सुरक्षा

करोड़ों को भरपेट भोजन मयस्सर नहीं, कोविड-19 बना मुसीबतों का पहाड़

वर्ष 2020 के दौरान भी दुनिया भर में करोड़ों लोगों को जीने के लिये काफ़ी बुनियादी भोजन ख़ुराक भी मयस्सर नहीं है क्योंकि जलवायु परिवर्तन और आर्थिक समस्याओं ने विश्व भर में भुखमरी का स्तर बढ़ा दिया है, और कोविड-19 महामारी ने तो ग़रीबी में मुसीबतों का पहाड़ ही खड़ा कर दिया है. विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) की एक ताज़ा रिपोर्ट में ये चिन्ता ज़ाहिर की गई है.

बाधाओं से परे: फ़ातिमा ख़ामिस का शान्ति मिशन

सूडानी मूल की फ़ातिमा ख़ामिस  मध्य अफ्रीकी गणराज्य में संयुक्त राष्ट्र के मिशन में असाधारण योगदान कर रही हैं. कड़ी परम्पराओं वाले समाज में शिक्षा के लिये रास्ता बनाना और एक इजीनियर के रूप में काम करना फ़ातिमा ख़ामिस के लिये आसान नहीं रहा है, मगर उन्होंने बहुत सी बाधाएँ पार की हैं. उनकी कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी - शान्ति ही मेरा मिशन है - वीडियो श्रंखला में...

यूएन विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) को 2020 का नोबेल शान्ति पुरस्कार

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) को वर्ष 2020 का नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता घोषित किया गया है. ये संगठन दुनिया भर में करोड़ों लोगों को जीवनदायी खाद्य सहायता मुहैया कराता है, अक्सर बेहद ख़तरनाक और दुर्लभ परिस्थितियों में भी.

शान्ति ही मेरा मिशन है: रागिनी कुमारी

संयुक्त राष्ट्र के शान्ति अभियानों और विशेष राजनैतिक मिशनों में महिलाओं की भी महत्वपूर्ण भूमिका है. महिलाओं के योगदान को रेखांकित करती एक श्रृंखला जिसमें पहला वीडियो दक्षिण सूडान में तैनात, UNMISS की मूल्याँकन टीम लीडर, रागिनी कुमारी का... ‘शान्ति ही मेरा मिशन है’ ’नामक यह अभियान, 31 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1325 की 20वीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में 1 अक्टूबर से शुरू किया गया है. देखिये, रागिनी कुमारी की कहानी, उन्हीं की ज़ुबानी... (वीडियो)

जीवन, शान्ति मिशन, महिलाएँ, एक झरोखा

हमारे पास जीने के लिये एक ही जीवन है. सामान्य जीवन किसी सौभाग्य से कम नहीं है, क्योंकि जिन लोगों का जीवन संघर्ष या किसी तरह की तबाही में उलझ जाता है, उनके लिये उससे निकलना कभी-कभी तो असम्भव नज़र आता है. शान्ति मिशन में महिलाओं की भूमिका पर नज़र डालती एक वीडियो श्रृंखला...

यमन: युद्धरत पक्षों के बीच 1000 बन्दियों की रिहाई के लिये रज़ामन्दी

यमन में युद्धरत पक्ष बन्दियों के पहले समूह की रिहाई की के लिये रज़ामन्द हुए हैं. सप्ताहान्त के दौरान स्विट्ज़रलैण्ड़ में सप्ताह भर चली बैठक के आख़िर में ये रज़ामन्दी हुई जिसे संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत ने “एक बहुत ही महत्वपूर्ण पड़ाव” क़रार दिया है.

75वाँ सत्र: फ्राँस का बहुपक्षीय प्रणाली को पुनर्जीवित करने पर ज़ोर

फ्राँस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्राँ ने संयुक्त राष्ट्र की 75वीं महासभा की वार्षिक उच्च स्तरीय बहस के दौरान मंगलवार को ज़ोर देकर कहा कि कोरोनोवायरस महामारी से निपटने के लिये राष्ट्रों के बीच सहयोग बेहद ज़रूरी है. उन्होंने कहा कि महामारी को संयुक्त राष्ट्र को जगाने के लिये एक "बिजली के झटके" की तरह के अवसर के रूप में देखा जाना चाहिये. 

शान्ति दिवस: हथियार डालने का आग्रह

अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने दुनियाभर में संघर्षरत पक्षों से आग्रह किया कि वे अपने हथियार डालकर सदभाव का रास्ता अपनाएँ. महासचिव ने इस मौक़े पर वैश्विक युद्धविराम की याद भी दिलाई है. अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस 21 सितम्बर को मनाया जाता है. महासचिव का वीडियो सन्देश...

रमज़ान करीम संदेश

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने रमज़ान शुभकामना संदेश में कहा है कि इस बार का ये पवित्र मौक़ा बहुत मुश्किल भरे वक़्त में आया है. बहुत से लोग युद्ध और अशांन्ति वाले इलाक़ों में रहने को मजबूर हैं, उनका ख़याल रखना भी अहम है. साथ ही, महासचिव ने युद्धविराम की अपनी अपील भी दोहराई है...

मानवाधिकार दिवस: युवाओं की सक्रियता व ऊर्जा पर ध्यान

संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2019 के मानवाधिकार दिवस के मौक़े पर ख़ासतौर से युवाओं की सक्रियता व ऊर्जा पर ध्यान केंद्रित करते हुए सभी लोगों के लिए एक बेहतर भविष्य के निर्माण की दिशा में युवाओं की भूमिका को रेखांकित किया है.  मानवाधिकार दिवस हर वर्ष 10 दिसंबर को मनाया जाता है.