टीकाकरण

बांग्लादेश के एक स्वास्थ्य केंद्र में एक लड़की को कोविड-19 वैक्सीन की दूसरी ख़ुराक लगाई जा रही है.
© UNICEF/Iffath Yeasmine

अति-आवश्यक टीकों की सुलभता में वैश्विक विषमता, WHO रिपोर्ट

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की नवीनतम ‘वैश्विक वैक्सीन बाज़ार’ रिपोर्ट बताती है कि विश्व भर में वैक्सीन का असमान वितरण, केवल कोविड-19 टीकों तक ही सीमित नहीं है. सम्पन्न देशों में जिन वैक्सीन की मांग अधिक है, उन्हें प्राप्त करने के लिये निर्धन देशों को निरन्तर जूझना पड़ता है.

भारत के ओडीसा प्रदेश में, कोविड-19 की वैक्सीन का टीका लगाए जाते हुए.
© UNICEF/Priyanka Parashar

कोविड-19: 2022 में 10 लाख मौतों का 'त्रासद पड़ाव'

विश्व स्वास्थ्य संगठन – WHO के मुखिया डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसेस ने गुरूवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी से वर्ष 2022 के दौरान अब तक दस लाख लोगों की मौत हो चुकी है – जोकि एक त्रासद पड़ाव है और इसमें से, इस त्रासदी में से, ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को इसकी वैक्सीन का टीका लगाने का रास्ता निकलना चाहिये.

पुर्तगाल में लिस्बन के एक यौन स्वास्थ्य क्लिनिक के डॉक्टर अपने कम्प्यूटर स्क्रीन पर मंकीपॉक्स की छवि देखते हुए.
© WHO/Khaled Mostafa

WHO: मंकीपॉक्स संक्रमण के 35 हज़ार मामले

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि मंकीपॉक्स के संक्रमण मामले दुनिया भर में बढ़ रहे हैं और अभी तक 92 देशों व क्षेत्रों में, 35 हज़ार मामले सामने आ चुके हैं, 12 लोगों की मौत भी हुई है.

भारत में टीकाकरण.
© UNICEF/Sandeep Biswas

भारत में कोविड-19 की वैक्सीन के दो अरब टीके लगाए जाने का आँकड़ा पार

भारत में कोविड-19 की वैक्सीन के दो अरब टीके लगाए जाने का आँकड़ा पार - संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों के सक्रिय सहयोग पर, यूएन रैज़िडैण्ट कोऑर्डिनेटर शॉम्बी शार्प के साथ ख़ास (वीडियो) बातचीत...

मंकीपॉक्स के निशान, अक्सर हथेलियों पर नज़र आते हैं.
© CDC

मंकीपॉक्स: इस बीमारी के प्रसार व जोखिम से सम्बन्धित कुछ ज़रूरी जानकारी

मंकीपॉक्स कोई नई बीमारी नहीं है बल्कि कुछ अफ़्रीकी देशों में यह स्थानिक है. हालाँकि, मई 2022 में शुरू हुए इस अन्तरराष्ट्रीय प्रकोप के बाद, विश्व स्वास्थ्य संगठन  (WHO) ने इस बीमारी को एक अन्तरराष्ट्रीय चिन्ता वाली सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदा घोषित करना अनिवार्य समझा. आइये, जानते हैं, मंकीपॉक्स से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें...

यूक्रेन की राजधानी कीयेव में एक स्वास्थ्यकर्मी निजी बचाव परिधान व उपकरणों (PPE) के साथ.
© UNICEF/Evgeniy Maloletka

कोविड-19 की टीकाकरण रणनीति में, स्वास्थ्यकर्मियों और वृद्धजन को प्राथमिकता देने के लिये संशोधन

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कहा है कि कोविड-19 से निपटने की वैक्सीन का दुनिया भर में टीकाकरण होना वैसे तो, इतिहास में सबसे त्वरित गति का अभियान रहा है, मगर अब भी दुनिया भर में बहुत से लोग, इस बीमारी के जोखिम से महफ़ूज़ नहीं हैं. संगठन ने शुक्रवार को एक संशोधित टीकाकरण रणनीति की घोषणा भी की है.

टिकाऊ विकास का 2030 एजेण्डा, सर्वजन के लिये एक बेहतर व टिकाऊ भविष्य प्राप्ति का ब्लूप्रिन्ट है.
© UNDP

टिकाऊ विकास फ़ोरम: विविध चुनौतियों की पृष्ठभूमि में आशावाद का सन्देश

संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (ECOSOC) के अध्यक्ष कॉलेन विक्सेन केलापिल ने टिकाऊ विकास पर केन्द्रित एक वार्षिक फ़ोरम का उदघाटन करते हुए, एक शान्तिपूर्ण व समृद्ध विश्व के सृजन के लिये साझेदारियों को संवारने पर बल दिया है. 

मंकीपॉक्स का संक्रमण कभी-कभार ही सामने आता है, मगर यह ख़तरनाक साबित हो सकता है.
© Maurizio de Angelis/Science photo library

मंकीपॉक्स के फैलाव और ख़तरे की गम्भीरता पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की बैठक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने मंकीपॉक्स वायरस के फैलाव से उपजी स्थिति पर विचार-विमर्श के लिये अन्तरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियामक आपात समिति की बैठक बुलाए जाने की घोषणा की है. मंकीपॉक्स के मामलों की उन 32 देशों में भी पुष्टि हुई है, जहाँ आमतौर पर इसके संक्रमण के मामले सामने नहीं आते हैं.    

पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त के कराची शहर की गादब बस्ती में, 13 दिन के एक बच्चे को पोलियो की वैक्सीन पिलाते हुए. पाकिस्तान में पोलियो अभी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है.
UNICEF/Asad Zaidi

टीकाकरण से होती है स्वास्थ्य व जीवन रक्षा

टीकाकरण से हर साल कम से कम 40 से 50 लाख लोगों की जान बचती है. इस उल्लेखनीय सफलता की कहानी, हाल के दशकों में दुनिया भर में फैले बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियानों का परिणाम है. करोड़ों लोगों की जान लेने वाली चेचक को 1980 में पूरी तरह मिटा दिया गया और 1988 के बाद से पोलियो के मामले लगभग  99% घट गए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में टीकाकरण निदेशक, डॉक्टर केट ओ'ब्रायन, 18वीं शताब्दी के अन्त में पहली आधुनिक वैक्सीन के विकास से लेकर, आज की कोविड महामारी का मुक़ाबला करने वाले नए टीकों तक के ऐतिहासिक सफ़र पर ले जा रही हैं... (वीडियो फ़ीचर) 

बांग्लादेश के ढाका शहर में मलिन बस्तियों में रहने वाले परिवारों को कोविड-19 महामारी के दौरान आपातकालीन सहायता प्रदान की जा रही है.
UNDP/Fahad Kaizer

महामारी 'अभी ख़त्म नहीं हुई', स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने में सहयोग पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने जिनीवा में 'विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली' के 75वें वार्षिक सत्र को सम्बोधित करते हुए चेतावनी जारी की है कि कोविड-19 संक्रमण मामलों और मृतक संख्या में गिरावट के बावजूद अभी वैश्विक महामारी का अन्त नहीं हुआ है. उन्होंने वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये देशों के बीच पारस्परिक सहयोग को अहम बताया है.