स्वास्थ्य

#PledgetoPause: शेयर करने से पहले ज़रा ठहरें और सोचें

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरश ने दुनिया भर के लोगों को ऑनलाइन सामग्री शेयर करने यानि आगे बढ़ाने से पहले ठहरकर सोचने का आग्रह किया है क्योंकि कोविड-19 महामारी ने एक संचार आपदा भी पैदा कर दी है जिसमें सोशल मीडिया पर झूठी सूचनाएँ और ग़लत जानकारी फैलाई जा रही है.

दुनिया भर के ग़रीबों के साथ एकजुटता दिखाने की ज़रूरत पर ज़ोर

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरश ने ग़रीबी में जीवन जीने वाले लोगों के साथ एकजुटता दिखाने का आहवान किया है, कोविड-19 के दौरान और उसके बाद भी. यूएन प्रमुख ने शनिवार को अन्तरराष्ट्रीय निर्धनता उन्मूलन दिवस के अवसर पर एक वीडियो सन्देश में ये अपील जारी की. यह दिवस हर वर्ष 17 अक्टूबर को मनाया जाता है.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 16 अक्टूबर 2020

इस बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...
बहुतायत वाली दुनिया में करोड़ों लोगों को अब भी मयस्सर नहीं है, एक वक़्त की भरपेट भोजन ख़ुराक.
नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता World Food Program कैसे कर रहा है भुखमरी का मुक़ाबला, एक इंटरव्यू.

ऑडियो -
19'46"

करोड़ों को भरपेट भोजन मयस्सर नहीं, कोविड-19 बना मुसीबतों का पहाड़

वर्ष 2020 के दौरान भी दुनिया भर में करोड़ों लोगों को जीने के लिये काफ़ी बुनियादी भोजन ख़ुराक भी मयस्सर नहीं है क्योंकि जलवायु परिवर्तन और आर्थिक समस्याओं ने विश्व भर में भुखमरी का स्तर बढ़ा दिया है, और कोविड-19 महामारी ने तो ग़रीबी में मुसीबतों का पहाड़ ही खड़ा कर दिया है. विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) की एक ताज़ा रिपोर्ट में ये चिन्ता ज़ाहिर की गई है.

ग्रामीण महिलाओं को भविष्य के संकटों के मद्देनज़र मज़बूत करने की दरकार

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि ग्रामीण महिलाएँ कृषि, खाद्य सुरक्षा और भूमि व प्राकृतिक संसाधनों के प्रबन्धन में बहुत अहम भूमिका निभाती हैं मगर फिर भी वो भेदभाव का सामना करती हैं, उनके साथ व्यवस्थागत नस्लभेद होता है और वो ढाँचागत ग़रीबी में जीवन जीती हैं. 

एशिया प्रशान्त में बड़ी आबादी सामाजिक संरक्षा से वंचित

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि एशिया और प्रशान्त क्षेत्र में आधी से ज़्यादा आबादी को किसी तरह का सामाजिक संरक्षण हासिल नहीं है जिसके कारण बहुत बड़ी आबादी ख़राब स्वास्थ्य, ग़रीबी, असमानता और सामाजिक बहिष्करण का सामना करने को मजबूर है.

कोविड-19: निस्वार्थ सेवा और दयालुता की प्रेरक कहानियाँ : ‘भारत के महावीर’

भारत में संयुक्त राष्ट्र, भारत सरकार का नीति आयोग और डिस्कवरी इंडिया चैनल ने मिलकर 'भारत के महावीर’ नामक एक टेलीवीज़न सीरिज़ शुरू की है, जिसके तहत भारत के उन नायकों की कहानियाँ प्रसारित की जाएँगी, जिन्होंने कोविड-19 के ख़िलाफ़ जंग में निस्वार्थ भावना से सहयोग दिया है.  

खाद्य सप्ताह पर महासचिव का सन्देश

विश्व खाद्य सप्ताह पर यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश का सन्देश...

वैश्विक संकट से उबरने के लिये ज़्यादा समानता बहुत ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने कहा है कि पार-अटलाण्टिक दास व्यापार के प्रभावों की स्वीकार्यता, लोगों को दास बनाए जाने के चलन व उपनिवेशवाद की समीक्षा और मूल्याँकन के सन्दर्भ में बात करें तो नस्लवाद, पूर्वाग्रह व नफ़रत और असहिष्णुता के ख़िलाफ़ लड़ाई में वर्ष 2001 में हुआ डर्बन विश्व सम्मेलन एक मील का पत्थर साबित हुआ है.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 9 अक्टूबर 2020

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
20'2"