सुरक्षा

शांति निर्माण में 'बराबर के साझेदार' हैं युवा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव की विशेष दूत जयाथमा विक्रमानायके ने सुरक्षा परिषद को अपने संबोधन में कहा है कि उनका अनुभव बताता है कि युवा शांति की परवाह करते हैं. उन्होंने जॉर्डन में शरणार्थी शिविरों से लेकर ग़ाज़ा में यूएन राहत एवं कार्य एजेंसी के स्कूलों तक, कोसोवो में म्यूनिसपैलिटी से लेकर डेनमार्क में युवा परिषदों तक जारी प्रयासों को नज़दीक से देखने के बाद ये बात कही.