक़े में, भूकम्प से प्रभावित लोगों की मदद के लिये, कैम्प पेरिन में, खाद्य सामग्री वितरित किये जाते हुे.
© WFP/Marianela González

हेती: यूएन प्रवासन एजेंसी ने जारी की, डेढ़ करोड़ डॉलर की मदद अपील

अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (IOM) ने हेती में, एक सप्ताह पहले आए शक्तिशाली भूकम्प और उष्णदेशीय तूफ़ान से प्रभावित हुए एक लाख 37 हज़ार परिवारों की मदद करने के लिये, डेढ़ करोड़ डॉलर की रक़म जुटाने की अपील जारी की है.

संयुक्त राष्ट्र की उप प्रमुख आमिना जे मोहम्मद, 21 अगस्त को, हेती के भूकम्प प्रभावित क्षेत्र का दौरा करते हुए, जहाँ 7.2 की तीव्रता वाले तूफ़ान ने भारी तबाही मचाई.
UNOCHA/Matteo Minasi

हेती: संकट की घड़ी में, देश के लोगों के हौसले की तारीफ़

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने बीते सप्ताह भीषण भूकम्प से प्रभावित हुए देश हेती का शुक्रवार को, दो दिन का दौरा शुरू करते हुए कहा है कि राहत और बचाव टीमें, दिन-रात काम में जुटी हैं, और वो हेती के लोगों की सहनक्षमता, बर्दाश्त और संयम देखकर चकित हैं.

हेती में 7.2 की तीव्रता वाले भूकम्प में क्षतिग्रस्त हुई कुछ इमारतों के पास मौजूद कुछ लोग.हेती में, भूकम्प के दो दिन बाद ही एक शक्तिशाली तूफ़ान भी आया था.
UNICEF/Georges Harry Rouzier

हेती: भीषण भूकम्प के कारण, हताहतों व तबाही का व्यापक दायरा

संयुक्त राष्ट्र ने बुधवार को कहा है कि हेती में, शनिवार, 14 अगस्त को 7.2 की तीव्रता वाला भूकम्प आने के चार दिन बाद, जान-माल के भीषण नुक़सान और हताशा व घबराहट का बढ़ता स्तर नज़र आ रहा है और मृतक संख्या लगभग दो हज़ार हो गई है.

हेती में, 14 अगस्त को आए, 7.2 की तीव्रता वाले भूकम्प ने, भारी तबाही मचाई है
IOM/Federica Cecchet

हेती: भूकम्प प्रभावित देश में, तीव्र बाढ़ और भूस्खलन की ताज़ा आशंका

हेती, एक तरफ़ तो सप्ताहान्त के दौरान आए भीषण भूकम्प से हुए जानमाल के भारी नुक़सान से उबरने के लिये संघर्ष कर रहा है, ऐसे में संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि सोमवार और मंगलवार को, ट्रॉपिकल दबाव लाले तूफ़ान से बहुत सारे लोगों के प्रभावित होने की आशंका है. इस तूफ़ान में बड़े पैमाने पर भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन होने की सम्भावना है.

बांग्लादेश के कूरीग्राम ज़िले में आई बाढ़ से होकर गुज़रते हुए कुछ लोग
© UNICEF/G.M.B. Akash

जलवायु संकट: अग्रिम मोर्चे वाले देशों के लिये समय बीता जा रहा है

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने गुरूवार को कहा है कि दुनिया के पास वैश्विक तापमान वृद्धि को 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे सीमित करने का लक्ष्य हासिल करने के लिये समय ख़त्म हो ता जा रहा है, जबकि जलवायु प्रभावित देशों के लिये ये जीवन-मृत्यु का मामला है और ये देश जलवायु संकट के अग्रिम मोर्चे पर हैं.