सोशल मीडिया

क्या आप वाक़ई ये शेयर करना चाहते हैं? ऑनलाइन भ्रान्तियों व तथ्यों में अन्तर!

वर्ल्ड वाइब वेब (www) का ईजाद होने के बाद से, हमें जानकारी और सूचनाओं की असीम उपलब्धता हो गी है. मगर हमें ख़तरनाक दुष्प्रचार और ग़लत जानकारी के फैलाव से भी दो-चार होना पड़ रहा है. दुष्प्रचार का मुक़ाबला करने के लिये, संयुक्त राष्ट्र द्वारा चलाए जा रहे अभियान – Verified के तहत, तथ्यों को, भ्रान्तियों व ग़लत जानकारी से छानने के लिये, एक ऑनलाइन कार्यक्रम शुरू किया गया है. इसका मक़सद नाज़ुक हालात वाले लोगों को सम्भावित नुक़सान बचाने में मदद करना भी है.

बांग्लादेश: हिरासत में रखे गए लेखक की मौत की पारदर्शी जाँच की माँग 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने बांग्लादेश में अदालती कार्रवाई शुरू होने से पहले, 9 महीने तक हिरासत में रखे गए एक लेखक मुश्ताक़ अहमद की मौत की पारदर्शी जाँच कराए जाने की मांग की है. लेखक मुश्ताक़ अहमद को कोविड-19 पर सरकार की जवाबी कार्रवाई की आलोचनात्मक टिप्पणियाँ, सोशल मीडिया पर साझा करने और एक लेख प्रकाशित करने के लिये हिरासत में लिया गया था. 

'फ़ेसबुक पर नफ़रत भरी सामग्री से मानव गरिमा के लिये गम्भीर चुनौतियाँ'

संयुक्त राष्ट्र के एक स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने फ़ेसबुक के निगरानी बोर्ड से, विवादास्पद सामग्री, विशेष रूप में घृणास्पद या नफ़रत फैलाने वाली सामग्री के बारे में कोई फ़ैसला करने से पहले, नस्लीय, धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों के अधिकारों को और ज़्यादा अहमियत देने का आहवान किया है. 

कोरोनावायरस संकट काल में सोशल मीडिया पर तस्करी के मामलों में उछाल

संयुक्त राष्ट्र की समिति ने सोशल मीडिया कम्पनियों से आग्रह किया है महिलाओं व लड़कियों की तस्करी का अन्त किये जाने के लिये ‘बिग डेटा’ और ‘आर्टिफ़िशियल इन्टैलीजेंस’ की मदद ली जानी होगी. विशेषज्ञों के मुताबिक कोविड-19 महामारी के दौरान ऑनलाइन माध्यमों पर पीड़ितों को तस्करी के जाल में फँसाये जाने की घटनाओं में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. 

कोविड-19: दुर्सूचना पर वाजिब चिन्ताएँ सुनी जाएँ और डर दूर किये जाएँ

कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया भर में व्याप्त अनिश्चितता, भय और चिन्ता के माहौल में संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ पदाधिकारी दुनिया भर में लोगों की बात सुनने, उनकी चिन्ताओं की वैधता को समझने और ग़लत जानकारी और विज्ञान पर आधारित सटीक सूचना के बीच अन्तर समझने में उनकी मदद करने के लिये तत्पर हैं.

'दुष्प्रचार की ख़तरनाक महामारी में नफ़रत हो रही है वायरल'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा है कि ऐसे समय जब दुनिया घातक विश्वव्यापी महामारी (Pandemic) कोविड-19 से जूझ रही है और लोगों की ज़िंदगियाँ बचाने के लिए स्पष्ट तथ्यों की तलाश जारी है, उस समय ग़लत जानकारियों की ख़तरनाक बीमारी भी फैल रही है. उन्होंने इस चुनौती को मिस-इन्फ़ोडेमिक (Misinfo-demic) का नाम देते हुए इसका समाधान 'भरोसे की वैक्सीन' बहाल करने के रूप में सुझाया है. 

क्राइस्टचर्च में यूएन प्रमुख ने सहिष्णुता और एकजुटता की अपील की

अपनी तीन-दिवसीय न्यूज़ीलैंड यात्रा के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने क्राइस्टचर्च की मस्जिदों में हुए हमले के पीड़ितों को श्रृद्धांजलि दी है. 15 मार्च को शुक्रवार की नमाज़ के दौरान एक बंदूकधारी ने दो मस्जिदों पर अंधाधुंध गोलीबारी की जिसमें 51 लोग मारे गए. हमले का सीधा प्रसारण बंदूकधारी ने सोशल मीडिया पर किया था.